1. home Home
  2. national
  3. rakesh tikait expressed happiness on passing farm law repeal bill rts

कृषि कानून वापसी बिल पास होने पर राकेश टिकैट ने जताई खुशी, कहा- आंदोलन रहेगा जारी

सोमवार को शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा से कृषि कानून वापसी बिल पास हो चुका है. कानून वापसी पर किसान नेता राकेश टिकैत ने खुशी जताई है. हालांकि उन्होंने साफ कहा कि एमएसपी सहित दूसरे मांगों पर किसानों का आंदोलन जारी रहेगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कृषि कानून वापसी बिल पारित होने पर राकेश टिकैट की प्रतिक्रिया
कृषि कानून वापसी बिल पारित होने पर राकेश टिकैट की प्रतिक्रिया
ANI

सोमवार को लोकसभा के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन कृषि कानून वापसी बिल पारित हो गया. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बिल को संसद में पेश किया. वहीं, कृषि बिल वापसी के पर किसान नेता राकेश टिकैट ने खुशी जताई है. कृषि बिल वापसी के तुरंत बाद संयुक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैट ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कि बड़ी बीमारी का रोग कट गया. राकेश टिकैट ने कहा कि विपक्ष सही कह रहा है एमएसपी पर कानून बने.

राकेश टिकैट ने आगे कहा कि एमएसपी अभी भी एक बड़ा सवाल है उस पर सरकार बातचीत करें. इसके अलावा प्रदूषण, दस साल पूराने ट्रैक्टर और प्रदूषण के मुद्दे पर भी सरकार को बातचीत कर समाधान निकालने की बात उन्होंने कही है. वहीं, विपक्ष की मांग को सही ठहराते हुए राकेश टिकैट ने कहा कि विपक्ष बिल्कुल ठीक कह रहा है कि एमएसपी पर कानून बने. किसान आंदोलन को आगे भी जारी रखने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि अभी आंदोलन खत्म नहीं होगा. उन्होंने कृषि कानून वापसी पर कहा कि 700 किसानों की मौत हो गई अब ऐसे में कैसे जश्न मनाएं.

आपको बता दें कि किसानों के मुद्दे पर विपक्षी दलों के हंगामे के कारण संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन सोमवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने के करीब 15 मिनट के बाद दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया था. कार्यवाही दोबारा शुरू होने पर फिर से विपक्ष का हंगामा होने लगा. इस हंगामे के बीच कृषि कानून वापसी बिल को पास कर लिया गया. इसके बाद राज्य सभा से भी इसे पास कर लिया. आपको बता दें कि लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल पर कांग्रेस के सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे लगातार बहस करने की मांग कर रहे थे.

यहां पर चर्चा कर दें कि कि तीनों कृषि कानूनों को वापस लेन का ऐलान खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 नवंबर को किया था. हालांकि संयुक्त किसान मोर्चा ने उस समय भी कहा था कि किसानों का आंदोलन दूसरे मुद्दों पर जारी रहेगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें