1. home Hindi News
  2. national
  3. coronavirus updates on reproduction metric covid can be spreading faster in up jharkhand and bihar amh

Reproduction Metric : झारखंड और बिहार के साथ यूपी में भी तेजी से फैल रहा है कोरोना का संक्रमण

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Coronavirus news case in india
Coronavirus news case in india
pti
  • कोरोना का संक्रमण देश में लगातार बढ़ता जा रहा है

  • आर वैल्यू यूपी में 2.14, झारखंड में 2.13 जबकि बिहार में 2.09 है

  • कोरोना संक्रमण की गति झारखंड और बिहार के साथ यूपी में भी तेज

Reproduction Metric : कोरोना का संक्रमण देश में लगातार बढ़ता जा रहा है लेकिन जो आंकड़े सामने आ रहे हैं उसने बिहार और झारखंड के साथ-साथ यूपी की भी चिंता बढ़ा दी है. दरअसल इन तीनों राज्यों में कोरोना संक्रमण प्रसार की रफ्तार बहुत तेज है. पिछले दो सप्ताह के रोजाना के आंकडों पर नजर डालें तो कोरोना संक्रमण के प्रसार की दर (आर वैल्यू) यूपी में 2.14, झारखंड में 2.13 जबकि बिहार में 2.09 है.

इसका मतलब है कि यहां एक संक्रमित व्यक्ति दो लोगों से ज्यादा को कोरोना की चपेट में ले रहा है. इसका मतलब है कि आर वैल्यू एक से ज्यादा है. अबतक देश में आर वैल्यू 1.32 के करीब है. इसका मतलब है कि एक संक्रमित व्यक्ति एक से ज्यादा जबकि दो से कम लोगों को संक्रमित करने का काम कर रहा है. वर्तमान में आर वैल्यू (1.3) देश में जो है उसकी तुलना पिछले साल से करते हैं तो पता चलता है कि पिछले साल मार्च (1.92) और अप्रैल (1.53) के पहले सप्ताह से कम है.

इन आंकडों पर नजर डालें

साप्ताहिक डाटा पर नजर डालें तो यूपी में अप्रैल के पहले सप्ताह में 3,000 के करीब रोज कोरोना के नये मामले सामने आये हैं. इससे पहले मार्च के पहले सप्ताह में ये 105 रोजाना का आंकडा था. इसी प्रकार झारखंड में भी अंतिम सात दिनों में रोज करीब 870 कोरोना के नये मामले सामने आ रहे हैं. ये पिछले महीने की तुलना में लगभग 20 गुना ज्यादा है. बिहार की बात करें तो यहां 732 के करीब मरीज पिछले सात दिनों से मिल रहे हैं. ये पिछले महीने की तुलना में 24 गुना ज्यादा है.

आर वैल्यू पर नजर

आर वैल्यू पर गौर करें तो ये यूपी में अभी पिछले साल लॉकडाउन के करीब है. 31 मार्च 2020 जब देश में लॉकडाउन लगाया जा चुका था तो यूपी का आर वैल्यू करीब 2.16 था. वहीं 3 मई को जब दूसरे लॉकडाउन की घोषणा की गई तो ये कम होकर 1.25 रह गई जो सितंबर तक 1 तक पहुंच गई. इस साल फ़रवरी मध्य में भी ये 1 के करीब थी.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें