1. home Hindi News
  2. business
  3. inflation high due to russia ukraine war rbi may increase repo rate by 075 percent by august mtj

युद्ध की वजह से बढ़ रही है महंगाई, RBI अगस्त तक 0.75 फीसदी बढ़ा सकता है रेपो रेट

अर्थशास्त्रियों ने आशंका जतायी है कि मुद्रास्फीति को काबू में लाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अगस्त तक नीतिगत रेपो दर में अभी 0.75 प्रतिशत तक की और वृद्धि कर सकता है. इस तरह रेपो दर महामारी से पहले के 5.15 प्रतिशत के स्तर तक पहुंच जायेगी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
SBI
SBI
File Photo

मुंबई: युद्ध की वजह से देश में महंगाई बढ़ रही है. अगस्त तक भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) 0.75 फीसदी रेपो रेट बढ़ा सकता है. देश के अग्रणी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अर्थशास्त्रियों ने ये बातें कहीं हैं. उनका मानना है कि हाल में मुद्रास्फीति में दर्ज की गयी तीव्र वृद्धि में करीब 60 प्रतिशत योगदान रूस-यूक्रेन युद्ध से पैदा हुए कारकों का रहा है.

रेपो रेट बढ़ने का अनुमान

इन अर्थशास्त्रियों ने आशंका जतायी है कि मुद्रास्फीति को काबू में लाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अगस्त तक नीतिगत रेपो दर में अभी 0.75 प्रतिशत तक की और वृद्धि कर सकता है. इस तरह रेपो दर महामारी से पहले के 5.15 प्रतिशत के स्तर तक पहुंच जायेगी.

मुद्रास्फीति पर रूस-यूक्रेन युद्ध का असर

अर्थशास्त्रियों ने मुद्रास्फीति पर रूस-यूक्रेन युद्ध के असर को लेकर किये गये अध्ययन में यह पाया है कि कीमतों में हुई कम-से-कम 59 प्रतिशत की वृद्धि के पीछे इस युद्ध से पैदा हुए भू-राजनीतिक हालात रहे हैं. इस अध्ययन में फरवरी के महीने को कीमतों की तुलना का आधार बनाया गया था.

सिर्फ युद्ध की वजह से इतनी बढ़ी महंगाई

अध्ययन के मुताबिक, सिर्फ युद्ध की वजह से खाद्य एवं पेय उत्पादों, ईंधन, परिवहन और ऊर्जा की कीमतों में हुई वृद्धि का मुद्रास्फीति में 52 फीसदी अंशदान रहा है, जबकि 7 प्रतिशत असर दैनिक उपभोग वाले उत्पादों से जुड़ी लागत बढ़ने से पड़ा.

मुद्रास्फीति की मौजूदा स्थिति में सुधार की संभावना नहीं

अर्थशास्त्रियों ने अपनी टिप्पणी में कहा है कि मुद्रास्फीति की मौजूदा स्थिति में फौरन सुधार आने की संभावना नहीं दिख रही है. हालांकि, शहरी एवं ग्रामीण इलाकों में कीमत वृद्धि का रूप अलग-अलग देखा गया है. ग्रामीण इलाकों में खाद्य उत्पादों के दाम बढ़ने से महंगाई की ज्यादा मार देखी जा रही है, जबकि शहरी इलाकों में पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने का ज्यादा असर है.

जून और अगस्त में बढ़ेंगी नीतिगत ब्याज दरें

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘मुद्रास्फीति में निरंतर वृद्धि को देखते हुए अब यह लगभग तय है कि रिजर्व बैंक आगामी जून और अगस्त की नीतिगत समीक्षा के समय ब्याज दरें बढ़ायेगा और इसे अगस्त तक 5.15 प्रतिशत के पूर्व-महामारी स्तर पर ले जायेगा.’

रेपो रेट बढ़ाने के हो सकते हैं सकारात्मक प्रभाव

हालांकि, एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने आरबीआई से इस पहलू पर गौर करने को कहा है कि अगर युद्ध संबंधी गतिरोध जल्दी दूर नहीं होते हैं, तो क्या इन कदमों से मुद्रास्फीति को सार्थक रूप से नीचे लाया जा सकता है? इसके साथ ही उन्होंने केंद्रीय बैंक के कदमों का समर्थन करते हुए कहा है कि बढ़ोतरी का सकारात्मक प्रभाव भी हो सकता है.

विदेशी मुद्रा भंडार में नहीं आयेगी कमी

इसके मुताबिक, ‘उच्च ब्याज दर वित्तीय प्रणाली के लिए भी सकारात्मक होगी, क्योंकि जोखिम नये सिरे से तय होंगे.’ उन्होंने रुपये को समर्थन देने के लिए बैंकों की बजाय एनडीएफ बाजार में आरबीआई के हस्तक्षेप को सही ठहराते हुए कहा कि इससे रुपये की तरलता को प्रभावित नहीं करने का लाभ मिलता है. इसके अलावा इस तरह विदेशी मुद्रा भंडार में भी कमी नहीं आयेगी.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें