1. home Home
  2. national
  3. prashant kishor sharad pawar meet mumbai 2024 loksabha chunav modi vs mahagathbandhan know details amh

Prashant Kishor-Sharad Pawar Meet : 2024 में मोदी की होगी इनसे टक्कर! जानें क्या है प्रशांत किशोर और शरद पवार के मुलाकात के मायने

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी NCP) के प्रमुख शरद पवार के बीच मुलाकात के बाद कयासों का दौर जारी है. इस मुलाकात के बाद एनसीपी प्रवक्ता ने कहा कि 2024 लोकसभा चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भाजपा के खिलाफ रुख रखने वाली पार्टियों के ‘‘महागठबंधन'' की जरुरत है. आपको बता दें कि किशोर ने शुक्रवार को मुंबई स्थित पवार के आवास पर उनसे मुलाकात की.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Prashant Kishor-Sharad Pawar Meet
Prashant Kishor-Sharad Pawar Meet
prabhat khabar

Prashant Kishor-Sharad Pawar Meet : चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी NCP) के प्रमुख शरद पवार के बीच मुलाकात के बाद कयासों का दौर जारी है. इस मुलाकात के बाद एनसीपी प्रवक्ता ने कहा कि 2024 लोकसभा चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भाजपा के खिलाफ रुख रखने वाली पार्टियों के ‘‘महागठबंधन'' की जरुरत है. आपको बता दें कि किशोर ने शुक्रवार को मुंबई स्थित पवार के आवास पर उनसे मुलाकात की.

इधर करीब तीन घंटे चली इस बैठक के बाद राजनीतिक हलके में अटकलों का बाजार गरम है. हालांकि, बैठक में क्या बात हुई, इस बारे में पता नहीं चला है. बातचीत में एनसीपी नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि अगले आम चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ रुख रखने वाली पार्टियों के महागठबंधन की जरुरत है.

एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने भी भाजपा का मुकाबला करने के लिए सभी दलों के राष्ट्रीय गठबंधन की बात कही है. उन्होंने कहा है कि वह ऐसे बलों को साथ लाने का प्रयास करेंगे. उन्होंने कहा कि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को आंकड़ों और सूचनाओं की पूरी जानकारी है... तीन घंटे चली चर्चा में यह मुद्दा भी पक्का आया होगा.

यहां चर्चा कर दें कि कि पिछले महीने शिवसेना नेता संजय राउत ने राष्ट्रीय स्तर पर विपक्षी दलों के गठबंधन की जरुरत पर बल देते हुए कहा था उन्होंने इस मुद्दे पर शरद पवार से बात की है. इससे पहले उन्होंने यह भी कहा था कि यूपीए के पुन:गठन की आवश्यकता है ताकि वह भाजपा के मजबूत विकल्प के रूप में उभर सके और नये मोर्चे का नेतृत्व पवार जैसे वरिष्ठ नेताओं को करना चाहिए.

इसका राजनीति से कोई लेना देना नहीं : प्रशांत किशोर और शरद पवार के बीच मुलाकात करीब तीन घंटे तक चली. इस मुलाकात में क्या खिचड़ी पकी और क्या हुआ, इस पर बहुत कुछ सामने नहीं आया है, लेकिन प्रशांत किशोर ने इसे महज एक निजी बैठक बताया है और कहा कि इसका राजनीति से कोई लेना देना नहीं है.

भाषा इनपुट के साथ

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें