1. home Home
  2. national
  3. abhinandan varthaman awarded veer chakra by president rts

फ्लाइंग वॉरियर अभिनंदन वर्धमान वीर चक्र से हुए सम्मानित, 2019 में पाक के F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था

अभिनंदन की वीरता को आज राष्ट्रपति ने सम्मानित किया. फ्लाइंग वॉरियर को वीर चक्र से सम्मानित किया गया है. बता दें कि उन्होंने 2019 में पाक के F-16 लड़ाकू विमान को अभिनंदन ने मार गिराया था.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
फ्लाइंग वॉरियर अभिनंदन को वर्धमान वीर चक्र
फ्लाइंग वॉरियर अभिनंदन को वर्धमान वीर चक्र
twitter

अपने अद्भुत साहस से पाक के फाइटर जेट को ध्वस्त करने वाले विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को आज उनकी वीरता का सम्मान मिला, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अभिनंदन को वीर चक्र से सम्मानित किया. बता दें कि उन्होंने 27 फरवरी 2019 को पाक के F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था.

पुलवामा अटैक के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़े तनाव के बाद हवाई संघर्ष में अभिनंदन वर्धमान ने एफ 16 फाइटर जेट को मार गिराया था. इसी साल 3 नवंबर को उनके साहस को देखते हुए पदोन्नति भी दिया गया था. उन्हें ग्रुप कैप्टन की जिम्मेदारी दी गई थी. बता दें कि 27 फरवरी 2019 को हुए हवाई संघर्ष में अभिनंदन वर्धमान ने मिग-21 एयरक्राफ्ट पर सवार होने के बाद भी एफ-16 फाइटर जेट मार गिराया था.

देश के हीरो बने अभिनंदन

बता दें कि मिग-21 जैसे काफी पुराने एयरक्राफ्ट पर सवार होने के बाद भी पाकिस्तान के आधुनिक फाइटर जेट F-16 को अभिनंदन ने मार गिराया था. जिसके बाद वे हीरो बनकर उभरे थे. दरअसल इस दौरान वे पीओके में जा गिरे थे. जिसके बाद वहां उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. जिसके बाद भारत ने कूटनीतिक दबाव डालते हुए अगले दिन ही उन्हें पाकिस्तान रिया करा लिया था. पूरा देश उनकी रिहाई की दुआ कर रहा था. उन्हें वाघा बॉर्डर पर छोड़ा गया था.

जब ये घटना हुई थी तब अभिनंदन वर्धमान श्रीनगर के 51 स्कवैड्रन का हिस्सा थे. भारत ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकाने पर हमला किया था. जिसके जवाब में ही पाकिस्तानी वायुसेना ने भारत पर हमले की कोशिश की जिसके बाद भारत ने इसका करारा जवाब दिया.

क्यों दिया जाता है वीर चक्र

वीर सम्मान चक्र युद्ध के समय अद्भुत साहस और वीरता दिखाने वाले सैनिकों को दिया जाता है. ये देश का तीसरा सर्वोच्च सम्मान है. ये मरणोपरांत भी दिया जा सकता है. वीरता में ये महावीर चक्र के बाद दिया जाता है. ये पदक उन वीरों और सैनिकों को दिया जाता है जो अपनी जान की परवाह किए बिना दुश्मनों से लड़ते हैं. ये मेडल सिल्वर का बना होता है. इसे नीला और नारंगी रंग के फीते से साथ देते हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें