28.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Joshimath: जोशीमठ में सीएम धामी, असुरक्षित ढांचे को गिराने की कार्रवाई बाधित, जानें क्या है लोगों की मांग?

परिवारों के बीच पैकेज राशि के वितरण एवं पुनर्वास पैकेज की दर तय करने के लिए चमोली के जिलाधिकारी हिमांशु खुराना की अध्यक्षता में 19 सदस्यीय समिति का गठन किया गया है. जोशीमठ में मीडिया से बातचीत में धामी ने स्पष्ट किया कि जोशीमठ में चिह्नित असुरक्षित भवनों में से केवल दो होटल को ही अभी तोड़ा जाएगा.

Joshimath: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बुधवार को भू-धंसाव से प्रभावित जोशीमठ नगर का जायजा लेने पहुंचे और प्रभावितों के लिए अंतरिम सहायता की घोषणा की. वहीं, बदरीनाथ महायोजना की तर्ज पर मुआवजा राशि की मांग को लेकर अड़े स्थानीय लोगों ने असुरक्षित घोषित किए जा चुकीं इमारतों को तोड़ने की कार्रवाई में बाधा पहुंचाई.

‘हम जोशीमठ के लोगों के साथ खड़े हैं’, धामी ने कहा

धामी ने जोशीमठ पहुंचने पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम जोशीमठ के लोगों के साथ खड़े हैं. प्रधानमंत्री स्थिति की निगरानी कर रहे हैं. प्रभावित लोगों के हितों का ध्यान रखा जाएगा.’’ प्रभावित परिवारों के बीच पैकेज राशि के वितरण एवं पुनर्वास पैकेज की दर सुनिश्चित करने के लिए चमोली के जिलाधिकारी हिमांशु खुराना की अध्यक्षता में 19 सदस्यीय समिति का गठन किया गया है. जोशीमठ में मीडिया से बातचीत में धामी ने स्पष्ट किया कि जोशीमठ में चिह्नित असुरक्षित भवनों में से केवल दो होटल को ही अभी तोड़ा जाएगा और यह भी सबकी सहमति से होगा.

अंतरिम राहत की घोषणा लोगों को फौरी रूप से राहत देने के लिए की गयी

मुख्यमंत्री ने समुचित तरीके से राहत एवं पुनर्वास कार्यों को अपनी प्राथमिकता बताते हुए कहा कि अंतरिम राहत की घोषणा लोगों को फौरी रूप से राहत देने के लिए की गयी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी लगातार जोशीमठ की स्थिति की निगरानी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि एक सप्ताह से भी अधिक समय पहले एक भूमिगत चैनल के फटने के बाद से मारवाड़ी वार्ड से रिसने वाले पानी का बल लगभग आधा हो गया है. मुख्यमंत्री ने कहा, “यह एक राहत देने वाली खबर है क्योंकि पानी के लगातार रिसाव से चिंता पैदा हो गई थी कि यह जोशीमठ में भूमि धंसाव को और बढ़ा सकता है.”

Also Read: Joshimath Crisis: ऑपरेशन बुलडोजर में देरी, जोशीमठ का मौसम और बिगड़ा, जानिए संकट से जुड़ी 10 बड़े अपडेट प्रति परिवार 1.50 लाख रुपये की अंतरिम सहायता दी जा रही

उन्होंने कहा कि तात्कालिक तौर पर प्रति परिवार 1.50 लाख रुपये की अंतरिम सहायता दी जा रही है. धामी ने कहा कि इनमें से एक लाख रुपये की धनराशि उन्हें स्थायी विस्थापन नीति तैयार होने से पहले अग्रिम के रूप में तथा 50 हजार रुपये सामान की ढुलाई एवं तात्कालिक आवश्यकताओं के लिए दी जा रही है. धामी ने कहा कि प्रभावित क्षेत्र में कुल खर्च का पूरा आकलन कर सहायता राशि दी जाएगी. मुख्यमंत्री ने जोशीमठ में आपदा प्रभावित परिवारों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने एक माह का वेतन भी देने की घोषणा की.

कस्बे में विरोध प्रदर्शन जारी, लोगों को अस्थायी राहत केंद्रों में स्थानांतरित किया

इस बीच, कस्बे में विरोध प्रदर्शन जारी रहा और इसी तरह प्रभावित परिवारों को निकाला गया, 18 और लोगों को अस्थायी राहत केंद्रों में स्थानांतरित कर दिया गया. जोशीमठ नगर क्षेत्र में 723 भवनों को भू-धंसाव प्रभावित के रूप में चिह्नित किया गया है जिनमें से बुधवार तक 145 परिवारों को अस्थायी राहत शिविरों में विस्थापित किया गया. जोशीमठ में दो होटल-सात मंजिला ‘मलारी इन’ और पांच मंजिला ‘माउंट व्यू’ दरारें आने के कारण एक दूसरे की ओर खतरनाक तरीके से झुक गए हैं और उनके नीचे स्थित करीब एक दर्जन घर खतरे की जद में हैं.

भाषा इनपुट

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें