1. home Hindi News
  2. business
  3. pf related complaints will now be resolved at home you will have to do this work on this online portal of epfo vwt

PF से जुड़ी शिकायतों का अब घर बैठे होगा समाधान, EPFO के इस ऑनलाइन पोर्टल पर आपको करना होगा ये काम...

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
ईपीएफओ ने शुरू की ऑनलाइन शिकायत पोर्टल.
ईपीएफओ ने शुरू की ऑनलाइन शिकायत पोर्टल.
फाइल फोटो.

PF/EPFO : भविष्य निधि (प्रॉविडेंट फंड) या पीएफ की समस्याओं का समाधान कराने के लिए आप अगर परेशान हो रहे हों और बार-बार कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के क्षेत्रीय कार्यालय का चक्कर लगा रहे हों, तो अब आपको यह सब करने की जरूरत नहीं है. पीएफ से जुड़ी हर समस्या का समाधान आप घर बैठे ऑनलाइन ही कर सकते हैं. इसके लिए अभी हाल ही में सरकार ने सुविधाएं उपलब्ध कराई है.

सरकार ने कर्मचारियों की पीएफ से जुड़ी समस्या का समाधान के लिए ई-इंस्पेक्शन पोर्टल पर ऑनलाइन सुविधा की शुरुआत की है. इस पोर्टल पर मिली शिकायतों के आधार पर पहले चरण में देश की करीब 35 हजार कंपनियों को नोटिस भी भेजा जा चुका है.

क्या है ई-इंस्पेक्शन शिकायत पोर्टल?

कर्मचारियों को भविष्य निधि (पीएफ) से जुड़ी शिकायतों को दर्ज कराने के लिए ऑनलाइन विकल्प दिया गया है. ईपीएफओ की ओर से ई-इंस्पेक्शन शिकायत पोर्टल शुरू किया गया है. इसमें कर्मचारी अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है और विभाग के अधिकारी और निरीक्षक उस कर्मचारी की कंपनी में जांच करने नहीं जाएंगे, बल्कि शिकायत के आधार पर संबंधित कंपनी से ऑनलाइन ही दस्तावेज मांगेंगे और उनका समाधान करेंगे. उसकी शिकायतों के निपटारे की पूरी प्रक्रिया शिकायतकर्ता के पास मोबाइल पर पहुंचती रहेगी.

सरकार को पहले से मिल रही थीं शिकायतें

दरअसल, सरकार के पास पीएफ से जुड़ी कई शिकायतें आयी थीं, जिसमें विभाग के अधिकारियों और निरीक्षकों पर वसूली के लिए कंपनी के कर्मचारियों को परेशान करने का आरोप लगाया गया था. इसलिए अब पूरी प्रक्रिया को ऑनलाइन करके विभाग ने ई-इंस्पेक्शन को देशभर के सभी पीएफ कार्यालयों में लागू किया गया है. शिकायतों के आधार पर पहले चरण में 35 हजार कंपनियों को नोटिस दिया गया है.

किस प्रकार आयी शिकायतें?

ईपीएफओ की ओर से शुरू किए गए ई-इंस्पेक्शन शिकायत पोर्टल पर अब तक जिस प्रकार की शिकायतें दर्ज करायी गयी हैं, उनमें पीएफ की कटौती नहीं होना, पीएफ कटौती मानकों के मुताबिक नहीं होना, कंपनी में 20 से ज्यादा कर्मचारी होने के बाद भी पीएफ कटौती नहीं होना और कंपनी की ओर से पीएफ का समय से भुगतान नहीं किया जाना आदि शामिल हैं.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें