1. home Home
  2. world
  3. resistance front spokesman faheem dashti killed in panjshir battle fighting continues with taliban aml

पंजशीर की जंग में मारे गये रेजिस्टेंस फ्रंट के प्रवक्ता फहीम दशती, तालिबान लड़ाकों के साथ संघर्ष जारी

रविवार को दशती ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि तालिबान लड़ाकों को व्यावहारिक रूप से इस क्षेत्र से खदेड़ दिया गया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Faheem Dashti
Faheem Dashti
Twitter

पंजशीर में चल रही लड़ाई के दौरान अफगानिस्तान (Afghanistan) के रेजिस्टेंस फोर्स (अहमद मसूद का गुट) के एक प्रवक्ता की मौत हो गयी. तालिबान ने कहा कि उसकी सेना ने अपनी प्रांतीय राजधानी में प्रवेश किया था. नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट (NRF) के प्रवक्ता फहीम दशती की मौत की खबरें भी रेजिस्टेंस फ्रंट के कई ट्विटर अकाउंट पर दिखाई दीं. ट्वीट में कोई अन्य विवरण दिए बिना कहा गया कि भारी मन से हम रिपोर्ट कर रहे हैं कि रेजिस्टेंस फ्रंट के प्रवक्ता फहीम दशती को आतंकवादी तालिबान ने मार दिया है.

रविवार को दशती ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि तालिबान लड़ाकों को व्यावहारिक रूप से इस क्षेत्र से खदेड़ दिया गया है. हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक जब तालिबान ने विपक्षी ताकतों पर दबाव डाला, तो उन्होंने नियमित रूप से क्षेत्र से अपडेट्स ट्वीट किए. उन्होंने यह बयान जारी किया कि रेजिस्टेंस फ्रंट तालिबान से लड़ना जारी रखेंगे. द खामा प्रेस ने बताया कि दशती जमीयत-ए-इस्लामी पार्टी के वरिष्ठ सदस्य और फेडरेशन ऑफ अफगान जर्नलिस्ट्स के सदस्य थे.

हालांकि हिंदुस्तान टाइम्स ने फहीम दशती की मौत की खबरों की पुष्टि नहीं की है. पंजशीर घाटी काबुल की राजधानी से लगभग 90 मील उत्तर में हिंदू कुश पहाड़ों में स्थित है. काबुल पर कब्जे के बाद से तालिबान लड़ाके पंजशीर पर कब्जे के प्रयास में लगे हुए हैं और बार-बार पंजशीर पर हमले भी कर रहे हैं. तालिबान ने शुक्रवार को दावा भी किया था कि उसने पंजशीर को जीत लिया है, लेकिन अभी भी वहां जंग जारी है.

शुक्रवार की रात पूर्वोत्तर प्रांत पंजशीर में युद्ध तेज होने के बाद दशती की मौत की खबरें आईं. तालिबान के प्रवक्ता बिलाल करीमी ने ट्विटर पर कहा कि प्रांतीय राजधानी बाजारक से सटे रूखा का पुलिस मुख्यालय और जिला केंद्र गिर गया है. करीमी ने यह भी कहा कि बड़ी संख्या में कैदियों और कब्जे वाले वाहनों, हथियारों और गोला-बारूद के साथ विपक्षी बलों के कई हताहत हुए हैं.

हालांकि, रेजिस्टेंस फ्रंट ने तालिबान द्वारा किए गए दावों का खंडन किया. अफगानिस्तान के नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट (एनआरएफए) के प्रमुख अहमद मसूद ने रविवार को कहा कि उन्होंने घाटी में तालिबान के साथ लड़ाई को समाप्त करने के लिए बातचीत के जरिए प्रस्तावों का स्वागत किया. मसूद ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा, कि एनआरएफ सैद्धांतिक रूप से मौजूदा समस्याओं को हल करने और लड़ाई को तत्काल समाप्त करने और बातचीत जारी रखने के लिए सहमत है.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें