Advertisement

madhubani

  • Jun 2 2017 7:15AM

मधुबनी नैंसी हत्याकांड : मधुबनी से दिल्ली तक विरोध

मधुबनी नैंसी हत्याकांड : मधुबनी से दिल्ली तक विरोध
मधुबनी : नैंसी हत्याकांड को लेकर लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है. जगह जगह लोगों द्वारा विरोध किये जा रहे हैं. मधुबनी से लेकर दिल्ली तक इसके विरोध में प्रदर्शन किया जा रहा है. दिल्ली के जंतर मंतर पर जहां मिथिला स्टूडेंट्स यूनियन के कार्यकर्ताओं ने विरोध मार्च निकाल कर नैंसी के हत्यारे को कठोर सजा दिये जाने की मांग की. वहीं मधुबनी में भी विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाला व पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेवाजी की. इसके अलावे विभिन्न संगठन ने भी नैंसी हत्याकांड पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसे घिनौना अपराध करार दिया है.
 
आंदोलन को तेज करने का आह्वान
 
सुपौल. मधुबनी जिले के अंधरामठ थाना क्षेत्र के महादेव मठ निवासी 12 वर्षीया छात्रा नैंसी का अपहरण कर हत्या की घटना के बाद उबाल है. पिपरा में युवाओं ने बुधवार की शाम गांधी प्रतिमा के पास कैंडल जला कर नैंसी को श्रद्धांजलि दी. लोगों ने कहा कि अगर मामले में त्वरित कार्रवाई नहीं हुई, तो आंदोलन को और तेज किया जायेगा. 
 
नैंसी हत्याकांड की जांच के लिए एसआइटी गठित
 
पटना : मधुबनी जिले के अंधरामठ थाने में 25 मई को नैंसी झा हुई हत्या के मामले की जांच के लिए झंझारपुर की एसएसपी निधी रानी के नेतृत्व एक एसआइटी का गठन किया गया है. इसकी जानकारी एडीजी (मुख्यालय) एसके सिंघल ने गुरुवार को कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में दी. उन्होंने कहा कि मेडिकल बोर्ड में दो महिला एवं दो पुरुष चिकित्सक थे. 
 
मौत का कारण गला दबाने की वजह से दम घुटने के कारण बताया गया है. मेडिकल जांच में किसी तरह के रेप और शव को तेजाब से जलाने की कोई पुष्टि नहीं हुई है. इसके लिए गठित एसआइटी में आइपीएस निधि रानी के अलावा मधुबनी महिला थानाध्यक्ष कंचन कुमारी, फुलपरास पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार ठाकुर, खुटौना थानाध्यक्ष रामचंद्र मंडल और जिला सीआइडी के कर्मी मधुसूदन पासवान को शामिल किया गया है.
 

Advertisement

Comments

Other Story

Advertisement