30.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

इजराइल-हमास युद्ध : अल-शिफा अस्पताल छोड़ 450 मरीज भागे, कई लोगों ने पैदल ही नाप दिया रास्ता

इजराइली सेना ने लाउडस्पीकर पर एक घंटे में अल-शिफा अस्पताल को खाली करने का फरमान जारी किया है. स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि इजराइली सेना की ओर से अस्पताल के निदेशक मोहम्मद अबू को निर्देश दिया गया था कि वे मरीजों, घायलों, विस्थापितों और चिकित्सा कर्मचारियों को निकालने की व्यवस्था करें.

यरूशलम : इजराइली सेना की ओर से गाजा पट्टी के प्रमुख अस्पताल अल-शिफा को खाली कराने के आदेश के बाद सैकड़ों मरीज भाग गए. इस अस्पताल में दो हजार से अधिक मरीज और विस्थापित लोग फंसे हुए थे. समाचार एजेंसी एएफपी की रिपोर्ट के अनुसार, गाजा के स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि अल-शिफा अस्पताल में करीब 450 मरीज रह गए थे. यह अस्पताल युद्ध का मुख्य केंद्र बन गया था. इजराइल का दावा है कि हमास का संचालन केंद्र होने की वजह से अस्पताल के अंदर सैन्य अभियान चलाया जा रहा है. हालांकि, हमास ने इजराइल के इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया है.

इजराइली सेना ने लाउडस्पीकर पर जारी किया फरमान

समाचार एजेंसी एएफपी की रिपोर्ट में कहा गया है कि इजराइली सेना ने लाउडस्पीकर पर एक घंटे में अल-शिफा अस्पताल को खाली करने का फरमान जारी किया है. स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि इजराइली सेना की ओर से अस्पताल के निदेशक मोहम्मद अबू को निर्देश दिया गया था कि वे मरीजों, घायलों, विस्थापितों और चिकित्सा कर्मचारियों को निकालने की व्यवस्था करें. सेना की ओर से कहा गया कि अस्पताल के मरीजों को समुद्र तट की ओर चला जाना चाहिए.

गाजा के मध्य और दक्षिण क्षेत्र में हवाई हमला जारी

रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि 2,300 मरीज, कर्मचारी और विस्थापित फलिस्तीनी अस्पताल अल-शिफा में आश्रय लिये हुए थे. इजराइल ने फलिस्तीनियों से अपनी सुरक्षा के लिए गाजा की उत्तर दिशा की ओर चले जाने को निर्देश दिया. गाजा के मध्य और दक्षिणी क्षेत्रों में घातक हवाई हमले जारी हैं. इजराइल के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार तजाची हानेग्बी ने कहा कि हमने महामारी के प्रसार को रोकने के लिए यह कदम उठाया है.

Also Read: हमास-इजराइल युद्ध में आम नागरिकों के मारे जाने पर भारत ने की कड़ी निंदा, पीएम मोदी ने दिया फाइव सी का मंत्र

250 लोग बंधक

इजराइल ने कहा कि करीब 1,200 लोगों में से अधिकांश नागरिक हैं और लगभग 240 लोगों को बंधक बना लिया गया है. गाजा में 5,000 बच्चों समेत करीब 12,000 लोग मारे गए हैं. फलिस्तीनी शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र एजेंसी (यूएनआरडब्ल्यूए) ने कहा कि दक्षिण गाजा में 70 फीसदी निवासियों को साफ पानी तक नहीं मिल रहा है. इसमें चेतावनी दी गई है कि नालियों का गंदा पानी सड़कों पर बहना शुरू हो गया है. संयुक्त राष्ट्र के मानवतावादी प्रमुख मार्टिन ग्रिफिथ्स ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को बताया कि एजेंसी को अब तक ईंधन की आपूर्ति हमारी न्यूनतम मानवीय जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए आवश्यक मात्रा का एक अंश थी. गाजा में 15 लाख से अधिक लोग आंतरिक रूप से विस्थापित हो गए हैं, जबकि गाजा के आधे से अधिक अस्पताल अब काम नहीं कर रहे हैं.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें