1. home Hindi News
  2. business
  3. moody claims 20 lack crore relief package will not solve all problems indian economy coronavirus lockdown

मूडीज का दावा- '20 लाख करोड़ की आर्थिक पैकेज से भी नहीं हल होगी सभी समस्याएं'

By Agency
Updated Date
मूडीज का दावा- '20 लाख करोड़ की आर्थिक पैकेज से भी नहीं हल होगी सभी समस्याएं'
मूडीज का दावा- '20 लाख करोड़ की आर्थिक पैकेज से भी नहीं हल होगी सभी समस्याएं'
PTI

नयी दिल्ली : रेटिंग एजेंसी मूडीज ने कहा है कि भारत सरकार द्वारा घोषित 20 लाख रुपये की राहत पैकेज से कोरोना के कारण बेपटरी हुई अर्थव्यवस्था पर फर्क नहीं पड़ेगा. एजेंसी ने कहा है कि गैर वित्तीय बैंकों को जो सहायता सरकार ने दी है, उससे बैंकों को कोई बड़ा लाभ नहीं होगा. हालांकि एजेंसी ने उम्मीद जताई है कि इस घोषणा से वित्तीय संस्थानों के परिसंपत्ति में जोखिम कम होंगे.

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने मंगलवार को कहा कि सरकार द्वारा हाल में घोषित 20 लाख रुपये के आर्थिक पैकेज से वित्तीय संस्थानों के लिए परिसंपत्तियों के जोखिम में कमी आएगी, लेकिन इससे कोविड-19 का नकारात्मक असर पूरी तरह खत्म नहीं होगा.

सरकार ने पिछले सप्ताह सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों (एमएसएमई) के लिए 3.70 लाख करोड़ रुपये के सहायता पैकेज की घोषणा की थी. इसके अलावा गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) के लिए 75,000 करोड़ रुपये और बिजली वितरण कंपनियों के लिए 90,000 करोड़ रुपये के समर्थन पैकेज की घोषणा की गई.

मूडीज ने ‘वित्तीय संस्थान- भारत: वित्तीय प्रणाली को राहत मुहैया कराने के लिए सहायता उपाये, लेकिन नहीं हल होंगी सभी समस्याएं' शीर्षक वाली अपनी टिप्पणी में कहा, ‘इन उपायों से वित्तीय क्षेत्र के लिए परिसंपत्तियों के जोखिम को कम करने में मदद मिलेगी, लेकिन वे कोरोना वायरस महांमारी के नकारात्मक प्रभावों को पूरी तरह दूर नहीं कर पाएंगे.'

एमएसएमई पैकेज के बारे में रेटिंग एजेंसी ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रकोप से पहले ही यह क्षेत्र तनाव में था और आर्थिक विकास में मंदी गहराने के साथ ही नकदी की चिंताएं बढ़ जाएंगी. वहीं एनबीएफसी के उपायों के संबंध में टिप्पणी में कहा गया कि यह मदद इन कंपनियों की तात्कालिक तरलता आवश्यकताओं की तुलना में बहुत कम है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें