1. home Hindi News
  2. national
  3. it minister ashwini vaishnav said remove harmful content on social media from yourself pyu

IT मंत्री अश्विनी वैष्णव बोले- सोशल मीडिया को जवाबदेह ठहराने की प्रक्रिया में भारत, तेजी से चल रहा है काम

अश्विनी वैष्णव ने कहा कि आज सोशल मीडिया की जवावदेही देशभर के लिए एक बड़ा सवाल बन गया है. उन्होंने कहा कि सामग्री विनियमन के संबंध में सोशल मीडिया को कैसे जवाबदेह बनाया जाए, इस पर तेजी से काम चल रहा है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव
सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव
twitter

सोशल मीडिया (Social Media) की जवाबदेही को लेकर केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव (IT Minister Ashwini Vaishnaw) ने मंगलवार को कहा कि सोशल मीडिया एक पावर फूल मीडियम है. इसका हमारे जीवन में बहुत बड़ा प्रभाव है. इसकी जवाबदेही कैसे हो ये दुनिया में अभी सबसे बड़ा सवाल बन गया है. लोगों को खुद ही हानिकारक कंटेंट को खुद से दूर करना होगा फिर उद्योग और सरकारी विनियमन करेगा. पूरी दुनिया में इसपर विचार हो रहा है कि सोश्ल मीडिया में जवाबदेही लायी जाए. अश्विनी वैष्णव ने यह बयान राष्ट्रीय स्टार्टअप सम्मेलन के दौरान कही.

सोशल मीडिया ने लाए परिवर्तनकारी बदलाव

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आईटी मंत्री ने कहा कि मोबाइल फोन और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इंटरनेट ने शक्तिशाली और परिवर्तनकारी बदलाव लाए हैं, लेकिन यह जिम्मेदारियों के साथ आना चाहिए था. वैष्णव ने जोर देकर कहा कि सोशल मीडिया और डिजिटल दुनिया को और अधिक जवाबदेह बनाने की जरूरत है.

कानूनों का पालन करना सभी की जिम्मेदारी- वैष्णव

उन्होंने आगे कहा, कोई भी कंपनी हो, किसी भी क्षेत्र में, उन्हें भारत के कानूनों का पालन करना चाहिए. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव का कहना है कि संसद द्वारा पारित कानूनों का पालन करना सभी की जिम्मेदारी है. बता दें कि बता दें कि यह बयान तब आया है जब ट्विटर ने माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर पोस्ट की गई सामग्री को हटाने के केंद्र सरकार के आदेश के खिलाफ अदालत का रुख किया है. ट्वीटर ने भारतीय अधिकारियों पर सत्ता का दुरुपयोग का आरोप लगाया है.

पिछले 8 वर्षों में डिजिटल इंडिया की यात्रा संतोषजनक

वैष्णव ने कहा कि पिछले 8 वर्षों की डिजिटल इंडिया की यात्रा संतोषजनक रही. 8 साल पहले गिने-चुने स्टार्टअप थे और आज 73,000 स्टार्टअप हैं और 100 से अधिक यूनिकॉर्न हैं. इस यात्रा को कैसे अगले 10 वर्षों तक आगे लेकर जाएं इस पर सभी स्टार्टअप के साथ चर्चा हो रही है.

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें