1. home Hindi News
  2. national
  3. ramdas athawale china protest chinese food protest social media troll

चाउमीन,मोमोस पर बैन लगवाना चाहते हैं भाजपा के यह मंत्री, हो गये ट्रोल

By Agency
Updated Date
 केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले
केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले
सोशल मीडिया

नयी दिल्ली : केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने चीनी सामान के साथ- साथ चीनी खाने पर भी बैन लगाने की मांग कर दी. इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि जो रेस्तरां चीनी खाना परोस रहे हैं उन्हें भी बंद कर देना चाहिए. सबसे पहले पढ़िये उन्होंने अपने ट्वीट में क्या लिखा. चीन धोखा देनेवाला देश है. भारत में चीन के सभी वस्तुओं का बहिष्कार करना चाहिए.चायनीज फूड और चायनीज फूड के हॉटेल भारत मे बंद करने चाहिए.

इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने अठावले का समर्थन किया तो कई लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया. चीनी सामान के विरोध पर तो उनकी तारीफ हुई लेकिन चीनी फूड पर लोगों ने उन्हें जमकर ट्रोल किया. एक यूजर ने लिखा, भाई इन्हे लगता है जिस नाम में चाइना आ रहा है सब का बहिष्कार कर दो, चाहे वो चीनी मिट्टी से बने बर्तन हो, चीनी खाना हो, और मुझे तो डर है कहीं ये कल सचिन तेंडुलकर का बहिष्कार कर दे क्योंकि उनके नाम में भी चीन है. स..चिन. इस तरह के कई ट्वीट हो रहे हैं जिसमें रामदास अठावले को ट्रोल किया जा रहा है.

रामदास अठावले ने इस ट्वीट के बाद एक वीडियो भी अपने टि्वटर पर अपलोड किया जिसमें. उन्होंने अपनी मांग दोबारा दोहराई कहा, हमारे देश में चाइनिज फूड का बहिष्कार करना चाहिए रेस्तरां बंद होना चाहिए. चीन बार- बार हमारे खिलाफ साजिश कर रहा है.

लद्दाख की गलवान घाटी में सोमवार की रात चीनी सेना के साथ हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैन्यकर्मी शहीद हो गये थे . अठावाले ने एक ट्वीट किया, ‘‘चीन धोखा देने वाला देश है. भारत मे चीन की सभी वस्तुओं का बहिष्कार करना चाहिए. चीनी फूड और चीनी फूड के सभी रेस्तरां और होटल भारत मे बंद करने चाहिए.''

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में सोमवार रात को चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़पों में 20 भारतीय जवानों के मारे जाने के बाद भारत और चीन के बीच हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. इस बीच बड़ी खबर आ रही है कि इस पूरे विवाद के पीछे चीन की बड़ी साजिश थी. ड्रैगन ने पूरी सोची-समझी साजिश के तहत गलवान घाटी में घटना को अंजाम दिया.

विदेश मंत्री ने गलवान में हिंसक झड़प को लेकर अपने चीनी समकक्ष वांग यी के समक्ष भारत का कड़ा विरोध दर्ज कराया. जयशंकर ने बताया कि चीनी पक्ष ने सोची समझी कार्रवाई की जो हिंसा और हताहतों के लिए जिम्मेदार हैं. विदेश मंत्री ने चेतावनी दी, गलवान घाटी में हुई अप्रत्याशित घटना से द्विपक्षीय संबंधों पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा.

Posted By- Pankaj Kumar Pathak

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें