1. home Hindi News
  2. business
  3. mobile tower instalation on payment of rs 15631 here is fact check of viral news mtj

15631 रुपये देने पर आपके यहां लग जायेगा मोबाईल टावर, TRAI के NOC जारी करने का क्या है सच

ट्राई को आपकी जमीन पर मोबाईल टावर लगवाने में कोई आपत्ति नहीं है. आप टेलिफॉन ऑपरेटर कंपनी के साथ 15 साल का करार कर सकते हैं. हालांकि, इसके लिए आपको कुछ शर्तों का पालन करना होगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
NOC for Mobile Tower Viral
NOC for Mobile Tower Viral
File Photo

Fact Check: टेलिफोन रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) मोबाईल टावर लगाने का नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) जारी कर रहा है. इसका एक सर्टिफिकेट सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. इसमें बताया जा रहा है कि 15,631 रुपये का भुगतान करने पर मोबाईल टावर लगाने का एनओसी दिया जा रहा है.

TRAI का NOC सोशल मीडिया में वायरल

एक नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट सोशल मीडिया में वायरल है. इसमें कहा गया है कि ट्राई को आपकी जमीन पर मोबाईल टावर लगवाने में कोई आपत्ति नहीं है. आप टेलिफॉन ऑपरेटर कंपनी के साथ 15 साल का करार कर सकते हैं. हालांकि, इसके लिए आपको कुछ शर्तों का पालन करना होगा. इसके नीचे 13 शर्तें दी गयीं हैं, जिसका मोबाईल टावर लगवाने वालों को पालन करना होगा.

NOC के लिए करना होगा 13 शर्तों का पालन

शर्तों में कहा गया है कि एग्रीमेंट कम से कम 15 साल के लिए होगा. न्यूनतम किराया 30,000 रुपये प्रति माह होगा. एनओसी के लिए 15,631 रुपये जमा करवाने होंगे. शर्तों में कहा गया है कि यह राशि टेलिकॉम ऑपरेटर के द्वारा डॉट के पास जमा करवाना होगा. प्रोजेक्ट इको फ्रेंडली होना चाहिए. रेडिएशन लेवल 5.6.0 के नीचे होना चाहिए. फ्रीक्वेंसी लेवल 92.2 से अधिक होनी चाहिए.

जमा करने होंगे ये दस्तावेज

शर्तों में आगे कहा गया है कि जेनरेटर साइलेंट होना चाहिए. एनओसी लेने वाले को कुछ जरूरी दस्तावेज जमा कराने होंगे. इसमें मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, पैन कार्ड और जमीन के दस्तावेज शामिल हैं. टेलिकॉम कंपनी के साथ एग्रीमेंट करने वाले शख्स की उम्र 18 साल से अधिक होनी चाहिए. इतना ही नहीं, यह भी कहा गया है कि हर वित्तीय वर्ष की समाप्ति पर एग्रीमेंट करने वाले को इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करना होगा.

ट्राई जारी नहीं करता एनओसी

इस सर्टिफिकेट के नीचे टेलिफोन रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) की एक मुहर भी लगी हुई है. लेकिन, आपको यह जानकर हैरत होगी कि यह एनओसी फर्जी है. भारत सरकार की संस्था पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) ने इसका फैक्ट चेक किया और पाया कि यह दस्तावेज पूरी तरह से फर्जी है. पीआईबी ने कहा है कि मोबाईल टावर लगाने के लिए ट्राई ऐसा कोई सर्टिफिकेट जारी नहीं करता.

Posted By: Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें