22.1 C
Ranchi
Wednesday, February 21, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeबड़ी खबरअब सस्ते में मिलेंगी इन चार गंभीर बीमारियों की दवा, जानिए नया रेट

अब सस्ते में मिलेंगी इन चार गंभीर बीमारियों की दवा, जानिए नया रेट

गंभीर बीमारियों के अलावा, सरकार ने उद्योग से सिकल सेल रोग से पीड़ित 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों के इलाज के लिए आवश्यक हाइड्रोक्सीयूरिया के लिए एक मौखिक समाधान का उत्पादन करने का भी आग्रह किया है.

भारत में लगभग 6 से 8 प्रतिशत आबादी को गंभीर बीमारी है, जिसका अर्थ है कि 8.4 करोड़ से 10 करोड़ भारतीय ऐसी स्थितियों के साथ रह रहे हैं जिनके लिए उपचार या तो मौजूद नहीं हैं या उपचार बेहद महंगे हैं. ऐसे में भारतीय दवा कंपनियों ने गंभीर बीमारियों की दवाओं की कीमत में गिरावट आई है. अनुमान लगाया जा रहा है कि 2024 की शुरुआत में दवा उपलब्ध होने की संभावना है. गंभीर बीमारियों के अलावा, सरकार ने उद्योग से सिकल सेल रोग से पीड़ित 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों के इलाज के लिए आवश्यक हाइड्रोक्सीयूरिया के लिए एक मौखिक समाधान का उत्पादन करने का भी आग्रह किया है.

कौन-कौन सी बीमारियां

  • टायरोसिनेमिया टाइप 1

  • गौचर रोग

  • विल्सन रोग

  • और ड्रेवेट-लेनोक्स गैस्टॉट सिंड्रोम

गौचर रोग के इलाज के लिए दवा

गौचर रोग, एक ऐसी स्थिति जिसके कारण यकृत, प्लीहा और हड्डियों पर वसा जमा हो जाती है. जिससे फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है. इसके इलाज के लिए उपयोग किए जाने वाले एलीग्लस्टैट कैप्सूल की कीमत, एक वयस्क में 1.8 करोड़ रुपये से 3.6 करोड़ तक से घटकर 3 लाख से 6 लाख रुपये प्रति वर्ष हो गई है.

विल्सन रोग के लिए दवा की कीमत

विल्सन रोग, एक ऐसा रोग है जहां कॉर्निया, लीवर और मस्तिष्क में तांबे का अत्यधिक जमाव होता है, जिससे मनोरोग संबंधी लक्षण होते हैं. इसके इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ट्राइएंटाइन कैप्सूल की कीमत 10 किलोग्राम के बच्चे के लिए 2.2 करोड़ रुपये से घटकर 2.2 लाख रुपये हो गई है.

टायरोसिनेमिया टाइप 1 का इलाज कितने तक में हो जाएगा

टायरोसिनेमिया टाइप 1 एक चयापचय स्थिति जहां शरीर एक लापता एंजाइम के कारण अमीनो एसिड को तोड़ नहीं सकता है, जिसके कारण यह यकृत में जमा हो जाता है और गंभीर यकृत रोग का कारण बनता है. इसके इलाज के लिए आयातित निटिसिनोन कैप्सूल का उपयोग किया जाता है. जिसकी सालाना लागत लगभग 2.2 करोड़ रुपये थी. भारतीय कंपनियों द्वारा इसे घटाकर लगभग 2.5 लाख रुपये प्रति वर्ष कर दिया गया है.

लेनोक्स-गैस्टोट सिंड्रोम दवा की कीमत

कीमतों में सबसे कम गिरावट कैनबिडिओल ओरल सॉल्यूशन में नौ गुना है, जिसका उपयोग ड्रेवेट और लेनोक्स-गैस्टोट सिंड्रोम – आनुवांशिक मिर्गी सिंड्रोम – के इलाज के लिए किया जाता है, जिसके लिए आयातित दवा की कीमत 10 किलोग्राम के बच्चे के लिए प्रति वर्ष लगभग 7 लाख रुपये से 34 लाख रुपये है. जबकि भारत निर्मित दवा की कीमत लगभग 1 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक होती है. कंपनियां बिना लाभ के उद्देश्य से इन दवाओं का उत्पादन करने के लिए भी सहमत हो गईं. इन दवाओं से मुनाफा नहीं हो सकता क्योंकि बहुत कम लोगों को इनकी जरूरत होती है.

Also Read: Health Tips: डायबिटीज मरीजों के लिए बेस्ट है लौकी की बर्फी, जानिए इसकी आसान रेसिपी

मार्केट में हाइड्रोक्सीयूरिया के लिए कैप्सूल या टैबलेट आसानी से उपलब्ध है, लेकिन समाधान उपलब्ध नहीं है. 100 मिलीलीटर की बोतल के लिए ओरल सस्पेंशन की कीमत लगभग 840 अमेरिकी डॉलर या 70,000 रुपये है. स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि एकम्स ड्रग्स ने पहले ही दवा नियामक से मंजूरी के लिए आवेदन कर दिया है और मार्च 2024 से बाजार में आने की संभावना है. इसकी कीमत लगभग 405 रुपये प्रति बोतल होगी.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें