1. home Hindi News
  2. entertainment
  3. salman khan film tere naam fame bhumika chawla is ready to do intimate scenes in movie slt

इंटिमेट सीन्स करने को तैयार हैं गर्ल नेक्स्ट डोर इमेज रखने वाली अभिनेत्री भूमिका चावला...लेकिन ये है शर्त

सलमान खान के साथ फिल्म तेरे नाम से अपने कैरियर की शुरुआत करने वाली भूमिका चावला कैरियर के मौजूदा दौर में साउथ के साथ-साथ हिंदी फिल्मों में भी बैलेंस करना चाहती हैं. वह इंटिमेट सीन करने को भी तैयार है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
भूमिका चावला
भूमिका चावला
Instagram

सलमान खान के साथ फिल्म तेरे नाम से अपने कैरियर की शुरुआत करने वाली भूमिका चावला कैरियर के मौजूदा दौर में साउथ के साथ-साथ हिंदी फिल्मों में भी बैलेंस करना चाहती हैं. वह 22 अप्रैल को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही फिल्म ऑपेरशन रोमियो में अहम किरदार में दिखेंगी. उनकी इस फ़िल्म,कैरियर पर उर्मिला कोरी से हुई बातचीत

ऑपेरशन रोमियो को हां कहने की वजह क्या थी?

जब नीरज पांडे आपको कॉल करते हैं तो मना नहीं कर सकते हो. मैंने उनके साथ धोनी फ़िल्म की थी तो मुझे उनके वर्क स्पेस के बारे में पता था. वह बहुत ही प्रोफेशनल हैं. जब मैंने फ़िल्म की स्क्रिप्ट पढ़ी तो मुझे महसूस हुआ कि मैंने इस तरह का किरदार नहीं किया है. मुझे यह फ़िल्म करनी चाहिए.मैं इस फ़िल्म में मराठी मिडिल क्लास औरत बनी हूं.मैं मराठी नहीं बोल पाती हूं, इसलिए अपने किरदार के लिए मुझे मराठी एक्सेंट पर काम करना पड़ा. थोड़ी बॉडी लैंग्वेज पर भी.

हिंदी फिल्मों में आपने बहुत कम काम किया है कोई खास वजह

मैं जो भी काम करती हूं, इस बात की परवाह किए बिना करती हूं कि मेरी भूमिका छोटी है या बड़ी. फ़िल्म बड़ी है या छोटी. बस मेरा किरदार कहानी के को आगे ले जाए.ये मेरी कोशिश होती है. मुझे कभी नहीं लगा कि मुझे बस फिल्में करते रहना चाहिए भले रोल अच्छा हो या नहीं. मैं बताना चाहूंगी कि मुझे बहुत सारे ऑफर्स मिलते थे और उन सभी भूमिकाओं की डिमांड थी कि मैं बस ग्लैमरस दिखूं.जो मैं करने को तैयार नहीं थी. इसके अलावा मैं साउथ फिल्मों में भी काम करती थी तो कई बार हिंदी की फिल्मों को लेकर डेट्स की भी परेशानी आ जाती है. जब वी मेट और मुन्ना भाई एमबीबीएस मुझे पहले आफर हुई थी लेकिन डेट्स नहीं थी. मैं ग्लास आधा खाली के बजाय आधा भरा है वाली सोच रखती हूं.

क्या साउथ की फिल्में ज़्यादा अच्छे मौके आपको देती हैं?

मैं वहां भी सेलेक्टिव हूं. तीन साल पहले मैंने एक फ़िल्म की थी .जिसमें मैंने एक्टर नानी की भाभी बनी थी . मैं बताना चाहूंगा कि नानी मेरे साथ ही 2007 में डेब्यू करने वाले थे. अष्टचम्मा 2007 में हम दोनों ने साइन किया था लेकिन दुर्भाग्य से मैं वह फ़िल्म नहीं कर पायी क्योंकि उस समय मैं पांच फिल्में और कर रही थी. तारीखों में देरी हो गयी और अक्टूबर आते-आते मेरी शादी की तारीख नजदीक आ चुकी थी, मैं दस दिनों के लिए यूएस में थी, मैंने निर्देशक को फोन किया और कहा कि मैं फिल्म नहीं कर पाऊंगी. मैं आपकी साइनिंग अमाउंट लौटा रही हूं, क्योंकि शादी के बाद मैं छह महीने का ब्रेक लेना चाहती हूं. उस फिल्म ने तीन फिल्मफेयर और नौ नंदी पुरस्कार जीते. सालों बाद नानी और मैं फिर से इस फ़िल्म के लिए साथ आए लेकिन इस बार मैंने उनकी भाभी की भूमिका निभाई थी. लोगों को लगा कि मैं अब चरित्र भूमिकाओं को ही करूंगी लेकिन जब फ़िल्म रिलीज हुई तो मालूम पड़ा कि पूरी फिल्म उनके और मेरे बीच ही घूम रही है. धोनी फ़िल्म में मेरी भूमिका बहुत छोटी थी. जब नीरज सर ने मुझे फोन किया तो मुझे लगा कि यह एक छोटी सी भूमिका है और यह एक जोखिम होगा जिसे मैं ले रही हूं लेकिन मैंने कहा ठीक है. करते हैं, क्योंकि भारत के महान खिलाड़ी की बायोपिक्स हर दिन नहीं बनती हैं.

साउथ अपने स्टारडम के लिए जाना जाता है आपको वहां कैसी प्रतिक्रिया मिलती रही है?

लोगों ने मेरी बहुत प्रशंसा की है और बहुत प्यार दिया है. कई बार लोगों ने कहा है कि वे मेरे द्वारा निभाए गए किरदारों की तरह ही अपनी बेटी और बहन चाहते हैं.

क्या आप ओटीटी के लिए तैयार हैं?

हां, मुझे ऑफर भी मिल रहे हैं, लेकिन जब तक मैं पूरी तरह से स्क्रिप्ट से संतुष्ट नहीं हो जाती हूं, मैं हां नहीं कह सकती हूं.

ओटीटी बोल्ड माना जाता है क्या आप उसमें सहज हैं

अगर गहराइयां की तरह कहानी और किरदार हुआ तो मैं इसे करूंगी. इंटिमेसी कहानी का अहम हिस्सा थी और उसे शूट भी बहुत खूबसूरती से किया गया था लेकिन उस तरह का कंटेंट आमतौर पर नहीं होते हैं .ज़्यादातर यह थोपा हुआ लगता है बस दर्शकों को एंगेज करने के लिए.

आप काम और बेटे को कैसे बैलेंस करती हैं?

यह कठिन है. मैंने महामारी के दौरान शूटिंग की थी.मैंने चार से पांच फिल्में कीं थी क्योंकि उस वक़्त ऑनलाइन स्कूल थे तो यह आसान था लेकिन अब यह मुश्किल हो गया है.

आपके पति योग गुरु भरत ठाकुर हैं ऐसे में योग कितना आपकी ज़िंदगी में है?

जितना हो सके मैं योग करती हूं लेकिन अगर मैं योग नहीं कर पाती हूं तो स्विमिंग ,वॉकिंग और सीढ़ियों का इस्तेमाल कर लेती हूं. खुद को फिट रखना ज़रूरी है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें