1. home Hindi News
  2. national
  3. the corona era is a multilayered mask most effective able to contain microscopic solids and liquid particles vwt

कोरोना काल में कई परत वाले मास्क होते हैं सबसे अधिक प्रभावी, सूक्ष्म ठोस और द्रव्य कणों को रोकने में सक्षम

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
आईआईएससी के अध्ययन में खुलासा.
आईआईएससी के अध्ययन में खुलासा.
प्रतीकात्मक फोटो.

बेंगलुरु : देश में कोरोना वायरस के संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या में एक फिर से तेजी आ गई. संक्रमण तेज होने के साथ ही केरल, महाराष्ट्र और राजस्थान समेत देश के कई राज्यों ने एहतियाती कदम उठाना शुरू कर दिया है. इस बीच, एक अध्ययन में पता चला है कि कई परतों वाले मास्क व्यक्ति को हवा में अथवा किसी गैस में घुले सूक्ष्म ठोस कण या द्रव्य की बूंदों (एअरोसॉल) के संपर्क में आने से रोकने के लिए सर्वाधिक प्रभावी होते हैं.

बेंगलुरु के भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) के शोधकर्ताओं की अगुवाई वाले एक दल ने यह अध्ययन किया था. आईआईएससी के अनुसार, जब किसी व्यक्ति को खांसी आती है, तब मुंह या नाक से निकली द्रव्य की बड़ी बूंदें (200 माइक्रोन से बड़ी) तेज गति से मास्क की अंदरूनी परत से टकराती हैं और मास्क में अंदर घुस जाती हैं तथा आगे जा कर छोटी बूंदों में टूट जाती है और इनके हवा में या किसी गैस में घुलने की अधिक आशंका है. इस प्रकार इनमें सार्स-सीओवी-2 जैसे वायरस हो सकते हैं.

संस्थान ने शनिवार को एक बयान में कहा कि दल ने उच्च गुणवत्ता वाले कैमरे के जरिए एक परत, दो परत और कई परतों वाले मास्क पर खांसने के दौरान निकले द्रव्य कणों के मास्क से टकराने और कपड़े में घुसने के बाद इनके आकार का अध्ययन किया. अध्ययन में कहा गया कि एक और दो परत वाले मास्क में इन छोटी बूंदों का आकार सौ माइक्रोन से कम पाया गया और इस प्रकार इनमें ‘एयरोसॉल' बनने की क्षमता थी, जो लंबे समय तक हवा में मौजूद रह कर संक्रमण फैला सकते हैं.

मेकैनिकल इंजीनियरिंग विभाग में प्राध्यापक सप्तर्षि बसु ने कहा कि आप सुरक्षित हैं, लेकिन आपके आसपास मौजूद लोग सुरक्षित नहीं हैं. अध्ययन में कहा गया है कि तीन परत वाले मास्क या एन-95 मास्क सर्वाधिक सुरक्षित हैं.

Posted by : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें