1. home Hindi News
  2. religion
  3. raksha bandhan rakhi 2020 date and time tomorrow is the festival of brother and sister know the auspicious time of tying rakhi and importance of this day

Raksha Bandhan 2020 Date and Time: ये है रक्षाबंधन का सबसे शुभ पहर, जानें कब तक बांध सकते हैं राखी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Raksha Bandhan ka shubh muhurat: रविवार रात 08:36 बजे पूर्णिमा तिथि शुरू  हो गई .
Raksha Bandhan ka shubh muhurat: रविवार रात 08:36 बजे पूर्णिमा तिथि शुरू हो गई .
Twitter

Raksha Bandhan 2020 Date and Time, Puja Vidhi, Muhurat, Rashifal: रविवार रात 08:36 बजे से पूर्णिमा तिथि शुरू हो गई है. आज भाई-बहन का प्रेम का त्योहार रक्षाबंधन मनाया जाएगा. रक्षाबंधन का त्योहार श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है, इस दिन बहनें अपने भाईयों की कलाई पर राखी बांधकर उनके खुशहाल जीवन की कामना करती हैं. भाई भी अपनी बहनों को उनकी रक्षा करने का वचन देते हैं. राखी इस बार 3 अगस्त यानि आज है. खास बात ये है कि इस दिन सावन का सोमवार भी है. रक्षाबंधन पर भद्रायोग सुबह 9.30 पर ही समाप्त हो जाएगा, जिससे पूरे दिन राखी बांधने का समय रहेगा...

email
TwitterFacebookemailemail

ये है शुभ पहर

बता दें कि आज पूरे दिन बहन अपने भाई को राखी बांध सकती है. दरअसल, भद्रयोग आज सुबह 9.30 में ही खत्म हो गया है, जिसके कारण राखी कभी भी आज पूरे दिन बांधा जा सकता है. वैसे 1.35 के बाद सबसे शुभ पहर माना गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस तरह से भाइयों की कलाई पर बांधे राखी

राखी बंधवाते समय भाईयों को सिर पर रुमाल या कोई स्वच्छ वस्त्र रखना चाहिए. इसके बाद बहन सबसे पहले भाई के माथे पर रोली का टीका लगाएं. टीका के ऊपर अक्षत लगाएं और आशीर्वाद के रूप में भाई के ऊपर कुछ अक्षत छींटें. भाई की नजर उतारने के लिए दीप से आरती दिखाएं. कहीं-कहीं बहनें अपनी आंखों का काजल भी भाई को लगाती हैं. भाई की दायीं कलाई में राखी का पवित्र धागा, मंत्र बोलते हुए बांधे. इससे राखी के धागों में शक्ति का संचार होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें कब तक रहेगी पूर्णिमा तिथि

आज रात 9 बजकर 28 मिनट के बाद पूर्णिमा तिथि समाप्त हो जाएगी. सुबह 9.28 से 10.30 बजे तक शुभ, दोपहर 1.30 से 3 बजे तक चर की चौघड़िया, दोपहर 3 से 4.30 बजे तक लाभ की चौघड़िया, शाम 4.30 से 6 बजे तक अमृत की चौघड़िया, शाम 6 से 7.30 बजे चर की चौघड़िया का योग बन रहा है. दोपहर को 1 बजकर 35 मिनट से लेकर शाम 4 बजकर 35 मिनट तक बहुत ही अच्छा समय है, इसके बाद शाम को 7 बजकर 30 मिनट से लेकर रात 9.28 के बीच में बहुत अच्छा मुहूर्त है.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें अब राखी बाधने का सही समय

रक्षाबंधन का सबसे शुभ मुहूर्त है साढ़े नौ बजे से लेकर साढ़े ग्यारह बजे तक. यह एक ऐसा मुहूर्त है जो ना सिर्फ भाई-बहन को लंबी उम्र देगा, बल्कि उनके भाग्य को भी मजबूत बनाएगा. इसलिए शुभ मुहूर्त में राखी बांधने हो तो सुबह 9 बजकर 25 मिनट से सुबह 11 बजकर 28 मिनट तक बहन अपने भाई को राखी बांध लें. इसके बाद 1 बजकर 35 मिनट पर ही राखी बांधे. 11:28 बजे से लेकर 1:35 बजे के बीच में रखी नहीं बांधे. इस बीच अशुभ समय रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कब तक नहीं खोलनी चाहिए राखी

मान्यता है कि राखी बंधने के कम से कम एक पक्ष तक इसे नहीं खोलना चाहिए. अगर किसी कारणवश राखी खुल जाती है तो उसे बहते जल में प्रवाहित करना चाहिए या मिट्टी में भी दबा सकते हैं. राखी अधिक से अधिक समय तक अपने कलाई पर रखनी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

जनिए भाई के किन हाथों में बांधनी चाहिए राखी

रक्षाबंधन वाले दिन सबसे पहले राखी की थाली सजाएं. इस थाली में रोली, कुमकुम, अक्षत, पीली सरसों के बीज, दीपक और राखी रखें. भाई को तिलक लगाएं और उसके दाहिने हाथ में राखी बांधें. राखी बांधने के बाद भाई की आरती उतारें. फिर भाई को मिठाई खिलाएं. अगर बहन बड़ी है, तो भाई को उसके चरण स्‍पर्श करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

पूजा थाली में रखें ये भी सामग्री

आज भाई बहनों के अटूट रिश्ते का पर्व रक्षा बंधन है. बहनें राखी बांधने की पूरी तैयारी में लगी है. अब कुछ ही देर में शुभ मुहूर्त शुरू हो जाएगा. बहनें शुभ घड़ी का इंतजार कर रही है. राखी बाधने के लिए बहनें पूजा थाली सजाती है. राखी की थाली में कुमकुम, अक्षत यानी साबुत चावल, घी का दीपक, राखी, नारियल, मिठाई और पानी से भरा कलश रखती है, इसके अलावा अगर आप भाई को कुछ गिफ्ट देना चाहती हैं तो वो भी रख सकती हैं. कई जगह पूजा की थाली में पीले सरसो के बीज भी रखे जाते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

राखी बांधते समय थाली में रखे ये जरूरी चीजें

पानी का कलश - पूजा की थाली में तांबे का कलश होना होना चाहिए. कलश के पानी में तीर्थों और देवी-देवताओं का वास होता है, इसलिए भगवान और तीर्थों को साक्षी मानकर ये पवित्र कार्य किया जाता है.

चंदन और कुमकुम - रक्षाबंधन पर पूजा की थाली में चंदन और कुमकुम सबसे जरूरी होता है. धर्म ग्रंथों में बताया गया है कि किसी भी शुभ काम की शुरुआत तिलक लगाकर ही की जानी चाहिए, इसलिए रक्षाबंधन में सबसे पहले बहन अपने भाई के माथे पर तिलक लगाते हुए उसकी लंबी उम्र की कामना करती है.

चावल - तिलक के बाद माथे पर अक्षत लगाया जाता है. चावल को अक्षत कहा जाता है. जिसका अर्थ है अक्षत यानी जो अधूरा न हो. इस तरह अक्षत लगाने से ही रक्षाबंधन का कार्य पूर्ण माना जाता है.

नारियल - नारियल को श्रीफल कहा जाता है. श्री का अर्थ होता है लक्ष्मी और समृद्धि, इसलिए भाई-बहन के जीवन में लक्ष्मी और समृद्धि की कामना से पूजा की थाली में नारियल का होना जरूरी है.

रक्षा सूत्र (राखी) - मणिबंध यानी कलाई पर रक्षासूत्र बांधने से हर तरह के दोष खत्म होते हैं. माना जाता है कि मौली के धागे का कलाई की नसों पर दबाव पड़ने से सेहत संबंधी परेशानियां नहीं रहती.

मिठाई - राखी बांधने के बाद मिठाई खिलाना इस बात का संकेत है कि रिश्तों में कभी कड़वाहट न आए. धर्म ग्रंथों के अनुसार, हर शुभ काम को करने के बाद मुंह मीठा करना चाहिए. इससे मन प्रसन्न रहता है.

दीपक - दीपक की लौ से निकलने वाली ऊर्जा आसपास की नकारात्मक ऊर्जा को भाई-बहन से दूर रखती है, जिससे दोनों के बीच प्रेम बढ़ता है, इसलिए रक्षाबंधन के बाद दीपक जलाकर भाई की आरती की जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

रक्षा बंधन पर इन पांच वस्तुओं का मह‍त्व

दूर्वा (घास)- जैसे दूर्वा का एक अंकुर बो देने पर तेजी से फैलता है और हजारों की संख्या में उग जाता है. ठीक उसी प्रकार रक्षा बंधन पर भी कामना की जाती है कि भाई का वंश और उसमें सदगुणों का विकास तेजी से हो. सदाचार, मन की पवित्रता तीव्रता से बढ़ती जाए. दूर्वा विघ्नहर्ता गणेश जी को प्रिय है अर्थात् हम जिसे राखी बांध रहे हैं, उनके जीवन में विघ्नों का नाश हो जाए.

email
TwitterFacebookemailemail

अक्षत (चावल)- हमारी परस्पर एक दूजे के प्रति श्रद्धा कभी क्षत-विक्षत ना हो सदा अक्षत रहे.

email
TwitterFacebookemailemail

केसर- केसर की प्रकृति तेज होती है अर्थात् हम जिसे राखी बांध रहे हैं, वह तेजस्वी हो. उनके जीवन में आध्यात्मिकता का तेज, भक्ति का तेज कभी कम ना हो.

email
TwitterFacebookemailemail

चंदन- चंदन की प्रकृति शीतल होती है और यह सुगंध देता है. उसी प्रकार उनके जीवन में शीतलता बनी रहे, कभी मानसिक तनाव ना हो. साथ ही उनके जीवन में परोपकार, सदाचार और संयम की सुगंध फैलती रहे.

email
TwitterFacebookemailemail

सरसों के दाने- सरसों की प्रकृति तीक्ष्ण होती है अर्थात् इससे यह संकेत मिलता है कि समाज के दुर्गुणों को, कंटकों को समाप्त करने में हम तीक्ष्ण बनें. सरसों के दाने भाई की नजर उतारने और बुरी नजर से भाई को बचाने के लिए भी प्रयोग में लाए जाते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

कोरोना काल में घर पर बनी मिठाई को दें प्राथमिकता

आज पूरे देश में रक्षा बंधन का पर्व मनाया जा रहा है. इस समय कोरोना काल में घर की मिठाई को प्राथमिकता दें. उपहार और मिठाई में ऐसी चीजें दें, जो दोनों के लिए मंगलकारी और रूचिकर हो.

email
TwitterFacebookemailemail

राखी बंधवाते समय पीढ़े पर ही बैठें

आजकल लोग सोफे व कुर्सी पर बैठकर राखी बंधवा लेते हैं. यह उचित नहीं है, राखी बंधवाते समय पीढ़े पर ही बैठें, इससे शुद्धिकरण होता है और अच्छा प्रभाव पड़ता है. इतना ही नहीं व्यक्ति चुंबकीय रेखाओं से मुक्त हो जाता है. पीढ़े पर सिर्फ भाई को नहीं, बल्कि बहन को भी बैठना चाहिए. यही रक्षा सूत्र बांधने की सर्वोत्तम विधि है.

email
TwitterFacebookemailemail

राखी थाली सामग्री

राखी की थाली में कुमकुम, अक्षत यानी साबुत चावल, घी का दीपक, राखी, नारियल, मिठाई और पानी से भरा कलश रखें. इसके अलावा अगर आप भाई को कुछ गिफ्ट देना चाहती हैं तो वो भी रख सकती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

ऐसे बांधें राखी

राखी बांधने से पहले बहनें भाईयों के माथे पर रोली और अक्षत लगाती हैं. इसके बाद भाई की दाईं कलाई पर राखी बांधती हैं, इसके बाद बहन अपने भाई की आरती उतारती हैं. फिर भाई का मुंह मीठा किया जाता है. राखी बंधवाने के बाद भाई अपने बहन को उपहार देते हैं. बहनें राखी बांधते समय अपने भाई की लंबी उम्र और उन्नति की कामना करती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

राखी बांधने से पहले इन चीजों को थाली में रखें बहनें

राखी के दिन बहनें अपने भाई को राखी बांधने जा रही हैं तो उससे पहले ये देख लें कि पूजा की थाली में निम्न चीजें हैं या नहीं. विधिवत रक्षा सूत्र बांधने और पूजा करने के लिए थाली में राखी के अलावा रोली, कुमकुम, अक्षत, पीली सरसों के बीज, दीपक होना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

रक्षाबंधन पर बहनों को तोहफा, बस यात्रा मुफ्त

यूपी की योगी सरकार की ओर से रक्षाबंधन पर बहनों को बड़ी राहत दी गई है. महिलाएं आज राज्य परिवहन की सभी बसों में मुफ्त यात्रा कर सकती हैं. यहीं नहीं यूपी सरकार ने आज राखी और मिठाई की दुकानों को भी खोलने का फैसला किया है. बता दें, कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए यूपी में हर शनिवार और रविवार लॉकडाउन रहता है. लेकिन आज राखी का त्योहार होने के कारण योगी सरकार ने इसमें छूट दी है.

email
TwitterFacebookemailemail

रक्षाबंधन पर इस बार बन रहा आयुष्मान योग

रक्षाबंधन पर इस बार आयुष्मान योग बन रहा है, जो भाई-बहन को लंबी उम्र देगा. बताए गए शुभ मुहूर्त पर राखी बांधने से भाई-बहन का भाग्योदय होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

राखी बांधने का सबसे अच्छा समय

रक्षाबंधन का सबसे शुभ मुहूर्त है साढ़े नौ बजे से लेकर साढ़े ग्यारह बजे तक. यह एक ऐसा मुहूर्त है जो ना सिर्फ भाई-बहन को लंबी उम्र देगा, बल्कि उनके भाग्य को भी मजबूत बनाएगा. इसलिए शुभ मुहूर्त में राखी बांधने हो तो सुबह 9 बजकर 25 मिनट से सुबह 11 बजकर 28 मिनट तक बहन अहने भाई को राखी बंध लें. वहीं, शाम को बहनें राखी बांधना चाहती हैं, उनके लिए सर्वश्रेष्ठ समय शाम तीन बजकर 50 मिनट से लेकर शाम 5 बजकर 15 मिनट तक रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

क्यों नहीं बंधवाई जाती भद्रा काल में राखी

भद्रा काल में राखी न बंधवाने के पीछ पौराण‍िक मान्‍यता है. कहा जाता है कि लंका का राजा रावण ने भी अपनी बहन से भद्रा काल में राखी बंधवाई थी. इसके एक साल के भीतर ही उसका नाश हो गया. तबसे बहनें अपने भाई के राखी भद्रा काल में नहीं बांधती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

इस समय बहनें ना बांधे भाई को राखी

बहनें सुबह 5 बजकर 40 मिनट से सुबह 9 बजकर 30 मिनट तक अपने भाई को राखी ना बांधे. दरअसल, इस समय भद्रा रहेगी, इसमें राखी बांधने का मनाही होती है. इसके इसके अलावा इस समय कई और अशुभ योग बन रहे हैं. इस दौरान राखी ना बांधें. इस समय राहु काल भी रहेगा. अशुभ घड़ी 11 बजकर 28 मिनट से लेकर दोपहर 01 बजकर 07 मिनट तक रहने वाली है. इस समय भी भाई को राखी बांधने से बचना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

9:28 बजे के बाद ही बहनें बांधें राखी

सभी बहनों के लिए ज्योतिषाचार्यों ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि सुबह 9 बजकर 28 मिनट से पहले कोई बहन भाई को राखी न बांधे. इसकी वजह भद्रा काल है. इसके बाद ही कोई शुभ कार्य की सलाह दी जा रही है. रक्षाबंधन के दिन सुबह 9:28 बजे तक भद्रा काल रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

रक्षा बंधन के अलावा ये पर्व भी हैं सोमवार को

राखी के अलावा सोमवार 3 अगस्त 2020 को सावन पूर्णिमा, वेद माता गायत्री जयंती, अन्न वाधन, यजुर्वेद उपाकर्म, हयग्रीव जयंती, संस्कृत दिवस, नारली पूर्णिमा और सावन का पांचवां व अंतिम सोमवार भी पड़ रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

12 घंटे राखी बांधने के लिए शुभ

रक्षा बंधन यानी राखी 2020 कल सोमवार को देशभर में मनाया जाएगा. इस दिन सुबह 9 बजकर 28 मिनट से रात 9 बजकर 27 मिनट तक शुभ मुहूर्त रहेगा जिसमें बहनें भाइयों को राखी बांध सकती हैं. 3 अगस्त को श्रावण मास की पूर्णिमा भी है और सावन का आखिरी और पांचवां सोमवार भी इसी दिन पड़ रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

रक्षा बंधन 2020 : भद्रायोग सुबह 9.30 पर ही समाप्त हो जाएगा

राखी यानी रक्षा बंधन 2020 इस बार 3 अगस्त यानि कल सोमवार को पड़ रहा है. खास बात ये है कि इस दिन सावन सोमवार भी है यानी शिव जी का दिन. रक्षाबंधन पर भद्रायोग सुबह 9.30 पर ही समाप्त हो जाएगा. यानी इसके बाद पूरे दिन राखी बांधने का उत्तम समय रहेगा. ज्योतिष गणना के सुबह 6:51 बजे से ही सर्वार्थ सिद्धि योग का आरंभ है. यह अत्यंत फलदाई योग माना गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

रक्षाबंधन के मौके पर बहनों को बड़ी राहत

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने रक्षाबंधन के मौके पर बहनों को बड़ी राहत दी है. महिलाएं सोमवार को राज्य परिवहन की सभी बसों में मुफ्त में यात्रा कर सकेंगी. इसके अलावा राखी और मिठाई की दुकानों को भी सरकार ने खोलने का फैसला लिया है.

email
TwitterFacebookemailemail

कोविड-19 : रक्षाबंधन पर मिठाई उद्योग को लग सकती है 5,000 करोड़ रुपये की चपत

इंदौर (मध्य प्रदेश) : भाई-बहन के पवित्र रिश्ते के त्योहार रक्षाबंधन की कल्पना मिठाइयों के बिना नहीं की जा सकती। लेकिन इस बार कोविड-19 के प्रकोप ने मिठाइयों का कारोबार फीका कर दिया है. मिठाई निर्माताओं के एक राष्ट्रीय महासंघ का कहना है कि ग्राहकों की जेब पर महामारी की मार के साथ ही अलग-अलग राज्यों में प्रशासन के कथित कुप्रबंधन के कारण रक्षाबंधन पर मिठाइयों की बिक्री घटकर आधी रह जाने का अनुमान है.

email
TwitterFacebookemailemail

सावन के आखिरी सोमवार को है राखी

भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार 3 अगस्त यानि कल मनाया जाएगा, इसी दिन सावन का आखिरी सोमवार भी है, जिसकी वजह से रक्षाबंधन का महत्व और बढ़ गया है. रक्षाबंधन का त्योहार सावन माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है. ये रक्षाबंधन बहुत खास होने वाला है क्योंकि इस दिन ग्रह-नक्षत्रों के अद्भुत संयोग बन रहे हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

भद्रा में नहीं बांधनी चाहिए राखी

कल रखी का त्योहार है. राखी शुभ मुहूर्त में बांधनी चाहिए. राखी बांधने के समय भद्रा नहीं होनी चाहिए. कहते हैं कि रावण की बहन ने उसे भद्रा काल में ही राखी बांध दी थी, इसलिए रावण का विनाश हो गया.

email
TwitterFacebookemailemail

इस मंत्र का जाप कर बांधें राखी

भाई को तिलक और राखी बांधते समय बहनों को ‘येन बद्धो बलिराजा, दानवेन्द्रो महाबलः तेनत्वाम प्रति बद्धनामि रक्षे, माचल-माचलः’ मंत्र का जापकर शुभ माना गया है. कहा जाता हैं कि इससे विशेष फल की प्राप्ति होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

राखी बांधने के लिए दो चरणों में है शुभ मुहूर्त

सावन पूर्णिमा की तिथि दो अगस्त को रात्रि 8. 43 बजे शुरू होगी, इसके आरंभकाल से तीन अगस्त की सुबह 9.28 बजे तक भद्रा रहेगी. भद्रा समाप्ति के बाद राखी बांधी जा सकती है. वैसे तीन अगस्त को राखी बांधने के लिए दो चरणों में शुभ मुहूर्त मिलेंगे. पहला दोपहर में 1.35 बजे से शाम 4. 35 बजे तक है, इसके बाद शाम 7.30 बजे से रात 9.30 बजे के बीच बहुत अच्छा मुहूर्त है.

email
TwitterFacebookemailemail

रखी का महत्व

रक्षाबंधन पर्व से जुड़ी एक पौराणिक कथा प्रचलित है. जिसके अनुसार एक बार देवताओं और असुरों में युद्ध आरंभ हो गया था, जिसमें देवताओं को हार की स्थिति समझ आ रही थी. तब इंद्र की पत्नी इन्द्राणी ने देवताओं के हाथ में रक्षा कवच बांधा, जिससे देवताओं की विजय हुई. माना जाता है कि यह रक्षा विधान श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि पर ही शुरू किया गया था.

email
TwitterFacebookemailemail

राखी का मुहूर्त

03 अगस्त को सुबह 9 बजकर 28 मिनट के बाद किसी भी समय राखी बांधी जा सकती है. वैसे राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त दोपहर 01 बजकर 48 मिनट से शाम 04 बजकर 29 मिनट तक रहेगा. दूसरे शुभ मुहूर्त की बात करें तो ये शाम 07 बजकर 10 मिनट से रात 09 बजकर 17 मिनट तक रहेगा. रक्षा बंधन का पर्व रात 09 बजकर 17 मिनट तक मनाया जा सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

कैसे मनाएं रक्षाबंधन

राखी की थाल सजा लें. जिसमें रोली, चंदन, अक्षत, दही, रक्षा सूत्र यानी राखी और मिठाई रखें. इसके बाद घी का दीपक भी जलाकर रख लें. रक्षा सूत्र और पूजा की थाल सबसे पहले भगवान को समर्पित करें, इसके बाद भाई को पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ मुख करके बिठाएं. सबसे पहले भाई के माथे पर तिलक लगाएं. रक्षा सूत्र बांधें और आरती करें, इसके बाद भाई को मिठाई खिलाएं. ध्यान रखें कि राखी बांधने के समय भाई और बहन दोनों का सिर ढका होना चाहिए, इसके बाद अपने बड़ों का आशीर्वाद लें.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें