1. home Hindi News
  2. national
  3. 21 people killed by drinking poisonous liquor in amritsar and tarn taran in punjab chief minister captain amarinder singh ordered inquiry

पंजाब के अमृतसर और तरनतारन में जहरीली शराब पीने से 32 की मौत, मुख्यमंत्री ने दिये जांच के आदेश

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Symbolic Image
Symbolic Image
File Photo

अमृतसर : पंजाब के अमृतसर और तरनतारन में जहरीली शराब पीने से 32 लोगों की मौत हो गयी है. पंजाब की विभिन्न जगहों पर जहरीली शराब पीने से लोगों के मारे जाने की खबर है. ये मौतें एक दिन में नहीं हुई हैं. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस घटना की पुष्टि करते हुए न्यायिक जांच के आदेश दिये हैं. कई जगहों पर जहरीली शराब से लोगों की मौत होने से प्रशासन में हड़कंप है. जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है.

पंजाब पुलिस ने बताया कि जहरीली शराब से हुई मौत में सभी लोग गरीबी रेखा के नीचे के हैं. मृतकों में कुछ की पहचान कुलदीप सिंह (24 वर्ष), रौनक सिंह (48 वर्ष), जोगिंदर सिंह (50 वर्ष) और सुरजीत सिंह (27 वर्ष) के रूप में हुई है. बाकियों की पहचान की जा रही है. इस बीच, मामले की जांच के लिए पुलिस अधीक्षक की निगरानी में चार सदस्यीय विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है. पुलिस ने जहरीली शराब बनाने वाले कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

मामले में कार्रवाई करते हुए तरसिक्क थाने के एसएचओ को सस्पेंड कर दिया गया है. पुलिस ने बलविंदर कौर नामक एक शख्स को गिरफ्तार किया है. तरनतारन के डीएसपी सुच्चा सिंह बल्ल ने कहा कि गांव रटौल के किसी भी व्यक्ति ने इस घटना की सूचना पुलिस को नहीं दी. अब शिकायत मिली है. तो कार्रवाई जरूर की जायेगी.

उन्होंने कहा कि पिछले एक माह में अवैध शराब का कारोबार करने वाले सात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. आपको बता दें कि अकेले तरनतारन जिले में शुक्रवार को सात लोगों की मौत की खबर सामने आयी है. इससे पहले गत शनिवार को भी यहां तीन लोगों की मौत हुई थी और एक शख्स की आंखों की रोशनी चली गयी थी. जिले के गांव रटौल में शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई थी और एक व्यक्ति की आंखों की रोशनी चली गयी.

पीड़ित परिवारों ने भी पुलिस को सूचना दिये बगैर मृतकों का अंतिम संस्कार कर दिया है. जब मामला गरमाया तो परिजनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कर नकली शराब बनाने वालों पर कार्रवाई की मांग की है. प्रशासन की ओर से बताया गया कि जांच टीम ग्रामीणों के बयान दर्ज करेगी और अपनी रिपोर्ट देगी. उसी के आधार पर कार्रवाई की जायेगी.

Posted By: Amlesh Nandan Sinha.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें