1. home Hindi News
  2. business
  3. sbi warns that to avoid emi for three months do not tell anyone your secret number otherwise money will be blown out of the account

SBI और सरकार ने किया आगाह : EMI को तीन महीने तक टालने के लिए किसी को मत बताइए अपना सीक्रेट नंबर, वर्ना

By KumarVishwat Sen
Updated Date
बैंक फ्रॉडों से रहें सावधान.
बैंक फ्रॉडों से रहें सावधान.
File Photo

नयी दिल्ली : देश में कोरोना महामारी के प्रकोप की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान लोन्स की ईएमआई तीन महीने तक टालने के लिए सरकार की ओर से सुविधा दी गयी है, लेकिन सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (State Bank of India) ने अपने ग्राहकों को आगाह किया है. उसने अपने ग्राहकों को नये स्टाइल के साबर क्राइम को लेकर आगाह किया है. वहीं सरकार ने भी तीन महीने तक लोन टालने वालों को आगाह किया है. सरकार ने जानकारी दी है कि बैंक ईएमआई के बारे में साइबर धोखाधड़ी से बचे रहें. ओटीपी (OTP) साझा करने के लिए आपके पास अगर कोई फोन आता है, तो आप अपनी कोई भी जानकारी साझा करने से बचें. इस बात को ध्यान में रखें कि ईएमआई टालने के लिए ओटीपी किसी को भी बताने की जरूरत नहीं है. इसलिए अपने ओटीपी को किसी के साथ साझा नहीं करें.

इसे भी पढ़ें : EMI moratorium : तीन महीने तक EMI टालने से आपको नहीं होगा कोई लाभ, बाद में अधिक ब्याज वसूलेंगे बैंक

ईएमआई टालने वालों पर साइबर क्रिमिनलों की टिकी है नजर : देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने अपने ग्राहकों को धोखेबाज साइबर क्रिमिनलों से आगाह करते हुए कहा है कि साइबर क्रिमिनल ग्राहकों को अपना ईएमआई रुकवाने के लिए अपना ओटीपी साझा करने की बात करते हैं. बैंक ने कहा कि ईएमआई नहीं चुकाने के लिए ओटीपी साझा करना जरूरी नहीं है. इसलिए आप अपना ओटीपी नंबर किसी से साझा नहीं करें. एक बार ओटीपी साझा करने के बाद धोखेबाजों द्वारा पलक झपकते आपके खाते से पैसे उड़ा लिये जाएंगे. एसबीआई ने अपने ग्राहकों को अपने ओटीपी साझा नहीं करने की चेतावनी दी है.

रिजर्व बैंक ने तीन महीने तक ईएमआई टालने का किया है अनुरोध : कोरोना वायरस महामारी के चलते देश लागू लॉकडाउन की स्थिति को देखते हुए रिजर्व बैंक ने देश के सभी बैंकों और भारतीय वित्तीय संस्थानों को यह अनुमति दी है कि वे 1 मार्च 2020 से 31 मई, 2020 के बीच अपने ईएमआई भुगतानों पर तीन महीने तक के ग्राहकों को राहत दे सकते हैं. यानी ईएमआई को आगे बढ़ा सकते हैं. आरबीआई की सलाह के बाद सरकारी के साथ प्राइवेट बैंकों ने इसका फायदा ग्राहकों को दिया है.

साइबर धोखेबाजों से बचने के ये हैं उपाय : कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन स्थिति में धोखाधड़ी करने वाले भी सक्रिय हो गए हैं. ये धोखेबाज UPI आईडी से दान मांग रहे हैं. बैंक ने कहा कि ग्राहक पीएम केयर्स के यूपीआई आईडी से दान मांगने वालों से सचते रहें. इसके साथ ही, फंड ट्रांसफर करने से पहले पैसे प्राप्त करने वाले की पहचान की जांच करें. किसी भी ई-कॉमर्स साइट पर अपने कार्ड की डिटेल कभी सेव न करें. अनचाहे ई-मेल पर अपना गुप्त जानकारी साझा नहीं करें. कोरोना वायरस से संबंधित किसी भी खबर पर क्लिक करने से पहले उसकी जांच करें. विश्वसनीय स्रोत से तथ्य साझा करें और जब आप कोई गड़बड़ी देखें, तो उसकी रिपोर्ट करें.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें