1. home Hindi News
  2. business
  3. mutual fund sip earn rs 1 crore by investing rs 10000 a month invest your money in this sip fund aml

Mutual Fund SIP: 1 करोड़ रुपये तक कमाने का मौका, 10000 महीना करना होगा निवेश, यहां जानें बेस्ट एसआईपी प्लान

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
10,000 रुपये महीना निवेश कर कमाएं 1 करोड़ रुपये.
10,000 रुपये महीना निवेश कर कमाएं 1 करोड़ रुपये.
प्रतीकात्मक फोटो.

Mutual Fund SIP: निवेशकों ने सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) के माध्यम से भविष्य के उपयोग के लिए पैसे की बचत को समझा है और इसे अपना भी रहे हैं. एसआईपी एक निश्चित अंतराल पर व्यवस्थित रूप से बचत और निवेश करने का एक तरीका है. इसमें दैनिक, साप्ताहिक या मासिक आधार पर निवेश किया जा सकता है. जब आप म्यूचुअल फंड में एसआईपी (Mutual Fund SIP) शुरू करते हैं तो बैंक से इसकी राशि को ऑटो डेबट करने की अनुमति भी देते हैं. इससे आपके द्वारा चुनी हुई तिथि पर किसी फंड विशेष में आपका पैसा निवेश होता है.

अब सवाल यह उठता है कि म्युचुअल फंड में निवेश के लिए एसआईपी ही क्यों लिया जाए. पर्सनल फाइनेंस विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एसआईपी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह एक व्यवस्थित और सुसंगत दृष्टिकोण के माध्यम से धन के निर्माण में मदद करता है. निवेश डॉट कॉम के सीईओ और संस्थापक अनुराग गर्ग ने फाइनेंशियल एक्सप्रेस को बताया कि एसआईपी शुरू करते समय लंबी अवधि के बारे में सोचना चाहिए.

उदाहरण के लिए, गुप्ता ने बताया कि 10000 रुपये का मासिक एसआईपी. 15 साल की अवधि के बाद (12 फीसदी प्रति वर्ष के अनुमानित रिटर्न पर) 50 लाख रुपये हो जायेगा. कई मामलों में यह 20 साल की अवधि में एक करोड़ रुपये भी हो सकता है. उन्होंने कहा कि यह एक मिथक है कि एसआईपी केवल इक्विटी फंड के लिए अच्छा है. एसआईपी किसी भी तरह के फंड में शुरू किया जा सकता है, यहां तक ​​कि डेट और गोल्ड फंड में भी इसे शुरू किया जा सकता है.

मध्यम वर्गीय व्यवसायियों के लिए SIP का महत्व

गुप्ता ने कहा कि मध्यम वर्ग के व्यवसायियों के लिए पैसे का बढ़ाना महत्वपूर्ण है, जो उनके मुख्य व्यवसाय से अलग है. चूंकि बाहरी स्थिति बहुत अस्थिर और गतिशील हो गई है. व्यवसायियों में अपने अधिशेष को व्यवसाय में वापस करने की प्रवृत्ति है, जो वर्तमान समय में एक अच्छी रणनीति नहीं है. उन्हें कई अन्य निवेश विकल्पों में अधिशेष निवेश करने की आवश्यकता है.

उन्होंने कहा कि उदाहरण के लिए, हमने अपने एक कॉरपोरेट क्लाइंट को अपने बिजनेस सरप्लस से एसआईपी शुरू करने का सुझाव दिया क्योंकि उनके पास अच्छा कैश फ्लो था. इसलिए वे हर महीने व्यवस्थित रूप से व्यवसाय से पैसा निकाल सकते थे और एक अच्छा कोष बना सकते थे. उसका उपयोग तब नये व्यापार विस्तार के लिए किया जा सकता था. या फिर वर्तमान समय की तरह संकट की स्थिति में उपयोगी हो सकता था. और वे परिणाम से बहुत खुश थे और समय के साथ एसआईपी में वृद्धि की. वे समय-समय पर जरूरत पड़ने पर पैसे निकालते भी हैं.

किस प्रकार के फंड में करें निवेश

गुप्ता ने बताया कि यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि एसआईपी आक्रामक फंड के बजाय डेट या हाइब्रिड फंड में किया जाता है. क्योंकि पैसे की कभी भी आवश्यकता हो सकती है. व्यवसायी ऋण और इक्विटी के संयोजन के लिए भी जा सकते हैं, जहां डेट फंड में निवेश किये गये मूल कोष और वृद्धिशील रिटर्न को समग्र उच्च और कर कुशल रिटर्न के लिए इक्विटी में निवेश किया जाता है. एसआईपी बाजार की अस्थिरता में भी कम जोखिम भरा होता है. क्योंकि इकाइयों को अलग-अलग फंड में निवेश किया जाता है और एक अवधि में लागत औसतन कम होती रहती है. इससे लंबी अवधि में बेहतर रिटर्न मिलता है.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें