1. home Hindi News
  2. opinion
  3. more improvement in economy is necessary indian economy agriculture consumer opinion editorial prt

अर्थव्यवस्था में और सुधार जरूरी

By अभिजीत मुखोपाध्याय
Updated Date
अर्थव्यवस्था में और सुधार जरूरी
अर्थव्यवस्था में और सुधार जरूरी
प्रतीकात्मक तस्वीर

अभिजीत मुखोपाध्याय, अर्थशास्त्री

abhijitmukhopadhyay@gmail.com

इस वित्त वर्ष में अप्रैल और मई दो महीने पूरी तरह लॉकडाउन रहने से अर्थव्यवस्था ठप रही़ जून में लॉकडाउन में थोड़ी छूट मिली, लेकिन उसमें भी बहुत-सी दिक्कतों का सामना करना पड़ा़, क्योंकि लंबे समय तक बंद रहने के बाद बड़े-बड़े कल-कारखानों को चालू करना इतना आसान नहीं होता है़ इसी कारण जून में भी अर्थव्यवस्था लगभग ठप ही रही़ उसके बाद जुलाई-अगस्त में स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ़ हालांकि, इसे सामान्य नहीं कहा जा सकता़ आज भी स्थिति सामान्य नहीं हुई है, क्योंकि अभी भी कई तरह के प्रतिबंध लागू है़ं

मांग कम होने से उत्पादन भी कम हो रहे है़ं अर्थव्यवस्था में जो सकारात्मक संकेत दिख रहे हैं, दरअसल वह बंदी के बाद फिर से उत्पादन के शुरू होने का असर है़ ऐसा तो होना ही था़ रेलवे में भी मार्च के बाद सुधार होने की बात कही जा रही है, तो यह तो होना ही था़ क्योंकि, रेलवे भी लॉकडाउन में ठप पड़ा हुआ था़ जब ट्रेनें चलने लगीं, तो रेलवे की आमदनी तो बढ़ेगी ही़

पिछले साल के मुकाबले भी देखें तो इस वर्ष ज्यादा वृद्धि होनी तय है, क्योंकि पिछले वर्ष की वृद्धि पेंडिंग रह गयी थी़ मान लीजिये, किसी उत्पादक को अपने उद्योग के लिए किसी वस्तु की आवश्यकता थी और उसने लॉकडाउन से पहले रेलवे के जरिये उसे बुक किया था, लेकिन लॉकडाउन के कारण ट्रेन की आवाजाही रुक गयी़, और जैसे ही लॉकडाउन खुला, तो वह सामान उत्पादक तक पहुंचाया गया़ तो यह वृद्धि और लॉकडाउन के बाद जो नयी बुकिंग हुई, दोनों के कारण ही रेलवे की स्थिति में सुधार दिखायी दे रहा है़, जो स्वाभाविक है़ यदि ऐसा नहीं होता, तो चिंता वाली बात होती़

अर्थव्यवस्था का अभी जो आंकड़ा आया है, वह अप्रैल-मई-जून की तिमाही का आंकड़ा है़, इसकी गहराई से पड़ताल की जरूरत है़ जुलाई-अगस्त-सितंबर, जो दूसरी तिमाही है, उसका आंकड़ा नवंबर में आयेगा. इस तिमाही का परिणाम बहुत महत्वपूर्ण होगा, यानी अर्थव्यवस्था में सुधार के आंकड़े को लेकर अभी हमें थोड़ा इंतजार करना होगा़ पहली तिमाही के परिणाम के आधार पर कुछ भी कहना अभी सही नहीं होगा़ दूसरी तिमाही और उसके बाद अक्तूबर-नवंबर-दिसंबर तीसरी तिमाही का आंकड़ा बहुत महत्वपूर्ण होगा़

यदि तिमाही की बात छोड़ भी दें, तो सितंबर मध्य से नवंबर मध्य तक का समय अर्थव्यवस्था के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, खासकर अक्तूबर का महीना़ दुर्गापूजा, दीवाली और दूसरे पर्व-त्योहारों का मौसम होनेे से इस समय खूब खरीदारी होती है, नतीजा बिक्री बढ़ती है़, जिससे अर्थव्यवस्था को गति मिलती है़ इसके बाद दिसंबर मध्य से जनवरी मध्य तक का समय भी बहुत महत्व रखता है़, क्योंकि नये वर्ष के उपलक्ष्य में भी लोग घूमने-फिरने जाते हैं, खर्च करते है़ं हालांकि, यह दीवाली के स्तर से छोटा होता है़ इस वर्ष लोगों का घूमना तो पहले के मुकाबले कम होगा, लेकिन खरीदारी तो हाेगी़ दिवाली और नये वर्ष के उपलक्ष्य में खरीदारी होने की पूरी संभावना है, जो एक अच्छी बात है़ यही वो आंकड़े हैं, जो निर्णायक साबित होंगे़

अभी यह कहना कि हम लोग सुधार की राह पड़ चल पड़े हैं, बहुत सुधार हो गया है, जल्दबाजी होगी़ इसके लिए नवंबर वाला और उसके बाद की तिमाही के परिणाम की प्रतीक्षा करनी होगी़ हर महीने और तीमाही के आंकड़े को बार-बार देखने की अभी जरूरत है़ इसके बाद ही अगले वर्ष फरवरी-मार्च में हम ये कह सकते हैं कि अर्थव्यवस्था की दशा क्या है़ फरवरी-मार्च वाली तिमाही में यदि हम नकारात्मक से निकल पाते हैं, शून्य पर भी आ जाते हैं, तभी जाकर हम कह पायेंगे कि अर्थव्यवस्था में कुछ सुधार हुआ है़

जहां तक निर्यात की बात है, तो उससे बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं दिख रही है़ निर्यात तो तभी होगा और बढ़ेगा, जब दूसरे देश के लोग खरीदारी करेंगे. महामारी का प्रभाव तो दुनियाभर में पड़ा है़ ऐसे में निर्यात पर बुरा असर पड़ेगा, वहां किसी तरह के सुधार की संभावना अभी नहीं दिख रही है़ यदि निर्यात में थोड़ी-बहुत वृद्धि हो भी जाये, तो वह इतना नहीं होगा कि उससे जीडीपी में वृद्धि दर्ज हो़ क्योंकि अभी जो पहली तिमाही का आंकड़ा आया है, उसके अनुसार, आयात में भी गिरावट आयी है़ आयात में केवल तेल नहीं आता है, बल्कि बहुत से मशीनरी इक्विपमेंट आते है़ं, जो आयातित वस्तुओं का बड़ा हिस्सा होते है़ंं, इसलिए आयात का गिरना अच्छी बात नहीं है़, खासकर अाज की स्थिति में.

रोजगार की समस्या अभी भी बरकरार है, क्योंकि बहुत से लाेगों की नौकरी चली गयी है़ अभी जो भी काम-काज हो रहे हैं, जो भी कल-कारखाने चल रहे हैं, वहां भी 50 प्रतिशत कर्मचारियों से ही काम चलाया जा रहा है़ पचास प्रतिशत लोगों के पास तो अभी भी काम नहीं है़ यदि लोगों के पास काम नहीं होगा, तो उन्हें पैसे की तंगी होगी, ऐसे में मांग का सृजन कहां से होगा़ लोग खरीदारी कहां से करेंगे़ इसका असर वस्तुओं के उत्पादन पर भी पड़ेगा़ उत्पादन के कम होने का असर दूसरी तिमाही के आंकड़े में निश्चित तौर पर देखने को मिलेगा.

तो यहां सरकार द्वारा रोजगार सृजन को लेकर काम करने की जरूरत है़ मांग में वृद्धि हो, इसके लिए लोगों के हाथ में नकद देना बहुत जरूरी है़ जन वितरण प्रणाली के तहत बीपीएल कार्डधारकों को नि:शुल्क राशन मुहैया कराया जाये, ताकि उनके खाने-पीने की समस्या दूर हो़ इससे उनके हाथ में जो पैसा बचेगा, उससे हो सकता है कि वह कुछ न कुछ खरीदारी करे़ साथ ही, यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि सरकार जो पैसा दे रही है, वह सही हाथों में पहुंचे़ दूसरा, सभी उद्योगों के लिए सरकार को इनपुट टैक्स, जीएसटी को कम करने की जरूरत है, ताकि उद्योगों के लाभ में थोड़ी वृद्धि हो़

अभी तक सरकार ने जो पैकेज दिया है, उसमें उपभोक्ता मांग का हिस्सा बहुत कम है. प्रत्यक्ष लाभ के लिए सरकार को आठ लाख करोड़ का पैकेज देने की जरूरत है़ मनरेगा के आवंटन को बढ़ाने और प्रति बीपीएल परिवार 1500 से 2000 प्रतिमाह नकद भुगतान करने की जरूरत है, इससे अर्थव्यवस्था बच जायेगी़ इसके अलावा सरकार घरेलू और एनआरआइ के लिए कोविड बॉण्ड जारी करे, फॉरेन क्रेडिट मार्केट में ब्याज दर कम है, वहां से पैसा लेने की कोशिश करेे, डेफिसिट फाइनेंस करे और उस पैसे को मार्केट में डाले, तो इससे अर्थव्यवस्था में सुधार होगा़

(बातचीत पर आधारित)

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें