1. home Home
  2. religion
  3. chandra grahan live updates lunar eclipse november 2021 date time chandra grahan kab lagega biggest lunar eclipse of this century on 19 november sry tvi

Chandra Grahan 2021: चंद्र ग्रहण खत्म, 15 दिन बाद दिखेगा सूर्य ग्रहण का नजारा 

ज्योतिष और वैज्ञानिक गणना के अनुसार इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण आज 19 नवंबर, शुक्रवार के दिन पड़ रहा है. हिंदू पंचाग के अनुसार आज के दिन ही कार्तिक पूर्णिमा भी है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Chandra Grahan or Lunar Eclipse November 2021 Date and Time in India
Chandra Grahan or Lunar Eclipse November 2021 Date and Time in India
Prabhat Khabar Graphics

Chandra Grahan or Lunar Eclipse November 2021 Date and Time in India: ज्योतिष और वैज्ञानिक गणना के अनुसार इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण आज 19 नवंबर, शुक्रवार के दिन पड़ रहा है. हिंदू पंचाग के अनुसार आज के दिन ही कार्तिक पूर्णिमा भी है.

email
TwitterFacebookemailemail

15 दिन बाद दिखेगा सूर्य ग्रहण का नजारा

आज से ठीक 15 दिन बाद यानी 4 दिसंबर को सूर्य ग्रहण भी लगने जा रहा है. हिंदू पंचांग अनुसार सूर्य ग्रहण मार्गशीर्ष मास की अमावस्या के दिन शनिवार को लगेगा. यह सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

अगले साल लगेंगे कुल चार ग्रहण

ज्योतिषशास्त्र के मुताबिक अगले साल 2022 में कुल चार ग्रहण लगेंगे. इनमें दो सूर्य और दो चंद्र ग्रहण होंगे. साल का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल 2022 को लगेगा और 15 दिन बाद 15 मई को साल का पहला चंद्र ग्रहण भी लग रहा है. यह पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा, जो भारत में भी प्रभावी होगा. ग्रहण का प्रभाव दक्षिणी/पश्चिमी अमेरिका, अटलांटिक और अंटार्कटिका में नजर आएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

साल 2022 में लगेगा अगला चंद्र ग्रहण...

19 नवंबर 2021 लगने जा रहे इस साल के आखिरी चंद्र ग्रहण के बाद अगला चंद्र ग्रहण साल 2022 में 8 नवंबर को होगा. यानी कि इस चंद्र ग्रहण के बाद दोबारा ऐसी खगोलीय घटना को देखने के लिए खगोलप्रेमियों को 1 साल तक का तो इंतजार करना ही पड़ेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कब खत्म होगा ग्रहण

सदी का सबसे लंबा चलने वाला ग्रहण जारी है.आज सुबह 11 बजकर 34 मिनट से ग्रहण शुरू हुआ.  इस ग्रहण का समापन शाम 5 बजकर 33 मिनट पर होगी. लेकिन उपच्छाया चंद्र ग्रहण करीब शाम 6 बजे खत्म होगा. ऐसे में यह करीब 6 घंटे तक रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत में इन जगहों पर दिख रहा है चंद्र ग्रहण का खूबसूरत नजारा

साल 2021 का यह आखिरी चंद्रग्रहण भारत में सिर्फ पूर्वोत्तर हिस्सों में कुछ ही देर के लिए दिखाई देगा. सूर्यास्त होते समय ही इस चंद्रग्रहण को अरुणाचल प्रदेश और असम के कुछ क्षेत्रों में देखा जा सकेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण इस राशि और नक्षत्र में जारी

आंशिक चंद्र ग्रहण जारी है. दुनिया के कई हिस्सो में चंद्रग्रहण प्रारंभ हो चुका है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस बार चंद्रग्रहण वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लग रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण के बुरे प्रभावों से बचने के लिए क्या करें?

चंद्र ग्रहण के प्रभावों के प्रकोप को कम करने के लिए आप इस दिन गुरू मंत्र का जप अवश्य करें. गुरू ग्रह के बीज मंत्र ऊं ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरुवे नम: बीज मंत्र का यथासंभव जप करें.

email
TwitterFacebookemailemail

आज चंद्रग्रहण पर गुरु-शनि का मकर राशि में संयोग

आज आंशिक चंद्र ग्रहण चल रहा है। ऐसे में गुरु-शनि मकर राशि में विराजमान है और चंद्रमा वृषभ राशि में. गुरु-शनि और चंद्रमा का ऐसा योग 59 साल के बाद बना है. इससे पहले इस तरह का योग 19 फरवरी 1962 में हुआ था.

email
TwitterFacebookemailemail

अब वर्ष 2022 में लगेगा अगला चंद्र ग्रहण

आज (19 नवंबर 2021) लगने जा रहे इस साल के आखिरी चंद्र ग्रहण के बाद अगला चंद्र ग्रहण साल 2022 में 8 नवंबर को होगा. यानी कि इस चंद्र ग्रहण के बाद दोबारा ऐसी खगोलीय घटना को देखने के लिए खगोलप्रेमियों को 1 साल तक का तो इंतजार करना ही पड़ेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

इन हिस्सों से देख सकते हैं चंद्रग्रहण

अरुणाचल प्रदेश और असम को छोड़कर देश के अधिकांश हिस्सों में आंशिक चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देगा. अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत महासागर क्षेत्र के कुछ हिस्से इस घटना का अनुभव कर सकेंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण समाप्ति के बाद दान जरूर करें

मंदिर स्थल पर गंगा जल छिड़कने के बाद साफ=सफाई करें. उसके बाद देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें.

ग्रहण खत्म होने के बाद गाय को रोटी खिलाने से शुभ फल की प्राप्ति होती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गाय को भोजन कराने से सभी तरह के ग्रहण दोषों से मुक्ति मिलती है.

ग्रहण खत्म होने के बाद स्नान करें और फिर दान के लिए कुछ पैसे -सामग्री जरूर निकालें. घर के सभी सदस्य दान की सामग्री को हाथ लगाएं आर फिर किसी गरीब को वह सामग्री दान कर दें.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण समाप्ति के बाद ये करें

ज्योतिष और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार चंद्र ग्रहण के बाद स्नान करना जरूरी माना गया है. ऐसा माना जाता है कि स्नान करने से ग्रहण का प्रभाव समाप्त हो जाता है. नहाने के पानी में गंगा जल डालकर स्नान करने से लाभ होता है.

ग्रहण की समाप्ति के बाद स्नान करें और फिर साफ-स्वच्छ वस्त्र पहनना जरूरी है. ग्रहण के दौरान पहने गए कपड़ों को धोने के बाद ही दूबारा इस्तेमाल करना चाहिण्.

ग्रहण समाप्ति के बाद तुरंत स्नान करके सबसे पहले पूरे घर में गंगा जल का छिड़काव करना जरूरी माना गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

इन राशि के जातकों के लिए अशुभ है आज का चंद्र ग्रहण

  • मेष

  • कन्या

  • तुला

  • कुंभ

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के दौरान करें ये काम

: ग्रहण के दौरान भगवान का स्मरण करना चाहिए.

: अपने मन में नकारात्मक विचार नहीं रखने चाहिए.

: ग्रहण के दौरान मंत्रों का जाप करना चाहिए.

: ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को सोने से परहेज करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

वाद-विवाद खर्च से बचें ये राशि वाले

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, साल का दूसरा और अंतिम चंद्रग्रहण वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लगेगा. वृषभ, कन्या, वृश्चिक, धनु और मेष राशि वालों पर चंद्र ग्रहण का सबसे ज्यादा असर पड़ेगा.इस दौरान इन राशि वालों को वाद-विवाद से बचना चाहिए और बेवजह खर्चों से बचने की सलाह दी जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

11 बज कर 34 मिनट से शुरू होगा चंद्र ग्रहण

  • कब लगेगा चंद्र ग्रहण : शुक्रवार सुबह 11 बज कर 34 मिनट से शुरू होगा

  • कब खत्म होगा : शाम 5 बजकर 33 मिनट पर समाप्त होगा

  • कितनी होगी अवधि : चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे 59 मिनट की होगी

  • सूतक काल : शुक्रवार तड़के 1 बजे के बाद शुरू होगा फिर शाम 6 बजे के आसपास खत्म होगा

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण 2021 किन राशियों के लिए शुभ किनके लिए अशुभ

चंद्र ग्रहण तुला, कुंभ और मीन राशि वालों के लिए शुभ रहने के आसार हैं. जबकि सिंह, वृश्चिक और वृषभ राशि वालों के लिए अच्छा नहीं माना जा रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

कैसे देख सकते हैं लाइव चंद्र ग्रहण...

जिनके यहां चंद्र ग्रहण नहीं लग रहा है वो इस अद्भुत घटना का नजारा लाइव यूट्यूब चैनलों के माध्यम से देख सकते हैं। ग्रहण की लाइव स्ट्रीमिंग के लिए Virtual Telescop, Timeanddate, CosmoSapiens चैनल प्रसिद्ध है. इसे नासा की लाइव स्ट्रीम पर भी देख सकते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

फिर अगले साल लगेगा चंद्र ग्रहण

आज (19 नवंबर 2021) लगने जा रहे इस साल के आखिरी चंद्र ग्रहण के बाद अगला चंद्र ग्रहण साल 2022 में 8 नवंबर को होगा. यानी कि इस चंद्र ग्रहण के बाद दोबारा ऐसी खगोलीय घटना को देखने के लिए खगोलप्रेमियों को 1 साल तक का तो इंतजार करना ही पड़ेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

खास है यह चंद्र ग्रहण, 580 साल बाद लगेगा

आपको बता दें कि आज यानि 19 नवंबर का चंद्र ग्रहण बेहद खास है, क्‍योंकि ऐसा चंद्र ग्रहण 580 साल के बाद लगने वाला है. आपको बता दें कि यह चंद्र ग्रहण पिछले 580 साल का सबसे लंबा आंशिक चंद्र ग्रहण होगा. इस चंद्र ग्रहण की अवधि करीब साढ़े तीन घंटे की रहने वाली है. भारत में यह चंद्र ग्रहण दोपहर को 12:48 बजे से 04:17 मिनट तक होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्रग्रहण का समय

आज ( 19 नवंबर 2021) कई सदियों बाद देश-दुनिया के लोग चंद्र ग्रहण का ऐसा नजारा देखेंगे, जब आंशिक चंद्र ग्रहण काफी लंबे समय तक होगा. यह 19 नवंबर को साल का आखिरी और दूसरा चंद्रग्रहण है. माना जा रहा है आज लगने वाला यह चंद्रग्रहण 580 साल के बाद सबसे लंबा आंशिक चंद्रग्रहण है। इससे पहले साल 1440 में कुछ इसी तरह का चंद्र ग्रहण लगा था.

email
TwitterFacebookemailemail

19 नवंबर के शुभ मुहूर्त

ब्रह्म मुहूर्त- 05:00 am से 05:54 am

प्रातः सन्ध्या- 05:27 am से 06:47 am

अभिजित मुहूर्त- 11:45 pm से 12:28 pm

गोधूलि मुहूर्त- 05:15 pm से 05:39 pm

सायाह्न सन्ध्या- 05:26 pm से 06:46 pm

अमृत काल- 01:47 am, नवम्बर 20 से 03:35 am, नवम्बर 20

email
TwitterFacebookemailemail

इन राशियों पर पड़ेगा असर

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, साल का दूसरा और अंतिम चंद्रग्रहण वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लगेगा. वृषभ, कन्या, वृश्चिक, धनु और मेष राशि वालों पर चंद्र ग्रहण का सबसे ज्यादा असर पड़ेगा.इस दौरान इन राशि वालों को वाद-विवाद से बचना चाहिए और बेवजह खर्चों से बचने की सलाह दी जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

ऐसे दान करें वस्तुएं

धर्म-कर्म से जुड़े लोगों को अपनी राशि अनुसार अथवा किसी योग्य ब्राह्मण के परामर्श से दान की जाने वाली वस्तुओं को इकठ्ठा कर संकल्प के साथ उन वस्तुओं को योग्य व्यक्ति को दे देना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण अवधि

ग्रहण की शुरुआत दोपहर 12:48 बजे से होगी. इसकी समाप्ति शाम 04:17 बजे होगी. आंशिक चंद्र ग्रहण की अवधि 3 घंटे 28 मिनट की होगी. उपच्छाया चंद्र ग्रहण की अवधि करीब 6 घंटे की होगी.

email
TwitterFacebookemailemail

कहां से दिखेगा चंद्र ग्रहण

अरुणाचल प्रदेश और असम को छोड़कर देश के अधिकांश हिस्सों में आंशिक चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देगा. अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत महासागर क्षेत्र के कुछ हिस्से इस घटना का अनुभव कर सकेंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या होता है सूतक काल

ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, हिंदुओं की मान्यता कहती है कि चंद्र ग्रहण के 9 घंटे पूर्व ही सूतक लग जाता है और यह ग्रहण के पूरी तरह से समाप्त होने तक रहता है. सूतक काल के दौरान किसी भी प्रकार के शुभ कार्य प्रतिबंधित होते हैं. यहां तककि खाना बनाना और खाना खाना तक वर्जित होता है.पुजारी सूतक काल के दौरान मंदिरों के कपाट भी बंद कर देते हैं. सूतक काल खत्म होने के बाद मंदिर की सफाई भी होती है. सामान्य तौर पर सूतक काल के दौरान भजन और कीर्तन सबसे अच्छा और शुभ कार्य माना जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण की अहम टाइमिंग

  • कब लगेगा चंद्र ग्रहण : शुक्रवार सुबह 11 बज कर 34 मिनट से शुरू होगा

  • कब खत्म होगा : शाम 5 बजकर 33 मिनट पर समाप्त होगा

  • कितनी होगी अवधि : चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे 59 मिनट की होगी

  • सूतक काल : शुक्रवार तड़के 1 बजे के बाद शुरू होगा फिर शाम 6 बजे के आसपास खत्म होगा

email
TwitterFacebookemailemail

किन राशियों को पड़ेगा चंद्र ग्रहण का नकारात्मक प्रभाव

  • मेष

  • कन्या

  • तुला

  • कुंभ

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण के बाद करें ये काम

- ग्रहण के बाद घर की साफ-सफाई करें.

- पूरे घर में गंगा जल छिड़कें और नहाएं.

- ग्रहण के बाद दान पुण्य करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का समय...

चंद्र ग्रहण 19 नवंबर शुक्रवार के दिन लगने जा रहा है। इसकी शुरुआत भारतीय समय के अनुसार सुबह 11 बजकर 34 मिनट से होगी और इसकी समाप्ति शाम 5 बजकर 33 मिनट पर.

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण से पहले ही डाल देना चाहिए खाने और दूध में तुलसी का पत्ता...

ग्रहण से पहले खाने और दूध में तुलसी का पत्ता डालने की सलाह दी जाती है. इससे खाना अशुद्ध नहीं होता, अगर ऐसा नहीं किया गया हो तो ग्रहण के बाद पहले से बने हुए खाने को नहीं खाना चाहिए क्योंकि आपकी तबीयत खराब हो सकती है.

email
TwitterFacebookemailemail

गर्भवती महिलाएं ग्रहण के दौरान करें ये काम

ऐसी मान्यता है ग्रहण की पूरी अवधि के दौरान यदि गर्भवती महिला अपने पास नारियल रखती है तो इससे ग्रहण के नकारात्मक प्रभाव गर्भवती महिला और गर्भस्थ शिशु के पास नहीं पहुंचते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण किस राशि में लगेगा

इस बार का चद्र ग्रहण वृषभ राशि में लगने जा रहा है. इसलिए सबसे अधिक प्रभाव वृषभ राशि वालों पर देखने को मिलेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का राशियों पर असर

चंद्र ग्रहण तुला, कुंभ और मीन राशि वालों के लिए शुभ है। वहीं मेष, वृषभ, सिंह और वृश्चिक वालों के लिए ये ग्रहण अच्छा नही माना जा रहा है। इन राशि वालों को विशेष सावधानी बरतनी होगी

email
TwitterFacebookemailemail

भारत में लगेगा उपच्छाया चंद्र ग्रहण…

भारत में आंशिक नहीं उपच्छाया चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। इसे नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता। इसे देखने के लिए विशेष तरह के उपकरणों की जरूरत पड़ती है. ये साल का आखिरी चंद्र ग्रहण होगा. इसके बाद चंद्र ग्रहण का नजारा 8 दिसंबर 2022 में देखने को मिलेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

किस नक्षत्र में लग रहा है चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण कृत्तिका नक्षत्र में लग रहा है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कृत्तिका नक्षत्र सूर्य का नक्षत्र माना जाता है. इसलिए जिन लोगों का जन्म कृत्तिका नक्षत्र में हुआ है, उन्हें सावधानी बरतने की जरूरत है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का समय?

ग्रहण की शुरुआत सुबह 11:32 बजे से होगी। इसकी समाप्ति शाम 05:33 बजे होगी. आंशिक चंद्र ग्रहण की अवधि 3 घंटे 26 मिनट की होगी. उपच्छाया चंद्र ग्रहण की अवधि करीब 6 घंटे की होगी.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण के दौरान सूतक

जहां चंद्रग्रहण के 9 घंटे पहले उसका सूतक काल लागू होता है वहीं सूर्य ग्रहण के 12 घंटे पहले से सूतक प्रारंभ हो जाता है. ग्रहण जब समाप्त होता है तब उसका सूतक काल भी समाप्त हो जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाएं इस बात का रखें ध्यान

ग्रहण काल के दौरान गर्भवती महिलाओं को किसी भी नुकीली या धारदार वस्तु का उपयोग नहीं करना चाहिए. ग्रहण और सूतक काल के दौरान कोई भी कैंची, चाकू या सुई का इस्तेमाल ना करें.

email
TwitterFacebookemailemail

साल 2021 में लगे कितने चंद्र ग्रहण

साल 2021 में दो चंद्र ग्रहण का योग बना था. पहला चंद्र ग्रहण 26 मे 2021 में लगा था और 19 नवंबर को साल का दूसरा और अंतिम चंद्र ग्रहण लग रहा है. इसके बाद 16 मई 2022 को अगला चंद्र ग्रहण लगेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कितने प्रकार के होते हैं चंद्र ग्रहण?

चंद्र ग्रहण तीन प्रकार के होते हैं

  • पूर्ण चंद्र ग्रहण

  • आंशिक चंद्र ग्रहण

  • उपछाया चंद्र ग्रहण

email
TwitterFacebookemailemail

क्या इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल लगेगा?

इस बार भारत में चंद्र ग्रहण उपछाया की तरह ही दिखेगा. इस वजह से सूतक काल मान्य नहीं होगा, यही वजह है कि इस चंद्र ग्रहण में देश के मंदिरों के कपाट भी बंद नहीं किए जाएंगे और शुभ कार्यों पर भी रोक नहीं होगी.

email
TwitterFacebookemailemail

Chandra Grahan 2021 किन राशियों के लिए शुभ किनके लिए अशुभ

चंद्र ग्रहण तुला, कुंभ और मीन राशि वालों के लिए शुभ रहने के आसार हैं. जबकि सिंह, वृश्चिक और वृषभ राशि वालों के लिए अच्छा नहीं माना जा रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या होता है चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण तब लगता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीध में आते हैं.ग्रहण के आगाज़ से पहले चांद जमीन की उपच्छाया में दाखइल होता है इसके बाद धरती की वास्तविक छाया में दाखिल करता है. ऐसा होने पर वास्तविक चंद्र ग्रहण लगता है. वहीं अगर उपच्छाया चंद्र ग्रहण की बात करें तो चांद जमीन की वास्तविक छाया में दाखिल किए बिना ही बाहर आ जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के लिए क्या करें (Chandra Grahan 2021)

चंद्र ग्रहण के बाद दूध और दूध से बने उत्पादों, सफेद तिल, सफेद कपड़े, इत्यादि का दान करने की सलाह दी जाती है। ऐसा करने से भी ग्रहण के दुष्प्रभाव जीवन पर नहीं पड़ते हैं।

email
TwitterFacebookemailemail

ग्रहण की समाप्ति के बाद क्या करें:

  • ग्रहण खत्म होने के तुरंत बाद नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान कर लें

  • इसके बाद घर के मंदिर में भगवान की मूर्तियों को भी गंगाजल से शुद्ध करें

  • तुलसी पौधे पर भी गंगाजल का छिड़काव करें

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का समय (Chandra Grahan 2021 Timing in India)

19 नवंबर 2021 को लग रहा है. इस ग्रहण को सदी का सबसे बड़ा आंशिक चंद्र ग्रहण कहा जा रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का कार्तिक पूर्णिमा पूजा पर प्रभाव

ज्योतिष शास्त्र में चंद्र ग्रहण की घटना को विशेष माना गया है. धार्मिक कार्यों पर चंद्र ग्रहण को प्रभाव नहीं पडे़गा. इसके पीछे जानकारों का मत है कि चंद्र ग्रहण पूर्ण नहीं है, 19 नवंबर 2021, शुक्रवार को लगने वाला चंद्र आंशिक है. इसके साथ ही दिन में चंद्र ग्रहण लग रहा है, तथा इसका प्रभाव भारत पर नहीं पड़ रहा है. इस ग्रहण को भारत में असम, अरुणाचल प्रदेश आदि क्षेत्रों में ही दिखाई देने की बात कही जा रही है. इसलिए पूजा-पाठ और धार्मिक कार्यों पर इस ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ेगा. कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान, दान और यज्ञ का विशेष महत्व बताया गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत में लगेगा उपच्छाया चंद्र ग्रहण

भारत में आंशिक नहीं उपच्छाया चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। इसे नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता। इसे देखने के लिए विशेष तरह के उपकरणों की जरूरत पड़ती है। ये साल का आखिरी चंद्र ग्रहण होगा। इसके बाद चंद्र ग्रहण का नजारा 8 दिसंबर 2022 में देखने को मिलेगा।

email
TwitterFacebookemailemail

Chandra Grahan 2021 इन राशियों के लिए है शुभ

चंद्र ग्रहण तुला, कुंभ और मीन राशि वालों के लिए शुभ रहने के आसार हैं. जबकि सिंह, वृश्चिक और वृषभ राशि वालों के लिए अच्छा नहीं माना जा रहा है.

email
TwitterFacebookemailemail

19 नवंबर को लगेगा आंशिक चंद्रग्रहण

19 नवंबर को लगनेवाला आंशिक चंद्रग्रहण इस साल यानी वर्ष 2021 का आखिरी चंद्रग्रहण होगा. इससे पहले इस साल 26 मई को चंद्रग्रहण लगा था जिसे लाल रंग का होने के कारण सुपरमून या रेडब्लड मून कहा गया. 19 नवंबर को लगने वाले आंशिक चंद्र ग्रहण के 15 दिन बाद ही सूर्य ग्रहण भी लगने वाला है. यह पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा जो 4 दिसंबर 2021 को लगेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कब लगता है चंद्रग्रहण

जब पृथ्वी, सूर्य और चंद्रमा के बीच आ जाती है तो इस घटना को ही चंद्र ग्रहण कहते हैं. लेकिन जब पूरा चंद्रमा पृथ्वी की छाया में रहता है तो पूर्ण चंद्रग्रहण होता है और जब चंद्रमा का सिर्फ एक भाग पृथ्वी की छाया में होता है तो ऐसी स्थिति में आंशिक चंद्र ग्रहण लगता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस राशि और नक्षत्र में लगेगा चंद्रग्रहण

ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है। साल का यह आखिरी चंद्रग्रहण 19 नवंबर को वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लगेगा।

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का समय

19 नवंबर को लगने वाला आंशिक चंद्र ग्रहण भारतीय समयानुसार 19 नवंबर की सुबह 11 बजकर 34 मिनट से शाम को 5 बजकर 33 मिनट तक रहेगा. इस चंद्रग्रहण को भारत में मणिपुर की राजधानी इंफाल और उसके सीमावर्ती क्षेत्रों में देखा जा सकेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

आंशिक ग्रहण होने के कारण मान्य नहीं होगा सूतक काल

वर्ष 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण 19 नवंबर को शुक्रवार के दिन लगेगा. खास बात ये है कि इसी दिन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि भी है. भारत में ये ग्रहण समाप्ति के दौरान आंशिक तौर पर देखा जा सकेगा. आंशिक होने की वजह से इस ग्रहण का सूतक मान्य नहीं होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत के इन हिस्सों से देखा जा सकेगा चंद्र ग्रहण

खगोलविदों की मानें तो 19 तारीख को लगने वाला आंशिक चंद्र ग्रहण पूर्वी अफ्रीका, पश्चिमी यूरोप, उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अटलांटिक महासागर और प्रशांत महासागर जैसे कुछ चुनिंदा हिस्सों से देखा जा सकेगा. भारत के कई राज्यों में यह चंद्र ग्रहण नहीं दिखाई देगा. हालांकि अरुणाचल प्रदेश असम जैसे राज्यों से सूर्यास्त के समय इसे कुछ देर के लिए देखा जा सकेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

580 वर्षों के बाद लग रहा है इतना लंबा चंद्र ग्रहण

19 नवंबर के दिन चंद्रमा और पृथ्वी के बीच अधिक दूरी के कारण यह चंद्रग्रहण काफी लंबी अवधि का होने जा रहा है. 19 नवंबर को लगने जा रहे आंशिक चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 3 घंटे 28 मिनट और 24 सेकंड्स की होगी. बता दें कि इस चंद्र ग्रहण से पहले इत लंबा चंद्र ग्रहण19 फरवरी 1440 को लगा था. यानि 580 वर्षों के बाद इतनी लंबी अवधि का चंद्रग्रहण 19 नवंबर 2021 को लगने जा रहा है. और इसके बाद वर्ष 2669 के 8 फरवरी को ऐसी ही लंबी अवधि का चंद्रग्रहण लगेगा. नासा के मुताबिक, एक साल में अधिकतम तीन चंद्र ग्रहण हो सकते हैं. अनुमान है कि 21वीं सदी में कुल 228 चंद्र ग्रहण होंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

क्या होता है उपछाया ग्रहण?

चंद्र ग्रहण की शुरुआत से पहले चंद्रमा धरती की उपच्छाया में प्रवेश करता है इसके बाद धरती की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है. जब ऐसा होता है तब वास्तविक चंद्र ग्रहण लगता है. लेकिन उपच्छाया चंद्र ग्रहण के समय चंद्रमा धरती की वास्तविक छाया में प्रवेश किए बिना ही बाहर आ जाता है. ज्योतिष में उपच्छाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण का दर्जा नहीं दिया गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण का समय (Lunar Eclipse 2021)

हिंदु पंचांग के अनुसार यह चंद्र ग्रहण सुबह 11 बजकर 30 मिनट से लगेगा और शाम 05 बजकर 33 मिनट पर खत्म होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

चंद्र ग्रहण कब लगेगा 2021

19 नवंबर को चंद्र ग्रहण प्रात: 11 बजकर 34 मिनट से आरंभ होगा और शाम 05 बजकर 33 मिनट पर समाप्त होगा. चंद्र ग्रहण वृषभ राशि और कृत्तिका नक्षत्र में लग रहा है. इसलिए इस राशि और नक्षत्र से जुड़े लोगों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें