1. home Hindi News
  2. religion
  3. shardiya navratri 2020 durga ma ke 32 naam ka jap chanting from today benefits murade hongi puri know importance of navdurga names mantra puja vidhi in hindi smt

Navratri 2020 : आज से जपें ये बत्तीस नामों की माला, घोर से घोर विपदा दूर करेंगी मां दुर्गे, मुरादे होंगी पूरी, जानें इनका महत्व

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Navratri 2020, 32 Names Of Durga Benefits
Navratri 2020, 32 Names Of Durga Benefits
Prabhat Khabar Graphics

Navratri 2020, 32 Names Of Durga Benefits : आज नवरात्रि शुरू हो गयी है. आज मां के सभी भक्त व्रत कर पूजा अर्चना करेंगे. मां भगवती ने अपने ही बत्तीस नामों की माला के एक अद्भुत गोपनीय रहस्यमय चमत्कारी जप का उपदेश दिया है जिसके करने से घोर से घोर विपत्ति, राज्यभय या दारुण विपत्ति से ग्रस्त मनुष्य भी भयमुक्त और सुखी हो जाता है. मां दुर्गा को अपने यह 32 नाम अति प्रिय हैं. इन्हें सुनकर मां दुर्गा वे पुलकित हो जाती हैं.

देहशुद्धि के बाद कुश या कम्बल के आसन पर बैठकर पूर्व या उत्तर की तरफ मुंह करके घी के दीपक के सामने इन नामों की 5/ 11/ 21 माला नौ दिन करनी है और जगत माता से अपनी मनोकामना पूर्ण करने की याचना करनी है.

मां दुर्गा के 32 नाम

  1. ॐ दुर्गा,

  2. दुर्गतिशमनी,

  3. दुर्गाद्विनिवारिणी,

  4. दुर्गमच्छेदनी,

  5. दुर्गसाधिनी,

  6. दुर्गनाशिनी,

  7. दुर्गतोद्धारिणी,

  8. दुर्गनिहन्त्री

  9. दुर्गमापहा,

  10. दुर्गमज्ञानदा,

  11. दुर्गदैत्यलोकदवानला,

  12. दुर्गमा,

  13. दुर्गमालोका,

  14. दुर्गमात्मस्वरुपिणी,

  15. दुर्गमार्गप्रदा,

  16. दुर्गम विद्या,

  17. दुर्गमाश्रिता,

  18. दुर्गमज्ञान संस्थाना,

  19. दुर्गमध्यान भासिनी,

  20. दुर्गमोहा, दुर्गमगा,

  21. दुर्गमार्थस्वरुपिणी,

  22. दुर्गमासुर संहंत्रि,

  23. दुर्गमायुध धारिणी,

  24. दुर्गमांगी,

  25. दुर्गमता,

  26. दुर्गम्या,

  27. दुर्गमेश्वरी,

  28. दुर्गभीमा,

  29. दुर्गभामा,

  30. दुर्गमो,

  31. दुर्गोद्धारिणी

  32. दुर्गमापहा

घर पर नवरात्रि की पूजा विधि

  • नवरात्रि में सुबह जल्दी उठें, स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहनें

  • इसके बाद मां दुर्गा की फोटो को लाल रंग के कपड़े में रखें

  • फिर पूजा की थाली को सजाएं उसमें सभी तरह की पूजा सामग्री को रखें

  • मिट्टी के पात्र में जौ के बीज को बोएं और नौ दिनों तक उसमें पानी का छिड़काव करें

  • नवरात्रि के पहले दिन यानी प्रतिपदा तिथि पर शुभ मुहूर्त में कलश को लाल कपड़े में लपटेकर स्थापित करें. कलश में गंगाजल डाले और आम की पत्तियां रखकर उस पर जटा नारियल रखें.

  • नारियल में लाल चुनरी को कलावा के माध्यम से बांधें

  • इसके बाद कलश को मिट्टी के बर्तन के पास जिसमें जौ बोएं है उसके पास रख दें. फूल- माला, रौली, कपूर, अक्षत और ज्योति के साथ मां दुर्गा की पूजा करें. यही प्रकिया रोज करें

  • नौ दिनों तक माँ दुर्गा का मंत्र का जाप करें और सुख-समृद्धि की कामना करें

  • अष्टमी या नवमी को दुर्गा पूजा के बाद नौ कन्याओं को घर पर बुलाकर उनका पूजन करें और उन्हें भोग लगाएं. नवरात्रि के आखिरी दिन मां दुर्गा की पूजा के बाद घट विसर्जन करें फिर बेदी से कलश को उठाएं

Posted By : Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें