1. home Hindi News
  2. business
  3. ration card benefit ration card is not only for free wheat and rice there are many more benefits

One Nation One Ration Card : PM MODI के ऐलान से देशवासियों को मिलेगा फायदा, जानिए PMGKY के लिए कैसे जरूरी है राशन कार्ड...

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
कार्ड एक फायदे अनेक.
कार्ड एक फायदे अनेक.
प्रतीकात्मक फोटो.

One Nation One Ration Card : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना काल में छठी बार देश को संबोधित करते हुए पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत आगामी नवंबर महीने तक देश के 80 करोड़ लोगों को 90,000 करोड़ रुपये की लागत से फ्री में अनाज देने का ऐलान किया है. गरीबों को सरकार के इस योजना का लाभ वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के जरिए दिया जाएगा. सरकार ने 1 जून से देश में 'वन नेशन, वन राशन कार्ड' (One Nation One Ration Card Scheme) योजना को लागू किया है. सरकार की इस योजना का लाभ राशन कार्ड (Ration Card) रखने वाले सभी लोगों को मिलेगा. खास बात यह कि इस योजना के तहत प्रवासी श्रमिकों को सबसे अधिक लाभ मिलेगा. इस योजना के तहत राशन कार्ड बनाने वाले लोगों देश किसी भी राज्य में रियायती दरों पर अनाज (गेहूं-चावल) मिल जाएगा, लेकिन क्या राशन कार्ड का लाभ रियायती दरों पर या फिर फ्री में गेहूं-चावल तक ही सीमित नहीं है. इसके और भी कई फायदे हैं. आइए, जानते हैं कि राशन कार्ड के और क्या-क्या फायदे हैं...

दरअसल, यह योजना मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी (MNP) की तरह है. मोबाइल पोर्ट में आपका नंबर नहीं बदलता है और आप देशभर में एक ही नंबर से बात करते हैं. इसी तरह, राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी में आपका राशन कार्ड नहीं बदलेगा. अगर आसान भाषा में समझें तो एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर आप अपने राशन कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं. इस कार्ड से दूसरे राज्य से भी सरकारी राशन खरीद सकते हैं.

लाभ उठाने के लिए इसकी पड़ेगी जरूरत : अगर आप चाहते हैं कि आपको वन नेशन वन राशन कार्ड का फायदा मिले. आप देश के किसी भी हिस्से में सस्ती दर पर राशन ले सकें तो, इसके लिए आपको पास दो दस्तावेज जरूरी होने चाहिए. पहला तो आपका राशन कार्ड और दूसरा आधार कार्ड. असल में इस योजना के तहत अगर आप पोर्टेबिलिटी की सुविधा लेते हैं, यानी किसी दूसरे राज्य में जाकर राशन कार्ड का फायदा उठाना चाहते हैं तो आपका वेरिफिकेशन आधार नंबर के आधार ही किया जाएगा. पीडीएस के हर राशन कार्ड की दुकान पर एक इलेक्ट्रॉनिक्स पॉइंट आॅफ सेल डिवाइस होगा और उसी से लाभार्थी का वेरिफिकेशन उसके आधार नंबर के आधार पर किया जाएगा. इसलिए आपको अपने राशन कार्ड और आधार कार्ड को साथ में रखना जरूरी होगा.

कई जगहों पर होता है राशन कार्ड का दस्तावेजी इस्तेमाल : दरअसल, राशन कार्ड एक स्वैच्छिक दस्तावेज है और इसे बनवाना देश के प्रत्येक नागरिकों के लिए जरूरी नहीं है. राशन कार्ड एक ऐसा सरकारी दस्तावेज है, जिसकी मदद से सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) की उचित दर की दुकानों से गेहूं-चावल बाजार भाव से रियायती दरों पर उपलब्ध कराया जाता है. वहीं, इसका इस्तेमाल कई जगहों पर पहचान प्रमाण (ID Proof) या पते के प्रमाण (Address Proof) के रूप में भी होता है. यह नागरिक के आर्थिक स्थिति को भी दर्शाता है.

कहां-कहां आईडी प्रूफ या एड्रेस प्रूफ के तौर पर होता है इस्तेमाल : हमारे देश भारत में राशन कार्ड का आईडी प्रूफ या फिर एड्रेस प्रूफ के रूप में अक्सर इस्तेमाल किया जाता है. अगर किसी को बैंक में खाता खोलना हो, बच्चों का स्कूल-कॉलेज में नाम लिखाना हो, एलपीजी गैस का कनेक्शन लेना हो, ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना हो, सरकारी दस्तावेज में निवास प्रमाण पत्र बनवाना हो, मतदाता पहचान पत्र बनवाना हो, सिम कार्ड खरीदना हो, पासपोर्ट बनवाना हो, लाइफ इंश्योरेंस की पॉलिसी लेना हो, लैंडलाइन कनेक्शन लेना हो, ब्रांडबैंड या वाईफाई लगवाना हो, आधार कार्ड बनाना हो या फिर उसके ब्योरे को अपडेट कराना हो और पैन कार्ड बनवाना हो, तो उन्हें राशन कार्ड की जरूरत पड़ती है.

किसका बन सकता है राशन कार्ड : भारत में हर किसी का राशन कार्ड नहीं बन सकता. यह एक निश्चित आयवर्ग के लिए ही होता है, जिसकी सीमा अलग-अलग राज्य में अलग-अलग होती है. आम तौर पर भारत में गरीबी रेखा के ऊपर (APL), गरीबी रेखा के नीचे (BPL) और अन्‍त्योदय परिवारों के लोगों को अलग-अलग तरह का राशन कार्ड जारी किया जाता है. अंत्योदय योजना के तहत राशन कार्ड बनवाने वाले बेहद गरीबों की श्रेणी में रखे जाते हैं.

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के तहत मिलेगा लाभ : बता दें कि पीएम मोदी की ओर से राष्ट्र के नाम संबोधन में जिस प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 80 करोड़ परिवार के लोगों को नवंबर तक पांच किलो चावल, पांच किलो गेहूं, एक किलो दाल और एक किलो चना मुफ्त में देने का ऐलान किया गया है, उसके लिए लाभार्थियों के पास राशन कार्ड होना जरूरी है. इसके लिए प्रधानमंत्री ने यह भी कहा है कि सरकार ने 'वन नेशन वन राशन कार्ड' योजना की शुरुआत कर दिया है, जिससे लोगों को लाभ मिलेगा.

राशन कार्ड बनवाने के लिए आम तौर पर क्या-क्या होना जरूरी है :

  • राशन कार्ड बनवाने के लिए व्यक्ति का भारत का नागरिक होना जरूरी है.

  • व्यक्ति के पास किसी दूसरा राज्य का राशन कार्ड नहीं होना चाहिए.

  • जिसके नाम पर राशन कार्ड बन रहा है, उसकी उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए.

  • 18 साल से कम उम्र के बच्चों का नाम माता-पिता के राशन कार्ड में शामिल किया जाता है.

  • एक परिवार में परिवार के मुखिया के नाम पर राशन कार्ड होता है.

  • राशन कार्ड में जिन सदस्यों को शामिल किया जा रहा है, उनका परिवार के मुखिया से नजदीकी संबंध होना जरूरी है.

  • परिवार के किसी भी सदस्‍य का उससे पहले से कोई भी राशन कार्ड में नाम नहीं होना चाहिए.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें