1. home Home
  2. national
  3. himachal pradesh news superstition led three family members to dies in chamba amh

अंधविश्वास : मरे हुए बेटे को तंत्र-मंत्र से जीवित करने में लगी महिला, मांस गलने लगा फिर...

अंधविश्वास के चलते परिवार के तीन लोगों की जान गई. बेटी ने दो दिन पहले अस्पताल में दम तोड़ा. मां का शव गुरुवार को फांसी पर लटका मिला तो घर में बेटे की कई दिन पुरानी लाश मिली.

By संवाद न्यूज एजेंसी
Updated Date
superstition
superstition
file photo

चंबा (हिमाचल) : अंधविश्वास के चलते परिवार के तीन लोगों की जान गई. बेटी ने दो दिन पहले अस्पताल में दम तोड़ा. मां का शव गुरुवार को फांसी पर लटका मिला तो घर में बेटे की कई दिन पुरानी लाश मिली. उसका मांस तक गलने लगा था. माना जा रहा है कि खुद को देवी का गुर बताने वाली महिला मृत बेटे को तंत्र-मंत्र से जीवित करने में लगी थी. सफल न होने पर निराश होकर आत्महत्या कर ली. हालांकि अभी मौतों का रहस्य खुलना बाकी है. मामला पांगी घाटी रेई पंचायत का है.

मिली जानकारी के अनुसार गांव मझरौऊ निवासी बेदब्यास रविवार को अपनी दो बेटियों को इलाज के लिए चंबा लेकर गया था. दो दिन पहले एक बेटी की मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई. उसका अंतिम संस्क‌ार भी किसी संस्था ने करवाया. दूसरी बेटी अभी मेडिकल कॉलेज में उपचाराधीन है. गुरुवार को जब घर लौटा तो पत्नी का शव फंदे पर झूलता पाया. उससे जानकारी पाकर पड़ोसियों ने पुलिस बुलाई तो घर से युवा बेटे प्रेमजीत की भी लाश मिली. प्रेमजीत की लाश की हालत से उसकी मौत कई दिन पहले होने का अनुमान है.

पोस्टमार्टम से पता चलेगा मौत कैसे और कब हुई : पुलिस ने मां-बेटे के शव को पोस्टमार्टम के लिए चंबा मेडिकल कॉलेज भेजा है. कल होने वाले पोस्टमार्टम की रिपोर्ट से प्रेमजीत की मौत के कारणों और समय का पता लगेगा. वहीं, मेडिकल कॉलेज में दम तोड़ने वाली बेदव्यास की 19 वर्षीय लड़की का भी पोस्टमार्टम करवाया गया है. उसकी रिपोर्ट आना भी बाकी है.

तंत्र-मंत्र का फेर, किसी से मिलता-जुलता नहीं था परिवार : स्थानीय लोगों के मुताबिक प्यार देई खुद को देवी की गुर मानती थी. उसने अपने परिवार को गांव में अन्य लोगों के साथ मिलने-जुलने पर रोक लगा रखी थी. पूरा परिवार अपने घर में ही रहता और प्यार देई के कहे अनुसार ही सारे काम करता था. पड़ोसियों का अनुमान है कि प्यार देई के बेटे की मौत कई दिन पहले हो चुकी थी. शव का अंतिम संस्कार करने की बजाए उसे दोबारा जीवित करने के लिए तंत्र साधना की जा रही थी. अनुमान है कि सफल न होने पर हताशा में मां ने खुदकुशी कर ली होगी. इससे पहले ही बीमार पड़ी लड़कियों को उनका पिता इलाज के लिए अस्पताल ले जा चुका था. पड़ोसियों का कहना है कि लड़की की भी मौत अंधविश्वास में ही अस्पताल पहुंचने में देर होने का नतीजा हो सकता है.

पुलिस को भी पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार : डीएसपी चंबा अभिमन्यु ने बताया कि महिला व उसके बेटे का शव बरामद हुआ है. लड़के के शव को देख लग रहा है कि वह कई दिन पुराना है. कितने दिन पहले उसकी मौत हुई थी, इसका पता पोस्टमार्टम के बाद ही लगेगा. मौत के सही कारणों का भी पता तभी चलेगा. पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई होगी. पिता से पूछताछ की जा रही है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें