1. home Home
  2. national
  3. vaccine hesitancy is now the greatest threat in overcoming this pandemic says covishield manufacturer serum institute of india ceo adar poonawalla smb

SII के CEO अदार पूनावाला ने कहा, कोविड महामारी पर काबू पाने में वैक्सीन को लेकर झिझक अब सबसे बड़ा खतरा

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के सीईओ अदार पूनावाला ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी पर काबू पाने में वैक्सीन को लेकर की झिझक अब सबसे बड़ा खतरा है. बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अब तक 8 कोविड-19 वैक्सीन को मान्यता दी. इसमें दो भारतीय वैक्सीन कोवैक्सीन और कोविशील्ड भी शामिल हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Serum Institute of India CEO Adar Poonawalla
Serum Institute of India CEO Adar Poonawalla
File

Vaccine Hesitancy सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के सीईओ अदार पूनावाला ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी पर काबू पाने में वैक्सीन को लेकर की झिझक अब सबसे बड़ा खतरा है. बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अब तक 8 कोविड-19 वैक्सीन को मान्यता दी. इसमें दो भारतीय वैक्सीन कोवैक्सीन और कोविशील्ड भी शामिल हैं. कोवैक्सीन को जहां भारत बायोटेक ने बताया है, तो कोविशील्ड का उत्पादन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने किया है.

इससे पहले एसआईआई के सीईओ अदार पूनावाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देते हुए कहा था कि वैक्सीन उद्योग के लिए उन्होंने जो विजन रखा है, वह उन्हें प्रोत्साहित और सक्रिय करता है. अदार पूनावाला ने एक ट्वीट में कहा कि वैक्‍सीन उद्योग के साथ प्रधानमंत्री मोदी की बातचीत के लिए मैं उन्‍हें धन्‍यवाद देता हूं. इस क्षेत्र के लिए आपने जो दृष्टिकोण रखा है, उससे हम उत्साहित और प्रोत्साहित महसूस करते हैं.

अदार पूनावाला ने साथ कहा कि भारत की 100 करोड़ वैक्‍सीनेशन की उपलब्धि एक मील का पत्थर उपलब्धि है. हमारे प्रधानमंत्री के नजरिए और दिशा निर्देश में हमने इसे हासिल किया है. सरकार के साथ इंडस्ट्री ने मिल कर काम किया इसलिए 100 करोड़ टीकाकरण का आंकड़ा हम प्राप्त कर सके. बता दें कि भारत ने 21 अक्टूबर को महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान के तहत एक अरब खुराक का आंकड़ा पार कर ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की थी जिसके लिए दुनियाभर से देश को बधाई मिलने का सिलसिला जारी है.

देश में टीकाकरण के पात्र वयस्कों में से 75 प्रतिशत से अधिक लोगों को कम से कम एक खुराक लग चुकी है, जबकि करीब 31 प्रतिशत लोगों को टीके की दोनों खुराक लग चुकी हैं. नौ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सभी पात्र लोगों को टीकों की पहली खुराक दी जा चुकी है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें