1. home Hindi News
  2. national
  3. india china tension border line of actual control lac daulat beg oldi chinese army pla depsang plains

India China Face off : क्या भारत के साथ युद्ध की तैयारी कर रहा है चीन ? LAC पर खोला एक और मोर्चा

By amitabh kumar
Updated Date
India China Face off : क्या भारत के साथ युद्ध की तैयारी कर रहा है चीन ? LAC पर खोला एक और मोर्चा
India China Face off : क्या भारत के साथ युद्ध की तैयारी कर रहा है चीन ? LAC पर खोला एक और मोर्चा
pti

India China Face off : वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तनाव घटाने के प्रयासों के बीच चीन की नई चाल नजर आ रही है जिससे यह सवाल उठने लगा है कि क्या भारत के साथ चीन युद्ध (india china war) की तैयारी कर रहा है ? दरअसल, चीन ने एक और नया मोर्चा खोल दिया है और गलवान घाटी (galwan valley , pla) के उत्तर में स्थित देपसांग मैदानी इलाके में भारतीय सीमा के अंदर दाखिल हो गया है. इस संबंध में अंग्रेजी वेबसाइट 'इंडियन एक्सप्रेस' ने एक खबर प्रकाशित की है.

'इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार चीन ने इलाके में सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है और टैंक आदि की तैनाती भी कर दी है. इस इलाके की बात करें तो ये भारत के दौलत बेग ओल्डी (DBO) सैन्य हवाई अड्डे के नजदीक है, इसलिए ये रणनीतिक तौर पर बेहद महत्वपूर्ण है. अंग्रेजी वेबसाइट की मानें तो दौलत बेग ओल्डी हवाई अड्डे से लगभग 30 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में चीन ने देपसांग की वाई-जंक्शन या बोटलनेक नामक जगह पर बड़ी संख्या में सैनिक तैनात कर दिए हैं.

अपने सूत्रों के हवाले से अंग्रेजी वेबसाइट ने रिपोर्ट दी है कि चीन ने इलाके में भारी वाहन और विशेष सैन्य उपकरण भी तैनात किए हैं. बोटलनेक एलएसी (LAC) पर भारतीय सीमा के लगभग 18 किलोमीटर अंदर है. हालांकि चीन इससे भी पांच किलोमीटर अंदर तक के इलाके को अपना बताता है.

बोटलनेक इस मैदानी इलाके में एक उठा हुआ इलाका है जिसे वाई-जंक्शन के नाम से इसलिए जाना जाता है क्योंकि यहां लद्दाख के बर्त्से इलाके से आने वाला रास्ता दो हिस्सों में बंट जाता है. एक इलाका उत्तर में राकी नाला से होते हुए पेट्रोलिंग पॉइंट-10 (PP-10) तक जाता है, वहीं दूसरा इलाका दक्षिण-पूर्व में PP-13 की ओर रुख करता है. इन दोनों रास्तों पर भारतीय सैनिक पैदल PP-10, PP-11, PP-11A, PP-12 और PP-13 तक गश्त करने का काम करते हैं.

इलाके के सभी पेट्रोलिंग पॉइंट LAC के कुछ किलोमीटर अंदर है और 20 किलोमीटर का ये फ्रंट भारत-चीन सीमा पर एकमात्र ऐसा इलाका है जहां भारतीय सेनाएं बिल्कुल LAC तक गश्त नहीं करतीं. यदि आपको याद हो तो चीनी सैनिकों ने अप्रैल, 2013 में इस इलाके में प्रवेश करते हुए अपने टेंट बना लिए थे जिसके बाद लगभग तीन हफ्ते तक दोनों देशों के सैनिक एक-दूसरे के आमने-सामने रहे थे और राजनयिक बातचीत के बाद चीनी सैनिकों को कदम पीछे हटाने पड़े. इस घटना के बाद भारत ने बोटलनेक पर एक नया बेस बना लिया था. हालांकि इसके बावजूद सितंबर, 2015 में चीन का एक गश्ती दल अंदर प्रवेश कर गया था.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें