1. home Hindi News
  2. national
  3. e100 pilot project related to production distribution of ethanol has been launched in pune by pm narendra modi aml 2

पुणे में शुरू हुआ इथेनॉल उत्पादन के लिए E100 पायलट प्रोजेक्ट, विश्व पर्यावरण दिवस पर पीएम मोदी ने किया लॉन्च

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
विश्व पर्यावरण दिवस पर कार्यक्रम को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी.
विश्व पर्यावरण दिवस पर कार्यक्रम को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी.
Twitter

नयी दिल्ली : विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day) के अवसर पर भारत ने इथेनॉल क्षेत्र के विकास के लिए एक विस्तृत रोडमैप जारी कर एक और बड़ा कदम उठाया है. इथेनॉल (Ethanol) के उत्पादन और वितरण से संबंधित E100 पायलट प्रोजेक्ट (E100 pilot project) भी आज पुणे में शुरू किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने एक वर्चुअल कार्यक्रम में इसकी शुरूआत की है. उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में भारत इथेनॉल आधारित कई प्रोजेक्ट शुरू करेगा.

मोदी ने कहा कि बीते साल ही ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने 21,000 करोड़ रुपये का इथेनॉल खरीदा है. इसका एक बड़ा हिस्सा हमारे किसानों की जेब में गया है. विशेष रूप से गन्ना किसानों को इससे बड़ा लाभ हुआ है. हमारे किसान साथियों से जब मैं बात कर रहा था, तो कैसे बायो फ्यूज से जुड़ी व्यवस्थाओं को वे सहज रूप से अपना रहे हैं, ये उनका आत्मविश्वास बता रहा है. स्वच्छ ऊर्जा को लेकर देश में जो बड़ा अभियान चल रहा है, उसका लाभ कृषि क्षेत्र को मिलना भी स्वाभाविक है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर आप गौर करें तो 7-8 साल पहले भारत में एथेनॉल पर चर्चा दुर्लभ थी. लेकिन अब एथेनॉल भारत की 21वीं सदी की प्राथमिकताओं से जुड़ गया है. यह पर्यावरण के साथ-साथ किसानों के जीवन की भी मदद कर रहा है. हमने 2025 तक पेट्रोल में 20 फीसदी एथेनॉल ब्लेंडिंग को पूरा करने का संकल्प लिया है. 2014 तक औसतन सिर्फ 1-1.5 फीसदी एथेनॉल ब्लेंड किया जा रहा था. आज यह करीब 8.5 फीसदी पर पहुंच गया है.

पीएम मोदी ने कहा कि 2013-14 में भारत ने 38 करोड़ लीटर एथेनॉल खरीदा. आज यह संख्या 320 करोड़ लीटर है, जो लगभग 8 गुना अधिक है. उन्होंने कहा कि यह एक मिथ्या है कि वायु प्रदूषण केवल उद्योगों द्वारा फैलता है. हालांकि, परिवहन, डीजल जनरेटर आदि का इसमें महत्वपूर्ण योगदान है. भारत समग्र दृष्टिकोण के साथ अपने राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम पर काम कर रहा है.

स्वच्छ ऊर्जा पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमने देश को 37 करोड़ से अधिक एलईडी बल्ब और 23 लाख ऊर्जा कुशल पंखे उपलब्ध कराए हैं. इसी तरह, उज्ज्वला योजना के तहत गैसों और सौभाग्य योजना के तहत बिजली ने प्रदूषण को कम करने में मदद की है, जिससे महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार हुआ है. अर्थव्यवस्था और पारिस्थितिकी - दोनों एक साथ आगे बढ़ सकते हैं. भारत ने इस रास्ते को चुना है. पिछले कुछ वर्षों में, अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के साथ-साथ हमारे वन क्षेत्र में भी वृद्धि हुई है. हाल ही में देश में बाघों की आबादी दोगुनी हो गई है.

मोदी ने कहा कि 2014 तक, केवल 7 हवाई अड्डों के पास सौर ऊर्जा की थी. आज यह संख्या 50 पार कर चुकी है. ऊर्जा दक्षता के लिए, हमने 80 से अधिक हवाई अड्डों में एलईडी लाइट्स का उपयोग किया है. इस कार्यक्रम में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय पेट्रोलियम परिवहन मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद थे.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें