1. home Hindi News
  2. national
  3. narendra modi interacts ngo representative varanasi video conferencing

वाराणसी की जनता से बोले पीएम, कोरोना संकट काल में उम्मीद से भरी हुई है काशी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
वाराणसी की जनता से बोले पीएम,  कोरोना संकट काल में उम्मीद से भरी हुई है काशी
वाराणसी की जनता से बोले पीएम, कोरोना संकट काल में उम्मीद से भरी हुई है काशी
Twitter

कोरोना संकट के दौर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी के एनजीओ के प्रतिनिधियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि ये भगवान शंकर का आशीर्वाद है कि कोरोना के इस संकट काल में हमारी काशी उम्मीद से भरी हुई है. उत्साह से भरी हुई है. ऐसे संकट के दौर में लोग बाबा विश्वनाथ के दर्शन नहीं कर पा रहे हैं. किसी भी प्रकार का आयोजन नहीं हो पा रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि इस अभूतपूर्व संकट के समय में और मेरी काशी, हमारी काशी ने, इस अभूतपूर्व संकट का डटकर मुकाबला किया है.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिये वाराणसी के जनता और एनजीओ के जनप्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए कौन क्या कदम उठा रहा है, अस्पतालों की स्थिति क्या है, कहां क्या व्यवस्थाएं की जा रही हैं, कोरेंटिन को लेकर क्या हो रहा है, बाहर से आए श्रमिक साथियों के लिए क्या प्रबंध हो रहे हैं, ये सारी जानकारियां मुझे मिल रही थीं. लॉकडाउन के दौरान एनजीओं की भूमिका को लेकर कहा कि तमाम संगठनों के लिए ये बहुत सौभाग्य की बात है कि इस बार भगवान ने उन्हें गरीबों की सेवा का माध्यम बनाया. एक तरह से सभी मां अन्नपूर्णा और बाबा विश्वनाथ के दूत बनकर हर ज़रूरतमंद तक पहुंचे.

कोरोना संकट में लोगों की राहत को पहुंचाने के लिए किये गये कार्यों की सराहना करते हए प्रधानमंत्री ने कहा कि कम समय में फूड हेल्पलाइन और कम्यूनिटी किचन का व्यापक नेटवर्क तैयार करना, हेल्पलाइन विकसित करना, डेटा साइंस की मदद लेना, वाराणसी स्मार्ट सिटी के कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का भरपूर इस्तेमाल करना, यानि हर स्तर पर सभी ने गरीबों की मदद के लिए पूरी क्षमता से काम किया. जब इस बार महामारी आई, तो सभी भारत को लेकर डरे हुए थे. एक्सपर्ट्स भारत पर सवाल खड़ रहे थे कि स्थिति और खराब हो जायेगी. 23-24 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश को लेकर तो आशंकाएं और भी ज्यादा थीं लेकिन उत्तर प्रदेश के लोगों के परिश्रम ने सारी आशंकों को ध्वस्त कर दिया.

काशी के युवाओं और किसानों को आग्रह करते हुए कहा कि इस संकट के दौर में व्यवसाय में बढ़-चढ़ कर अपनी भागीदारी निभाए. इससे एक दिन काशी भारत के एक बड़े एक्सपोर्ट हब के रूप में विकसित होगी. सरकार ने हाल ही में जो फैसले लिए हैं उससे काशी में साड़ियां और दूसरे हस्तशिल्प. डेयरी और मतस्य पालन के साथ अन्य संभावनाएं खुलेंगी. इस समय काशी में कई बड़े प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है. जैसे ही स्थितियां सामान्य होंगी काशी की पुरानी रौनक फिर लौट जायेगी.

Posted By: Pawan Singh

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें