1. home Hindi News
  2. business
  3. disinvestment of air india due to rising outbreak of corona virus is difficult at present

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से एयर इंडिया का विनिवेश मौजूदा समय में मुश्किल

By KumarVishwat Sen
Updated Date

सिंगापुर : कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच विमानन कंपनियों के अंतरराष्ट्रीय संगठन आईएटीए ने गुरुवार को कहा कि मौजूदा हालातों में एयर इंडिया का विनिवेश ‘मुश्किल' हो सकता है. कोरोना वायरस की वजह से विभिन्न देशों ने यात्रा प्रतिबंध लगाए हैं. वहीं, भारतीय कंपनियों का वैश्विक और घरेलू हवाई यातायात बाजार प्रभावित हुआ है. इसके चलते विमानन कंपनियों पर भारी दबाव है. इस वायरस से दुनियाभर में अब तक 95,000 से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 3,200 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

आईएटीए के मुख्य अर्थशास्त्री ब्रायन पीयर्स ने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह भारतीय विमानन कंपनियों के लिए काफी मुश्किल भरा समय है.' उन्होंने कहा कि स्पष्ट तौर पर भारतीय विमानन कंपनियों के लिए अंतरराष्ट्रीय बाजार बहुत कमजोर हुआ है. वहीं, घरेलू हवाई यातायात भी इससे प्रभावित हुआ है. पीयर्स के अनुसार, कोरोना वायरस से जो स्थिति बनी है, उसके चलते भारतीय विमानन कंपनियों आपस में एकीकरण कर सकती हैं. उन्होंने कहा कि एयर इंडिया का निजीकरण दीर्घावधि में भारतीय बाजार के लिए एक अनिवार्य कदम है.

भारत सरकार ने एयर इंडिया की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने के लिए आरंभिक सूचना ज्ञापन जारी किया है. पीयर्स ने कहा कि एयर इंडिया के निजीकरण के लिए उपाय के तौर पर भारतीय विमानन कंपनियों को आपस में विलय करना चाहिए. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि मौजूदा स्थिति में यह मुश्किल दिखता है, क्योंकि विमानन उद्योग पहले से कोरोना वायरस का असर झेल रहा है. वहीं, शेयर बाजार भी कमजोर बने हुए हैं. इस वजह से एयर इंडिया का निजीकरण वर्तमान स्थिति में थोड़ा मुश्किल है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें