37.3 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Jitiya Vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान

Jitiya Vrat 2023 : जितिया-जिउतिया का पर्व आज नहाय-खाय के साथ शुरू हो गया वहीं कल माताएं निर्जला उपवास रखकर पूजा करेंगी. हालांकि कई जगहों पर उदय तिथि के अनुसार महिलाएं 7 को निर्जला व्रत रख रही हैं. संतान कल्याण का पर्व जितिया की शुरुआत आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि से शुरू होती है .

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 11

जितिया या जीवित्पुत्रिका व्रत की शुरुआत आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि से शुरू होती है और इसका समापन नवमी तिथि को होता है.

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 12

आज सप्तमी तिथि है, इस दिन सरगही का विधान है. इसके बाद अष्टमी तिथि को निर्जला व्रत और नवमी तिथि को व्रत का पारण किया जाता है.

Also Read: Jitiya Vrat 2023 : जितिया का निर्जला व्रत करने जा रही हैं आप, जानिए सरगही में क्या खाएं क्या नहीं ?
Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 13

पंचांग के अनुसार, आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 06 अक्टूबर दिन शुक्रवार की सुबह 06 बजकर 34 मिनट पर लग जाएगी, जिसका समापन अगले दिन 07 अक्टूबर दिन शनिवार को सुबह 08 बजकर 08 पर होगा. समय सूर्योदय के अनुसार तय होता है, इसलिए जगह के अनुसार टाइम में अंतर रहेगा.

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 14

जीवित्पुत्रिका व्रत में खड़े अक्षत(चावल), पेड़ा, दूर्वा की माला, पान, लौंग, इलायची, पूजा की सुपारी, श्रृंगार का सामान, सिंदूर, पुष्प, गांठ का धागा, कुशा से बनी जीमूत वाहन की मूर्ति, धूप, दीप, मिठाई, फल, बांस के पत्ते, सरसों का तेल, खली, गाय का गोबर पूजा में जरूरी है.

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 15

आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को प्रदोषकाल में महिलाएं जीमूतवाहन की पूजा करती है.

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 16

जीमूतवाहन की कुशा से निर्मित प्रतिमा को धूप-दीप, अक्षत, पुष्प, फल आदि अर्पित करके फिर पूजा की जाती है. इसके साथ ही मिट्टी और गाय के गोबर से सियारिन और चील की प्रतिमा बनाई जाती है.

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 17

जितिया व्रत संतान की दीर्घायु के लिए रखा जाता है. इस व्रत को रखने से संतान तेजस्वी, ओजस्वी और मेधावी होता है. शास्त्रों के मुताबिक जितिया करने वाली व्रती महिला के संतान की रक्षा स्वंय भगवान श्रीकृष्ण करते हैं.

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 18

पौराणिक कथा के अनुसार, महाभारत के युद्ध में जब द्रोणाचार्य का वध कर दिया गया तो उनके पुत्र आश्वत्थामा ने क्रोध में आकर ब्राह्रास्त्र चल दिया, जिसकी वजह से अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ में पल रहा शिशु नष्ट हो गया. तब भगवान कृष्ण ने इसे पुनः जीवित किया. इस कारण इसका नाम जीवित्पुत्रिका रखा गया. तभी से माताएं इस व्रत को पुत्र के लंबी उम्र की कामना से करने लगीं

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 19

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जितिया व्रत की कथा बड़ी रोचक है. एक कथा चील और इसी पेड़ के नीचे रहने वाली सियारिन की भी है.

Undefined
Jitiya vrat 2023 : जिउतिया व्रती के संतान की स्वंय रक्षा करते हैं श्रीकृष्ण भगवान 20

जितिया व्रत का पारण सात अक्टूबर दिन शनिवार को 10 बजकर 21 मिनट के बाद किया जाएगा. जितिया व्रत की पूजा अष्टमी तिथि प्रदोष काल में की जाती है. 6 अक्टूबर को शाम के समय प्रदोष काल में अष्टमी तिथि है. किंतु सात अक्तूबर को प्रदोष काल में अष्टमी तिथि नहीं है.

Also Read: Happy Jitiya Vrat 2023 Wishes Live : जुग जुग जिय तू ललनवा..माँ की यही प्रार्थना,जितिया व्रत के भेजें संदेश

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें