1. home Hindi News
  2. national
  3. halal food is economic jihad says bjp leader ct ravi mtj

Halal|Economic Jihad|हलाल भोजन ‘आर्थिक जिहाद’, बोले भाजपा महासचिव सीटी रवि

उगाडी के एक दिन बाद, ‘गैर-शाकाहारी’ हिंदुओं का एक वर्ग भगवान को मांस चढ़ाता है और नव वर्ष मनाता है. कुछ दक्षिणपंथी कार्यकर्ता लोगों से ऐसा नहीं करने को कह रहे हैं.

By Agency
Updated Date
भाजपा नेता सीटी रवि
भाजपा नेता सीटी रवि
Twitter

बेंगलुरु: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने ‘हलाल’ भोजन को ‘आर्थिक जिहाद’ बताया है. पिछले कुछ दिनों से कुछ दक्षिणपंथी समूह हिंदुओं से ‘हलाल’ मांस का इस्तेमाल नहीं करने की अपील कर रहे हैं, खासकर उगाडी त्यौहार के बाद जो हिंदू नव वर्ष है.

गैर-शाकाहारी हिंदू भगवान को चढ़ाते हैं मांस

उगाडी के एक दिन बाद, ‘गैर-शाकाहारी’ हिंदुओं का एक वर्ग भगवान को मांस चढ़ाता है और नव वर्ष मनाता है. कुछ दक्षिणपंथी कार्यकर्ता लोगों से ऐसा नहीं करने को कह रहे हैं. इससे कुछ वक्त पहले ही कर्नाटक के कुछ हिस्सों में हिंदू धार्मिक मेलों के दौरान मंदिरों के आसपास एक खास समुदाय के लोगों की दुकान लगाने पर रोक लगा दी गयी थी.

मुसलमानों के साथ नहीं होना चाहिए व्यापार

रवि ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘हलाल एक आर्थिक जिहाद है. इसका मतलब है कि इसका इस्तेमाल जिहाद की तरह किया जाता है, ताकि समुदाय विशेष को अन्य के साथ व्यापार नहीं करना चाहिए. यह लागू किया गया है. जब वे सोचते हैं कि हलाल मांस का इस्तेमाल होना चाहिए, तो इसमें यह कहने में क्या गलत है कि इसका इस्तेमाल नहीं होना चाहिए?’

‘भगवान’ को चढ़ता है हलाल मांस

उन्होंने कहा कि हलाल मांस ‘उनके भगवान’ को चढ़ाया जाता है, जो उन्हें प्रिय है, लेकिन हिंदुओं के लिए यह किसी का बचा हुआ है. उन्होंने यह भी कहा कि हलाल को योजनाबद्ध तरीके से बनाया गया है, ताकि उत्पाद को सिर्फ एक खास वर्ग के लोगों से ही खरीदा जा सके, न कि हिंदुओं से.

हलाल का व्यापार एकतरफा नहीं होता

रवि ने पूछा, ‘जब मुस्लिम हिंदुओं से मांस खरीदने से इंकार करते हैं, तो आप हिंदुओं से क्यों कह रहे हैं कि वे उनसे खरीदें. लोगों को यह कहने का क्या अधिकार है?’ हलाल मांस का बहिष्कार करने के सवाल पर भाजपा नेता ने कहा कि ऐसा व्यापार एकतरफा नहीं होता है, बल्कि दोनों ओर से होता है.

राज्य को दूषित न करें- कुमारस्वामी

उन्होंने कहा कि अगर वह वर्ग गैर हलाल मांस खाने को तैयार है, तो ये लोग (हिंदू) भी हलाल मांस का इस्तेमाल करेंगे. इस बीच, पूर्व मुख्यमंत्री और जद (एस) नेता एचडी कुमारस्वामी ने ऐसी बातों की निंदा की और हिंदू युवकों से राज्य को ‘दूषित’ नहीं करने को कहा जो नस्लीय शांति और विश्वास का बगीचा है.

कुमारस्वामी ने कहा, ‘मैं सरकार से पूछना चाहता हूं कि आप इस राज्य को कहां ले जाना चाहते हैं. मैं हिंदू युवकों से हाथ जोड़कर विनती करता हूं कि राज्य को दूषित न करें.’ उन्होंने कहा कि उन्हें कर्नाटक में शांति और सद्भाव को बर्बाद नहीं करना चाहिए.

ऐसी हालत के लिए कांग्रेस जिम्मेदार- एचडी कुमारस्वामी

कुमारस्वामी ने आरोप लगाया, ‘कांग्रेस ऐसी सरकार को राज्य में लायी है. अब कांग्रेस भाजपा सरकार को अनैतिक बताती है. इसके लिए कौन जिम्मेदार है? मौजूदा हालात के लिए न जदएस और न ही एचडी कुमारस्वामी जिम्मेदार हैं. कांग्रेस की प्रताड़ना की वजह से राज्य के लोगों को भुगतना पड़ रहा है.’

जान-बूझकर धार्मिक नफरत फैलाना शर्मनाक

इस बीच, के मरालुसिद्दप्पा, प्रोफेसर एसजी सिद्धरमैया, बोलवार महमद कुन्ही और डॉ विजय सहित राज्य के 61 प्रगतिशील विचारकों ने मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई को पत्र लिखकर धार्मिक नफरत को रोकने की अपील की है. उन्होंने अपने पत्र में कहा कि यहां जान-बूझकर धार्मिक नफरत पैदा करना शर्मनाक काम है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें