1. home Hindi News
  2. national
  3. rahul can gossip with laborers and i dont even have the right to speak nirmala sitharaman

राहुल मजदूरों के साथ कर सकते हैं गपशप और मुझे बोलने का अधिकार भी नहीं : निर्मला सीतारमण

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Pic source -ANI

नयी दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमणने बुधवार को न्यूज एजेंसी एनएनआई को दिए गए इंटरव्यू में राहुल गांधी और कांग्रेस पर जमकर निशाना सादा है.उन्होंने कहा कि जब केंद्र सरकार आर्थिक पैकेज की घोषणा कर रही थी तब उसे एक सीरियल बताया गया और किसी ने ड्रामा कहा.मैनें पांचवें दिन भी इसका जवाब नहीं दिया लेकिन जब किसी ने मुझसे प्रवासी मजदूरों के बारें में पूछा तो मैं बोली.अगर कांग्रेस प्रेस कॉन्फ्रेंस को ड्रामा कह सकती है तो जब मजदूर पैदल चल रहे थे तो आप बैठ कर गपशप करने लगे,और मुझे इस पर बोलने का अधिकार भी नहीं.

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि पीएम मोदी द्वारा घोषित किए आर्थिक पैकेज में हर वर्ग के लिए बहुत कुछ है.मजदूरों और प्रवासियों के लिए भी है.लेकिन कांग्रेस ने इसे ड्रांमा बताया.17 मई को निर्मला सीतारमन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कहा था कि राहुल गांधी से मेरी हाथ जोड़कर विनती है कि मजदूरों का समय खराब न करें.वह अगर जा रहे है तो जाने दें.अगर इतना ही है तो मजदूरों के साथ पैदल चलें और उनका सामान भी उठाये.

उन्होंने बताया कि विरोध में आप हमेशा अपने मनचाहे शब्दों का उपयोग कर सकते हैं और यह वह सरकार थी जिसने लॉकडाउन लाने के बाद घंटों के भीतर पीएम गरीब कल्याण योजना दी थी. गरीब कल्याण का मतलब था कि वे भोजन करेंगे ताकि कोई भी भूखा न रहे.हमने उन्हें घर चलाने के लिए कुकिंग गैस और कुछ राशि देने के बारे में सोचा. मैं विपक्ष से पूछूंगी, क्या उन राज्यों में गुटबाजी है, जहां वे सत्ता में हैं, इस मामले को किसी भी बेहतर तरीके से संभाला है? क्या ध्यान उन गुंडों की तरफ नहीं होगा जहाँ उनकी पार्टी / गठबंधन के साथी सत्ता में हैं ?

वित्त मंत्री ने बताया व्यवसायों को शुरू करने के लिए प्रोत्साहन देना महत्वपूर्ण था. पीएम गरीब कल्याण योजना में - लॉकडाउन के बाद शुरू की गई, हमने कुछ नकद हस्तांतरण दिए. उस काम के साथ, हम विकल्प को बंद नहीं कर रहे थे.नकद हस्तांतरण के लिए हमने सोचा कि यह कहीं अधिक प्रभावी है क्योंकि जिस तरह से हमने इसकी योजना बनाई है, हमने सोचा कि इसका अधिक गुणक प्रभाव होगा और इसलिए यह बैंकों, व्यवसायों के माध्यम से, कार्यशील पूंजी के लिए दिए गए धन के माध्यम से होना चाहिए.

बता दें, पीएम मोदी के 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके पैकेज की किस्तो को जारी किया था.इस पैकेज को लेकर विपक्ष ने खूब आलोचना की थी.कांग्रेस नेताओं ने कहा पैकेज में योजनाओं को गिना दिया गया है.कई और लोगों ने भी पैकेज को लॉकडाउन की परस्थितियों के हिसाब से नहीं बताया था और केंद्र सरकार पर इसको लेकर निशाना साधा था.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें