विधानसभा चुनाव 2022

  1. home Hindi News
  2. election

विधानसभा में CM योगी और अखिलेश ने मिलाया हाथ, मुस्कुराए और चल दिए अपनी-अपनी 'राह'
सीएम योगी की कैबिनेट में शामिल इन मंत्रियों को एलयू करेगा सम्मानित, जानें पूरा मामला?
किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिल रही जान से मारने की धमकी, पुलिस ने शुरू की जांच
बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने की सभी तरह की कार्यकारिणी भंग, भतीजे आकाश आनंद को बनाया राष्ट्रीय कोआर्डिनेटर
योगी आदित्यनाथ सरकार के 6 मंत्रियों को मिलेगी एमएलसी की सीट, जानें विधान परिषद की पूरी गणित
ताजनगरी में बीजेपी ने दलित, पिछड़ा और अगड़ा वर्ग को प्रतिनिधित्व देकर बनाया संतुलन, समझें गणित

अन्य खबरें

Vidhan Sabha Election 2022

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव : यूपी को छोड़कर अन्य राज्यों में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने तारीखों की घोषणा कर दी है. उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में सात चरणों में चुनाव होंगे. पहले चरण का मतदान 10 फरवरी और अंतिम चरण का मतदान सात मार्च को होगा. 10 मार्च को मतों की गणना होगी. चुनाव तिथि इस प्रकार है उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा की कुल 690 विधानसभा सीटों पर 7 चरणों में मतदान होंगे. पहले चरण की वोटिंग 10 फरवरी, दूसरे चरण की 14 फरवरी, तीसरे चरण की 20 फरवरी, चौथे चरण की 23 फरवरी, पांचवें चरण की 27 फरवरी, छठे चरण की तीन मार्च और सातवें चरण की वोटिंग 7 मार्च को होगी. चुनावी राज्यों में सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदान होगा, जबकि पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में एक-एक चरण में (14 फरवरी) और मणिपुर में दो चरण (27 फरवरी और तीन मार्च) में मतदान होंगे.
पाबंदियां
चुनाव आयोग ने प्रेस काॅन्फ्रेंस कर चुनाव तिथियों की घोषणा की और कोविड महामारी को लेकर कई गाइडलाइन भी जारी किये. चुनाव आयोग के अनुसार 15 जनवरी तक राजनीतिक पार्टियां किसी भी तरह की चुनावी रैली, रोड शो, साइकिल-मोटरसाइकिल रैली या पदयात्रा नहीं कर पायेंगी. इसके साथ ही नुक्कड़ सभा और किसी भी तरह की ऐसी रैली और जनसभा पर प्रतिबंध होगा जिसमें फिजिकल संपर्क की संभावना हो.
उत्तर प्रदेश में भाजपा और सपा के बीच होगी टक्कर
चुनावी राज्यों में उत्तर प्रदेश सबसे बड़ा राज्य है. यहां भाजपा की सरकार है, लेकिन सपा और कांग्रेस को उम्मीद है कि इस बार वे भाजपा को कड़ी टक्कर दे सकते हैं. कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को मैदान में उतार दिया है. अखिलेश यादव ने भी अपनी पूरी ताकत झोंक दी है और वे योगी सरकार को सत्ता से हटाने का दावा करते हैं. यूपी में कुल 403 विधानसभा सीट है, जिसमें से 325 सीट पर भाजपा को जीत मिली थी, सपा को 47 और बसपा को 19 सीटों पर विजय मिली थी जबकि कांग्रेस सात सीटों पर जीत दर्ज कर पायी थी.
पंजाब में कांग्रेस की पकड़ मजबूत
पंजाब में 117 विधानसभा सीटें हैं, जिनमें से 77 सीटों पर 2017 के चुनाव में कांग्रेस पार्टी को जीत मिली थी. मोदी लहर के बावजूद कैप्टन अमरिंदर सिंह के बल पर कांग्रेस ने पंजाब में सरकार बनायी थी. भाजपा और अकाली दल गठबंधन को सिर्फ 18 सीट पर जीत मिली थी जिसमें से मात्र तीन सीट पर भाजपा जीत पायी थी. आम आदमी पार्टी ने पिछले चुनाव में 20 सीट पर जीत हासिल की थी और इस चुनाव में भी वह पूरी मेहनत कर रही है.
उत्तराखंड में क्या भाजपा करेगी वापसी?
उत्तराखंड में 70 विधानसभा सीटें हैं. यहां भारतीय जनता पार्टी की सरकार है, उससे पहले यहां कांग्रेस की सरकार थी. यहां पांच साल में सरकार बदलने का चलन है. भाजपा ने यहां जिस तरह से मुख्यमंत्रियों को बदला है, जनता का मूड उसे लेकर कैसे होगा यह चुनाव में ही पता चलेगा. उत्तराखंड की 70 में से 56 सीटें भाजपा के खाते में है, जबकि कांग्रेस को सिर्फ 11 सीटें मिलीं थीं.
गोवा में कैसा है जनता का मूड
गोवा में अभी भाजपा की सरकार है और यहां जिस तरह से जोड़-तोड़ कर सरकार बनी है, उससे अभी यह कह पाना मुश्किल है कि यहां कौन सी पार्टी अगले चुनाव में जीत हासिल करेगी. 2017 के चुनावों में गोवा में कांग्रेस ने सबसे ज्यादा 17 सीटें जीतीं थीं और भाजपा को 13 सीट पर जीत मिली थी उसके बावजूद सरकार बनी भाजपा की. इस बार के चुनाव में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी और आम आदमी पार्टी भी चुनावी मैदान में है.
मणिपुर में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर
मणिपुर विधानसभा 60 सीटों की है. 2017 के चुनाव में कुल 60 में से 28 सीटों पर कांग्रेस को जीत मिली थी. बीजेपी ने 21 सीटें जीतीं थीं. लेकिन भाजपा ने एनपीएफ, एनपीपी और अन्य दलों के साथ मिलकर सरकार बनायी थी. बात अगर इस साल के चुनाव की करें तो भाजपा और कांग्रेस के बीच ही सीधी टक्कर अभी तक यहां नजर आ रही है.