1. home Hindi News
  2. national
  3. hanuman chalisa row navneet rana letter to lok sabha speaker neither drinking water bathroom commented caste smb

जेल में बंद नवनीत राणा की लोकसभा अध्यक्ष को चिट्ठी, दलित होने के कारण बाथरूम तक इस्तेमाल नहीं करने दिया

महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर विवाद के बीच हनुमान चालीसा पाठ को लेकर सियासत गरमा गई है. दरअसल, उद्धव ठाकरे के खिलाफ बीजेपी के अभियान के बीच चर्चा में आई अमरावती की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा के जेल में जाने के बाद से अचानक महाराष्ट्र की राजनीति में एक नई हलचल पैदा हो गई है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Hanuman Chalisa Row:जेल में बंद नवनीत राणा का मुंबई पुलिस पर बड़ा आरोप
Hanuman Chalisa Row:जेल में बंद नवनीत राणा का मुंबई पुलिस पर बड़ा आरोप
फाइल

Hanuman Chalisa Row: महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर विवाद के बीच हनुमान चालीसा पाठ को लेकर सियासत गरमा गई है. दरअसल, उद्धव ठाकरे के खिलाफ बीजेपी के अभियान के बीच चर्चा में आई अमरावती की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा के जेल में जाने के बाद से अचानक महाराष्ट्र की राजनीति में एक नई हलचल पैदा हो गई है. बता दें कि साउथ इंडियन फिल्मों की पूर्व एक्ट्रेस और सांसद नवनीत राणा ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के घर पर हनुमान चालीसा के पाठ का ऐलान क्या किया था. जिसको लेकर शिवसैनिकों ने जमकर बवाल काटा.

नवनीत राणा ने जेल से लोकसभा स्पीकर को लिखी चिट्ठी

इसके बाद मुंबई पुलिस ने कई केस दर्ज किए और सांसद नवनीत राणा के साथ ही उनके पति विधायक रवि राणा को गिरफ्तार करके जेल पहुंचा दिया. अब नवनीत राणा ने लोकसभा स्पीकर को चिट्ठी लिखकर उद्धव सरकार और महाराष्ट्र पुलिस पर कई आरोप लगाए हैं. लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला को चिट्ठी लिखी में नवनीत का दर्द छलका है. नवनीत राणा ने चिट्ठी में लिखा कि मुझे 23 तारीख को पुलिस स्टेशन ले जाया गया. 23 अप्रैल को मुझे पूरी रात पुलिस स्टेशन में ही गुजारनी पड़ी. रात को मैंने कई बार पीने के लिए पानी मांगा, लेकिन रातभर मुझे पानी नहीं दिया गया.

राणा का मुंबई पुलिस पर बड़ा आरोप

नवनीत ने इसके साथ ही बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि मौके पर मौजूद पुलिस स्टाफ ने कहा कि मैं अनुसूचित जाति की हूं, इसलिए वह मुझे उसी ग्लास में पानी नहीं दे सकते, जिसमें वे लोग पीते हैं. मतलब मुझे मेरी जाति की वजह से पीने के लिए पानी तक नहीं दिया गया. मैं यह जोर देकर कहना चाहती हूं कि मेरी जाति की वजह से मुझे बुनियादी मानवाधिकारों से वंचित रखा गया.

मुझे दी गई गाली

अमरावती से सांसद नवनीत राणा आगे कहती हैं कि मुझे रात को बाथरूम जाना था, लेकिन पुलिस स्टाफ ने मेरी इस मांग पर भी कोई ध्यान नहीं दिया. फिर मुझे गाली दी गई. कहा गया कि नीची जात वालों को वे अपना बाथरूम इस्तेमाल नहीं करने देते हैं. उन्होंने लोकसभा स्पीकर को लिखी चिट्ठी में कहा कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में रही शिवसेना सरकार अपने हिंदुत्व के सिद्धांतों से पूरी तरह से भटक चुकी है. ये लोग जनता के उस भरोसे को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं जिसके आधार पर ये सत्ता में आए.

मेरा कदम सीएम के खिलाफ नहीं था, लेकिन...

सांसद नवनीत ने अपनी चिट्ठी में कहा कि मैंने शिवसेना में हिंदुत्व की लौ फिर से जगाने को कोशिश की थी. इसी वजह से सीएम उद्धव ठाकरे के आवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा के पाठ का ऐलान किया था. यह यह किसी की धार्मिक भावनाएं आहत करने के लिए या फिर तनाव भड़काने के लिए नहीं किया था. मैंने सीएम उद्धव ठाकरे को हनुमान चालीसा के पाठ में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया था. मेरा कदम सीएम के खिलाफ नहीं था. लेकिन, मुझ पर आरोप लगाया गया कि मेरे इस कदम से मुंबई में कानून और व्यवस्था को खतरा हो सकता है. इसके बाद मैंने ये भी कहा कि मैं सीएम आवास नहीं जाऊंगी.

नवनीत मुंबई की भायखला जेल में और उनके पति तलोजा जेल में बंद

मुंबई पुलिस ने सांसद नवनीत राणा को यहां की भायखला महिला जेल में स्थानांतरित किया है, वहीं उनके पति एवं विधायक रवि राणा को नवी मुंबई के तलोजा जेल ले जाया गया है. एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी. राणा दंपत्ति को शनिवार को गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास ‘मातोश्री' के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की बात कही थी, जिससे शिवसेना के कार्यकर्ता बेहद आक्रोशित हो गए थे और उन्होंने राणा के आवास के आगे विरोध प्रदर्शन किया था.

राणा पर लगाई गई ये धाराएं

मुंबई पुलिस ने राणा दंपत्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है और बाद में उसमें राजद्रोह का आरोप भी जोड़ दिया. रविवार को मुंबई की एक अदालत ने राणा दंपति को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. इसके बाद रविवार देर रात अमरावती से सांसद नवनीत राणा को भायखला महिला कारावास ले जाया गया था. एक अधिकारी ने बताया कि उनके पति एवं अमरावती के बडनेरा से विधायक रवि राणा को पहले यहां के ऑर्थर रोड जेल ले जाया गया था, लेकिन वहां जगह नहीं होने के कारण उन्हें नवी मुंबई की तलोजा जेल ले जाया गया. राणा दंपत्ति के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा- 153 ए, धारा 34 और मुंबई पुलिस अधिनियम की धारा-135 का मामला दर्ज किया गया. बाद में इसमें 124-ए (राजद्रोह) की धारा भी जोड़ी गयी है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें