19.1 C
Ranchi
Sunday, March 3, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

BSP सुप्रीमो मायावती ने SP पर किया तीखा हमला, गेस्ट हाउस कांड का जिक्र करते हुए मांगी सुरक्षा व्यवस्था

बसपा प्रमुख व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने समाजवादी पार्टी पर तीखा हमला बोलते हुए दलित विरोधी बताया है. साथ ही उन्होंने गेस्ट हाउस कांड का जिक्र करते हुए अपनी जान को खतरा बताया है. उन्होंने यूपी सरकार से अपनी सुरक्षा व्यवस्था की मांग की है.

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती (Mayawati) ने समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) पर तीखा हमला करते हुए दलित विरोधी बताया है. साथ ही उन्होंने गेस्ट हाउस कांड (Guest House Kand) का जिक्र करते हुए अपनी जान को खतरा बताते हुए यूपी सरकार से सुरक्षा व्यवस्था की मांग की है. मायावती ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट एक्स पर इसे लेकर कई पोस्ट किए और कहा कि सपा अति-पिछड़ों के साथ-साथ जबरदस्त दलित-विरोधी पार्टी भी है, हालांकि बीएसपी ने पिछले लोकसभा आमचुनाव में सपा से गठबन्धन करके इनके दलित-विरोधी चाल, चरित्र व चेहरे को थोड़ा बदलने का प्रयास किया. लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद ही सपा पुनः अपने दलित-विरोधी जातिवादी एजेंडे पर आ गई. मायावती ने आगे कहा कि और अब सपा मुखिया जिससे भी गठबन्धन की बात करते हैं उनकी पहली शर्त बसपा से दूरी बनाए रखने की होती है, जिसे मीडिया भी खूब प्रचारित करता है. वैसे भी सपा के 2 जून 1995 (गेस्ट हाउस कांड) सहित घिनौने कृत्यों को देखते हुए व इनकी सरकार के दौरान जिस प्रकार से अनेकों दलित-विरोधी फैसले लिए गए हैं. जिनमें बीएसपी यूपी स्टेटआफिस के पास ऊंचा पुल बनाने का कृत्य भी है जहां से षड्यन्त्रकारी अराजक तत्व पार्टी दफ्तर, कर्मचारियों व राष्ट्रीय प्रमुख को भी हानि पहुंचा सकते हैं जिसकी वजह से पार्टी को महापुरुषों की प्रतिमाओं को वहां से हटाकर पार्टी प्रमुख के निवास पर शिफ्ट करना पड़ा.

Also Read: UP News: बलिया में गेहूं के खेत में मिला जला हुआ शव, नहीं हो सका पहचान, पुलिस छानबीन में जुटी
बसपा सुप्रीमों ने दफ्तर के लिए मांगी नई जगह

बसपा सुप्रीमों ने पार्टी दफ्तर के लिए सुरक्षित स्थान की मांग करते हुए उन्होंने अपनी अगली पोस्ट में लिखा कि असुरक्षा को देखते हुए सुरक्षा सुझाव पर पार्टी प्रमुख को अब पार्टी की अधिकतर बैठकें अपने निवास पर करने को मजबूर होना पड़ रहा है, जबकि पार्टी दफ्तर में होने वाली बड़ी बैठकों में पार्टी प्रमुख के पहुँचने पर वहाँ पुल पर सुरक्षाकर्मियों की अतिरिक्त तैनाती करनी पड़ती है. ऐसे हालात में बीएसपी यूपी सरकार से वर्तमान पार्टी प्रदेश कार्यालय के स्थान पर अन्यत्र सुरक्षित स्थान पर व्यवस्था करने का भी विशेष अनुरोध करती है, वरना फिर यहाँ कभी भी कोई अनहोनी हो सकती है. साथ ही, दलित-विरोधी तत्वों से भी सरकार सख़्ती से निपटे, पार्टी की यह भी मांग है. बता दें कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव कल बलिया दौरे पर थे. यहां मीडिया ने जब उनसे इंडिया ब्लॉक में मायावती और बसपा को शामिल करने के बारे में सवाल किया तो उन्होंने तंज भरे लहजे में पूछा कि उसके बाद का (2024 लोकसभा चुनाव) भरोसा आप दिलाओगे. बात भरोसे का है. अगर वह आती हैं तो आप में से कौन भरोसा दिलाएगा? बता दें कि हाल ही में हुई इंडिया गंठबंधन की बैठक में अखिलेश यादव ने बसपा को शामिल करने के प्रति असहमति जताई थी. गौरतलब है कि बसपा और सपा ने यूपी में 2019 का लोकसभा चुनाव गठबंधन में लड़ा था. उनके गठबंधन की तीसरी पार्टी रालोद थी. बीएसपी ने 10 सीटें जीती थीं, जबकि सपा को 5 सीटों पर जीत मिली थी. आरएलडी खाता भी नहीं खोल सकी थी.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें