1. home Home
  2. tech and auto
  3. how does bluetooth chappal works in competitive exams latest technology used by solver gangs modus operandi rjv

ब्लूटूथ चप्पल क्या है? प्रतियोगी परीक्षाओं में कैसे करता है यह सॉल्वर गैंग की मदद?

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा, यानी REET 2021 में नकल के ऐसे जुगाड़ की खबर आयी, जिसे जानकर आप भौंचक्के रह जाएंगे. राजस्थान सरकार ने हालांकि नकल रोकने के लिए इंटरनेट बंद कर दिया था. एग्जामिनेशन सेंटर पर भी फोन और दूसरे डिवाइस ले जाने पर रोक थी. ऐसे में सॉल्वर गैंग ने नायाब तरीका निकाला.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
how does bluetooth slippers work in competitive examinations
how does bluetooth slippers work in competitive examinations
fb

हाल ही में राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा, यानी REET 2021 में नकल के ऐसे जुगाड़ की खबर आयी, जिसे जानकर आप भौंचक्के रह जाएंगे. राजस्थान सरकार ने हालांकि नकल रोकने के लिए इंटरनेट बंद कर दिया था. एग्जामिनेशन सेंटर पर भी फोन और दूसरे डिवाइस ले जाने पर रोक थी. ऐसे में सॉल्वर गैंग ने नायाब तरीका निकाला.

25 लोगों ने खरीदी छह लाख की चप्पलें

शातिर बदमाशों ने पूरा मोबाइल फोन ही चप्पल में फिट कर दिया. पहले चप्पल बनायी गई और फिर उसके बाद इसके ग्राहक खोजे गए. रिपोर्ट्स की मानें, तो छह लाख की कीमत वाली इस तरह की कुल 25 मोबाइल वाली चप्पलें बेची गईं. सॉल्वर गैंग ने बाजार से ऐसी चप्पलें खरीदीं, जिन्हें बीच में से काटकर वापस जोड़ा जा सके.

चप्पल में फिट किया मोबाइल फोन

स्पंज वाली इन चप्पलों को काटकर उसका सोल अलग किया गया. तले में चाकू से कटिंग की गई. मोबाइल की बैटरी, मदर बोर्ड और अन्य मशीनरी के साथ सिम के लिए जगह बनायी गई. मोबाइल की सारी मशीनरी अलग-अलग करके उसमें फिट कर दी गई. इसके बाद चप्पल के ऊपरी हिस्से को पूरी सफाई से जोड़ दिया गया.

चप्पल में ब्लूटूथ, कान में लगा इयरफोन

छह लाख रुपये के ब्लूटूथ चप्पल में जो मोबाइल ब्लूटूथ फिट था, वह परीक्षा देनेवाले के कान में लगे छोटे से इयरफोन से जुड़ा होता था. इस पर कॉल रिसीव करने के लिए सेंसर भी था. इसके जरिये अभ्यर्थी नकल करानेवाली गैंग से कनेक्ट होते थे. और तब सभी सवालों के जवाब एक-एक कर बताये जाते थे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें