1. home Hindi News
  2. business
  3. you will soon be able to invest pension money in ipo and nse companies pfrda will issue notification vwt

पेंशन के पैसों का IPO और एनएसई की टॉप कंपनियों में कर सकेंगे निवेश, नोटिफिकेशन जारी करने वाला है पीएफआरडीए

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
जल्द जारी होगा नोटिफिकेशन.
जल्द जारी होगा नोटिफिकेशन.
फोटो : ट्विटर.

मुंबई : रिटायरमेंट के बाद अगर आप अपने पेंशन के पैसों को शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो आपकी यह चाहत जल्द ही पूरी होने वाली है. मंगलवार को पेंशन रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉर्टी (पीएफआरडीए) ने कहा कि पेंशन फंड मैनेजर (पीएफएम) को जल्द ही इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (आईपीओ) और प्रमुख शेयरों में निवेश करने की अनुमति दी जाएगी. इसके बाद, निवेशक रिटायरमेंट के बाद अपने पेंशन फंड का इस्तेमाल शेयर बाजार में निवेश के लिए कर सकेंगे.

पीएफआरडीए के अध्यक्ष सुप्रतिम बंद्योपाध्याय ने कहा कि रेग्युलरी का लक्ष्य रिटायरमेंट फंड के मेंबर्स की संख्या में बढ़ोतरी करना है. इस समय पीएमएफ इक्विटी घटक को सिर्फ ऐसे शेयरों में निवेश कर सकते हैं, जिनका मार्केट कैप 5,000 करोड़ रुपये से अधिक है और जो विकल्प तथा वायदा कारोबार के योग्य हैं.

दो-तीन दिनों में जारी होगी अधिसूचना

बंद्योपाध्याय ने कहा कि इससे फंड मैनेजर्स के लिए अवसर सीमित हो जाते हैं. उन्होंने एवेन्यू सुपरमार्केट का उदाहरण दिया, जहां पीएफएम प्रतिबंधों के कारण निवेश नहीं कर सकते थे. उन्होंने कहा कि हम दो या तीन दिनों में नए नियमों को अधिसूचित करेंगे, जो उन श्रेणियों पर अधिक उदार रुख रखते हैं, जहां इक्विटी निवेश किया जा सकता है.

किसमें कर सकेंगे निवेश

उन्होंने कहा कि नए नियमों के तहत पीएफएम आईपीओ, फॉलो-ऑन सार्वजनिक पेशकश, बिक्री पेशकश में निवेश कर सकेंगे. इसके अलावा, एनएसई और बीएसई पर कारोबार करने वाले टॉप 200 शेयरों में भी निवेश की इजाजत दी जाएगी. उन्होंने कहा कि वह व्यक्तिगत रूप से इक्विटी में अधिक निवेश के पक्षधर हैं. हालांकि, जोखिमों को कम करने के लिए जरूरी निर्देश बने रहेंगे.

एनपीएस में 2.90 करोड़ एपीएस के ग्राहक

बंद्योपाध्याय ने कहा कि एनपीएस ग्राहकों की कुल संख्या 4.37 करोड़ है, जिसमें से अधिकतम 2.90 करोड़ अटल पेंशन योजना के तहत हैं. हम वित्त वर्ष 2021-22 में सदस्य आधार को एक करोड़ बढ़ाने का लक्ष्य बना रहे हैं, जिसमें एपीवाई के 90 लाख सदस्य होंगे.

Posted by : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें