1. home Home
  2. national
  3. national news farmers protest tractor march to parliament postponed on 29 nov skm meeting smb

Farmers Agitation: किसानों का 29 नवंबर को ट्रैक्टर से संसद मार्च स्थगित! मीटिंग में लिया गया फैसला

Farmers Protest संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं की बैठक में शनिवार को बड़ा फैसला लिया गया है. सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि बैठक में किसानों का 29 नवंबर को ट्रैक्टर से संसद मार्च स्थगित करने का निर्णय लिया गया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
BKU Leader Rakesh Tikait
BKU Leader Rakesh Tikait
Social Media

Farmers Protest संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं की बैठक में शनिवार को बड़ा फैसला लिया गया है. सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि बैठक में किसानों का 29 नवंबर को ट्रैक्टर से संसद मार्च स्थगित करने का निर्णय लिया गया है. बता दें कि इससे पहले 29 को संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन संसद तक ट्रैक्टर मार्च का एलान किया गया था.

दरअसल, सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर आज संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं की बैठक हुई. इस दौरान संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने ट्रैक्टर से संसद मार्च को लेकर बड़ा फैसला लेते हुए इसे स्थगित करने का निर्णय लिया है. हालांकि, इस बारे में अभी आधिकारिक एलान किया गया है. सूत्रों का कहना है कि 29 नवंबर को संसद तक ट्रैक्टर मार्च के घोषित कार्यक्रम को स्थगित किए जाने का आधिकारिक मोर्चा की प्रेस कॉन्फ्रेंस में कर दिया जाएगा.

बता दें कि भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने लखनऊ की किसान महापंचायत से पहले कहा था कि 26 नवंबर तक के पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अपने तय समय पर ही होंगे. साथ ही राकेश टिकैत ने कहा था कि संसद तक ट्रैक्टर मार्च को लेकर फैसला संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में लिया जाएगा. वहीं अब खबरें आ रही है कि संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में 29 नवंबर तक प्रस्तावित संसद तक ट्रैक्टर मार्च को स्थगित करने का फैसला कर किया है.

आंदोलन कर रहे किसानों की ओर से संसद तक ट्रैक्टर मार्च स्थगित का फैसला उस दिन लिया है, जिस दिन कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों की दो अन्य मांगों को लेकर सकारात्मक रुख दिखाया और किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील की.

कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा है कि तीनों कृषि कानून निरस्‍त करने की घोषणा के बाद, मैं समझता हूं कि अब आंदोलन का कोई औचित्‍य नहीं बनता है. इसलिए मैं किसान संगठन और किसानों को यह‍ निवेदन करना चाहता हूं कि वे अपना आंदोलन समाप्‍त करें. बड़े मन का परिचय दें और प्रधानमंत्री जी की जो घोषणा हैं, उसका आदर करें और अपने-अपने घर लौटना सुनिश्चित करें.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें