1. home Home
  2. national
  3. congress leader mallikarjun kharge told in afghanistan crisis that we have to work together for interests of people and nation vwt

अफगानिस्तान मामले में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, देश हित में एकजुट होकर करेंगे काम

मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि इस बैठक में सभी राजनीतिक दलों ने एक जैसी बात कही है. उन्होंने कहा कि सर्वदलीय बैठक में हमने निर्वासित महिला राजनयिक के मुद्दे को उठाया.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
सर्वदलीय बैठक के बाद मीडिया से बात करते मल्लिकार्जुन खड़गे.
सर्वदलीय बैठक के बाद मीडिया से बात करते मल्लिकार्जुन खड़गे.
फोटो : ट्विटर.

नई दिल्ली : अफगानिस्तान के मामले में विदेश मंत्री एस जयशंकर की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के बाद राज्यसभा में प्रतिपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सरकार का समर्थन करने की बात कही है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता खड़गे ने कहा कि हमें देश और लोगों के हित में एकजुट होकर काम करना है. उन्होंने बैठक में 'वेट एंड वॉच' करने के लिए बोला है.

मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि इस बैठक में सभी राजनीतिक दलों ने एक जैसी बात कही है. उन्होंने कहा कि सर्वदलीय बैठक में हमने निर्वासित महिला राजनयिक के मुद्दे को उठाया. उन्होंने यह माना कि इस मामले में हमसे गलती हुई है, ऐसा दोबारा नहीं होगा और वे इस मुद्दे को देखेंगे.

बता दें कि सरकार ने गुरुवार को विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं को अफगानिस्तान की ताजा स्थिति की जानकारी दी और कहा कि वहां से भारतीय कर्मचारियों को बाहर निकालना उसकी सर्वोच्च प्राथमिकता है, जहां स्थिति ‘गंभीर' है. पिछले सप्ताह तालिबान द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जा करने की पृष्ठभूमि में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने राजनीतिक दलों के नेताओं को उस देश के ताजा हालात के बारे में जानकारी दी.

इस बैठक में जयशंकर के अलावा राज्यसभा के नेता और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल तथा संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी भी मौजूद थे. बैठक में हिस्सा लेने वाले नेताओं के अनुसार, विदेश मंत्री ने कहा कि भारत अफगानिस्तान से यथासंभव अधिक लोगों को बाहर निकालने का प्रयास कर रहा है. उन्होंने जोर दे कर कहा कि भारतीय कर्मियों को निकालना ‘सर्वोच्च प्राथमिकता' है.

सरकार ने युद्ध प्रभावित अफगानिस्तान की स्थिति को ‘गंभीर' बताया. उसने कहा कि तालिबान ने दोहा समझौते में किए गए वादे को तोड़ा है. गौरतलब है कि तालिबान नेताओं और अमेरिका के बीच फरवरी 2020 में हुए दोहा समझौते में धार्मिक स्वतंत्रता और लोकतंत्र को रेखांकित किया गया था. इसमें काबुल में एक ऐसी सरकार बनाने की बात कही गई थी, जिसमें अफगानिस्तान के सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व हो.

इस सर्वदलीय बैठक में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के नेता शरद पवार, राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, द्रमुक नेता टीआर बालू, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल सहित कुछ अन्य नेताओं ने हिस्सा लिया.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें