1. home Hindi News
  2. national
  3. corona live the whole country is at risk due to rising cases of corona virus the situation is worsening continuously vwt

Coronavirus Live : भारत में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के 53,480 नए मामले दर्ज, 354 लोगों की मौत

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
कोरोना के नए मामलों से बढ़ गईं चिंताएं.
कोरोना के नए मामलों से बढ़ गईं चिंताएं.
फोटो साभार : हार्वर्ड यूनिवर्सिटी.

Coronavirus Live : केंद्र ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण संबंधी स्थिति ‘बद से बदतर' हो रही है और यह खास तौर पर कुछ राज्यों के लिए बड़ी चिंता का विषय है. उसने कहा कि पूरा देश जोखिम में है और किसी को भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए. इसने कहा कि कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित 10 जिलों में से आठ महाराष्ट्र से हैं और दिल्ली भी एक जिले के रूप में इस सूची में शामिल है. स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जिन 10 जिलों में सर्वाधिक उपचाराधीन मामले हैं, उनमें पुणे (59,475), मुंबई (46,248), नागपुर (45,322), ठाणे (35,264), नासिक (26,553), औरंगाबाद (21,282), बेंगलुरु नगरीय (16,259), नांदेड़ (15,171), दिल्ली (8,032) और अहमदनगर (7,952) शामिल हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

भारत में 24 घंटे के दौरान सामने आए 53,480 नए मामले, 354 लोगों की मौत

बुधवार की सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के 53,480 नए मामले दर्ज किए गए हैं. इस दौरान करीब 41,280 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, जबकि कोरोना से करीब 354 लोगों की मौत हो गई है. इसके साथ ही, भारत में कोरोना संक्रमण के अब तक कुल 1,21,49,335 मामले दर्ज किए जा चुके हैं. इसमें से करीब 1,14,34,301 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, जबकि 5,52,566 कोरोना के सक्रिय मामले हैं. कोरोना से देश में अब तक करीब 1,62,468 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, अब तक 6,30,54,353 लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा चुका है.

email
TwitterFacebookemailemail

मंगलवार को कोरोना के 10,22,915 सैंपल का हुआ टेस्ट

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, भारत में मंगलवार तक कोरोना वायरस के लिए कुल 24,36,72,940 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 10,22,915 सैंपल कल टेस्ट किए गए.

email
TwitterFacebookemailemail

किस राज्य में कितने मामले

संक्रमण दर के मुद्दे पर भूषण ने कहा कि महाराष्ट्र में पिछले सप्ताह औसत संक्रमण दर 23 प्रतिशत थी. इसके बाद पंजाब में 8.82 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ में 8.24 प्रतिशत, मध्य प्रदेश में 7.82 प्रतिशत, तमिलनाडु में 2.5 प्रतिशत, कर्नाटक में 2.45 प्रतिशत, गुजरात में 2.22 प्रतिशत और दिल्ली में औसत संक्रमण दर 2.04 प्रतिशत थी. पूरे देश में पिछले सप्ताह औसत संक्रमण दर 5.65 प्रतिशत थी.

आरटी-पीसीआर जांच बढ़ाने की जरूरत

भूषण ने कहा कि सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से संक्रमण के मामलों में वृद्धि की खबरें हैं और कोविड-19 संबंधी जांच में तेजी से वृद्धि किए जाने की और इसमें आरटी-पीसीआर जांच का अनुपात भी बढ़ाने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि शनिवार को हमने इन राज्यों के साथ बैठक की और 47 जिलों के साथ भी चर्चा हुई. हमने उनसे जांच की संख्या बढ़ाने और आरटी-पीसीआर जांच पर विशेष ध्यान देने का आग्रह किया. स्क्रीनिंग के लिए और घनी आबादी वाले उन क्षेत्रों में, जहां मामले क्लस्टर के रूप में सामने आ रहे हैं, रैपिड एंटीजन जांच का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

नए मामलों में कोरोना के ब्रिटेन स्ट्रेन सबसे अधिक

वायरस के स्वरूपों के बारे में स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि 10 प्रयोगशालाओं ने दिसंबर से अब तक 11064 नमूनों की ‘जीनोम सीक्वेंसिंग' की है, जिनमें से 807 नमूनों में ब्रिटेन में मिला कोरोना वायरस का नया स्वरूप (ब्रिटेन स्ट्रेन) पाया गया, जबकि 47 नमूनों में वायरस का दक्षिण अफ्रीकी स्वरूप (अफ्रीकी स्ट्रेन) मिला तथा एक नमूने में वायरस का ब्राजीलियाई स्वरूप (ब्राजील स्ट्रेन) मिला.

मंगलवार सुबह तक दी जा चुकी है कोरोना वैक्सीन की 6,11,13,354 खुराक

कोविड-19 रोधी टीकाकरण के तहत मंगलवार को सुबह 10 बजे तक कुल 6,11,13,354 खुराक दी जा चुकी हैं. इनमें से 81,74,916 स्वास्थ्यकर्मियों को टीके की पहली खुराक तथा 51,88,747 स्वास्थ्यकर्मियों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है. अग्रिम पंक्ति के 89,44,742 कर्मियों को पहली खुराक तथा 37,11,221 कर्मियों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है.

email
TwitterFacebookemailemail

चरमरा सकती है स्वास्थ्य प्रणाली

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने कहा कि कोविड-19 संबंधी स्थिति बद से बदतर हो रही है. पिछले कुछ सप्ताहों में (खासकर कुछ राज्यों में) यह एक बड़ी चिंता विषय है. किसी भी राज्य, देश के किसी भी हिस्से या जिले को लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हम काफी अधिक गंभीर स्थिति का सामना कर रहे हैं, निश्चित तौर पर कुछ जिलों में. लेकिन, पूरा देश जोखिम में है. इसलिए रोकने (संक्रमण के प्रसार को) और जीवन बचाने के सभी प्रयास किए जाने चाहिए. पॉल ने कहा कि अस्पताल और आईसीयू संबंधी तैयारियां तैयार रहनी चाहिए. यदि मामले तेजी से बढ़े तो स्वास्थ्य देखरेख प्रणाली चरमरा जाएगी.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें