1. home Hindi News
  2. national
  3. covid 19 corona cases in india 529 lakhs state governments in can house to house survey preparation coronavirus pandemic

Covid-19: भारत में कोरोना के मामले 5.29 लाख, सकते में राज्य सरकारें, घर-घर सर्वेक्षण की तैयारी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
भारत में कोविड-19 के मामले
भारत में कोविड-19 के मामले
File Photo

नयी दिल्ली : एक दिन में करीब 20 हजार मामले आने के साथ भारत में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या रविवार को 5 लाख 28 हजार 859 हो गयी, वहीं मृतकों की संख्या 16,095 हो गयी है. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश ने भी घर-घर सर्वेक्षण कराने की घोषणा की है. केंद्र सरकार ने बताया कि ठीक होने वाले लोगों की संख्या कोविड-19 से संक्रमित एक्टिव मामलों की तुलना में एक लाख ज्यादा है.

सरकार ने कहा कि राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के साथ मिलकर ‘एहतियाती कदम' उठाने के ‘उत्साहजनक परिणाम' दिख रहे हैं. अपडेटेड आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज करा रहे लोगों की संख्या जहां दो लाख तीन हजार 51 है वहीं तीन लाख नौ हजार 712 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं और एक मरीज दूसरे देश चला गया है. एक अधिकारी ने बताया, ‘इस प्रकार अभी तक करीब 58.56 प्रतिशत मरीज ठीक हो चुके हैं.'

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया, ‘कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ भारत सरकार द्वारा उठाये गये चरणबद्ध एहतियाती कदमों से उत्साहजनक परिणाम दिख रहे हैं.' भारत में लॉकडाउन के नियमों में ढील दिए जाने की तारीख एक जून तक संक्रमित लोगों की संख्या तीन लाख 38 हजार 324 थी. देश में रविवार को संक्रमण के 19,906 मामले सामने आये. यह लगातार पांचवां दिन है जब कोरोना वायरस संक्रमण की संख्या 15 हजार से अधिक हुई है.

धीरे-धीरे खुल रहा देश, खुद का खयाल रखें

देश में ‘अनलॉक' चरण शुरू होते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अब कोरोना वायरस को परास्त करने और अर्थव्यवस्था को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित करना होगा. उन्होंने कहा कि भारत ने हमेशा आपदा को सफलता में परिवर्तित किया है और यह वर्ष भी अलग नहीं होगा. उन्होंने कहा कि लोगों को लॉकडाउन के समय की तुलना में ज्यादा सतर्कता बरतनी होगी. प्रधानमंत्री ने अपने मासिक ‘मन की बात' कार्यक्रम में चेताया, ‘हमेशा याद रखिए, अगर आपने मास्क नहीं पहना, छह फुट सामाजिक दूरी का पालन नहीं किया या अन्य एहतियात नहीं बरते तो खुद के अलावा आप दूसरों को भी खतरे में डाल रहे हैं, खासकर घर के बुजुर्गों और बच्चों को.'

प्रधानमंत्री की बातों का समर्थन करते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा कि 30 जून के बाद भी राज्य में लॉकडाउन की पाबंदियां जारी रहेंगी, क्योंकि संकट अभी टला नहीं है. ठाकरे ने कहा कि अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए अनलॉक की प्रक्रिया को धीरे-धीरे लागू किया जा रहा है, जिसे ‘मिशन बिगिन अगेन' नाम दिया गया है.

मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आये हैं. वहां संक्रमण के कुल एक लाख 59 हजार 133 मामले हैं जबकि दिल्ली में 80,188, तमिलनाडु में 78,335, गुजरात में 30,709, उत्तरप्रदेश में 21,549, राजस्थान में 16,944 और पश्चिम बंगाल में 16,711 मामले सामने आये हैं. कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के प्रयास के तहत मुंबई पुलिस ने लोगों से अपील की है कि व्यायाम के लिए जिम या दुकानों और सैलूनों में जाने के लिए अपने घर से दो किलोमीटर से ज्यादा के दायरे में नहीं जाएं.

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि चूंकि बड़ी संख्या में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं, इसलिए कड़ा अनुशासन लागू रहना जरूरी है. उन्होंने कहा, ‘मैं लॉकडाउन शब्द का प्रयोग नहीं भी कर रहा हूं तो भी गलतफहमी में नहीं रहें और सुरक्षा कम नहीं करें. वास्तव में हमें ज्यादा अनुशासन दिखाने की जरूरत है.' उन्होंने कहा, ‘हम इस युद्ध को अंतिम चरण में आधा-अधूरा नहीं छोड़ सकते. मुझे विश्वास है कि आप सरकार के साथ सहयोग करते रहेंगे ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि लॉकडाउन फिर से लागू नहीं हो.'

दिल्ली में अचानक बढ़ गये कोरोना के मामले

दिल्ली में मामलों में अचानक बढ़ोतरी के बाद अधिकारी संशोधित रणनीति को लागू कर रहे हैं और कोविड-19 निषिद्ध क्षेत्रों की संख्या 218 से बढ़कर 417 हो गयी है, जबकि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए घर-घर सर्वेक्षण की नीति के तहत करीब दो लाख 45 हजार लोगों की जांच की गयी है. अधिकारियों ने बताया कि निषिद्ध क्षेत्रों की संख्या में और बढ़ोतरी हो सकती है क्योंकि केंद्र के निर्देश के बाद अधिकारी कुछ जिलों में इस तरह के इलाकों की फिर से पहचान करने की प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाए हैं.

एक अधिकारी ने बताया, ‘हमने महानगर में कोविड-19 के लिए घर-घर जाकर करीब दो लाख लोगों की जांच की है. करीब 45 हजार लोगों की जांच कोविड-19 निषिद्ध क्षेत्रों में की गयी है.' प्रत्येक घर की जांच की प्रक्रिया छह जुलाई तक पूरी हो जायेगी. 2011 की जनगणना के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में करीब 34.35 लाख घर थे जिनमें 33.56 लाख शहरी क्षेत्रों में और 79,574 घर ग्रामीण क्षेत्रों में थे.

दस हजार से अधिक मामलों वाले अन्य राज्य हैं तेलंगाना (13,436), हरियाणा (13,427), मध्यप्रदेश (12,965), आंध्रप्रदेश (12,285) और कर्नाटक (11,923)। उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश ने भी निगरानी बढ़ाते हुए दिल्ली, गोवा, ओडिशा और झारखंड की तर्ज पर घर-घर सर्वेक्षण कराने का फैसला किया है. उत्तरप्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव (चिकित्सा और स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि राज्य में जुलाई में मेरठ मंडल से बड़े पैमाने पर अभियान शुरू किया जायेगा, जिसमें पोलियो उन्मूलन की तर्ज पर घर-घर सर्वेक्षण किया जायेगा.

उन्होंने कहा, ‘इसे निषिद्ध और गैर निषिद्ध क्षेत्रों में किया जायेगा.' मध्यप्रदेश की सरकार ने कहा कि राज्य में कोविड-19 के प्रसार पर नियंत्रण के लिए वह एक जुलाई से ‘कोरोना को मारो' अभियान शुरू करेगी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोविड-19 महामारी पर डिजिटल समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि अभियान के तहत घर-घर सर्वेक्षण किया जायेगा ओर दूसरी बीमारियों से पीड़ित नागरिकों की भी जांच की जायेगी. चौहान ने कहा कि 15 दिनों के अभियान में ढाई लाख जांच की जायेगी और रोजाना 15 हजार से 20 हजार नमूने एकत्रित किये जायेंगे.

कर्नाटक में बेंगलुरु पुलिस ने कहा कि मास्क नहीं लगाने और सामाजिक दूरी के नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया जायेगा. बेंगलुरु के पुलिस आयुक्त भास्कर राव ने रविवार को कहा कि महानगर में अगर कोई कोविड-19 के एहतियाती नियमों का पालन नहीं कर रहा है तो लोग पुलिस को फोन कर सकते हैं.

भारत में अभी तक केवल कोविड-19 की जांच के लिए 1036 प्रयोगशालाएं हैं। इनमें 749 सरकारी क्षेत्र की और 287 निजी क्षेत्र की प्रयोगशालाएं हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ‘रोजाना दो लाख से अधिक नमूनों की जांच की जा रही है. पिछले 24 घंटे में दो लाख 31 हजार 95 नमूनों की जांच हुई है. अभी तक 82 लाख 27 हजार 802 नमूनों की जांच हुई है.' रविवार की सुबह तक जिन 410 और लोगों की मौत हुई, उनमें से महाराष्ट्र में 167, तमिलनाडु में 68, दिल्ली में 66, उत्तर प्रदेश में 19, गुजरात में 18, पश्चिम बंगाल में 13, राजस्थान और कर्नाटक में 11-11, आंध्र प्रदेश में नौ, हरियाणा में सात, पंजाब और तेलंगाना में छह-छह, मध्य प्रदेश में चार, जम्मू कश्मीर में दो और बिहार, ओडिशा तथा पुडुचेरी में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है.

Posted By: Amlesh Nandan Sinha.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें