1. home Hindi News
  2. national
  3. gujarat a girl found senseless near railway track in surat district crime against women in india increases surat me ladki ke saath rape ka shaq rjh

हाथरस के बाद अब सूरत में भी लड़की के साथ हैवानियत, आखिर कब रूकेगी महिलाओं के खिलाफ हिंसा?

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Crime against women
Crime against women
Photo : Twitter

नयी दिल्ली : देश में महिलाओं के खिलाफ हिंसा की खबर रूकने का नाम ही नहीं ले रही है. अभी आम इंसान हाथरस गैंगरेप की दरिंदगी को भूल भी नहीं पाया है कि सूरत में एक और लड़की के साथ हैवानियत किये जाने की खबर है. जानकारी के अनुसार लड़की रेलवे ट्रैक के पास बेहोश मिली है. उसकी हालत देखकर सहज ही यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि उसके साथ किस हद की दरिंदगी की गयी है.

लड़की सूरत के पलसाणा स्थित गंगापुर रेलवे ट्रैक के पास बेहोश मिली है. जब पुलिस को घटना की सूचना मिली तो उसे अस्पताल में भरती कराया गया है जहां उसका इलाज चल रहा है. फिलहाल वह बेहोश है इसलिए उसकी पहचान नहीं हो पायी है. डॉक्टरों ने बताया कि उसके शरीर में तीन फ्रैक्चर है. साथ ही उसके प्राइवेट पार्ट से खूब भी बह रहा है, जिसे देखकर डॉक्टरों ने यह आशंका जतायी है कि लड़की के साथ रेप हुआ है. लड़की जिले के सिविल अस्पताल में भरती है.

पुलिस उसके होश में आने की प्रतीक्षा कर रही है ताकि उसका बयान दर्ज हो और उसकी पहचान भी हो सके. उसके शरीर पर कई चोट के निशान भी हैं, पुलिस ने उसकी मेडिकल जांच करवाई है, रिपोर्ट का भी अभी इंतजार किया जा रहा है.

पिछले एक साल में महिलाओं के खिलाफ हिंसा में सात प्रतिशत की वृद्धि

NCRB के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2019 में देश में महिलाओं के खिलाफ 4 लाख 5 हजार 861 मामले दर्ज किए गये. 2018 में 3 लाख 78 हजार 236 मामले दर्ज किए गए थे. प्रति 1 लाख महिलाओं पर 2018 में अपराध की दर 58.8 फीसदी थी. 2019 में ये बढ़कर 62.4 फीसदी हो गई. 2019 में यूपी में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 59 हजार 853 मामले दर्ज किए गए. राजस्थान में 41 हजार 550 मामले दर्ज किए गए. महाराष्ट्र में 37 हजार 144 मामले दर्ज किए गए. बलात्कार के सर्वाधिक मामले राजस्थान में रिपोर्ट हुए. यहां रेप की 5 हजार 997 घटना रिपोर्ट हुई. यूपी में 3 हजार 65 मामले रिपोर्ट हुए. प्रति 1 लाख महिला पर रेप की वारदात को देखें तो राजस्थान में सर्वाधिक 15.9 फीसदी महिलाएं इसकी शिकार हुईं.

Posted By : Rajneesh Anand

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें