1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. varanasi
  5. varanasi become saffron on the occasion of hanuman jayanti 2022 rkt

Hanuman Jayanti: हनुमान जयंती पर केसरिया रंग में रंगी शिव की नगरी काशी, तस्वीरों में देखें अद्भुत छटा

काशी का कोने-कोने में जय श्रीराम-जय श्रीराम और जय हनुमान के उद्घोष से सुनायी दे रहा है. काशी में हनुमान जयंती के अवसर पर श्री हनुमान ध्वजा प्रभात फेरी समिति की ओर से शनिवार को सुबह हनुमान पताका प्रभातफेरी निकली गई.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Varanasi
Updated Date
काशी में हनुमान जंयती
काशी में हनुमान जंयती
प्रभात खबर

16 अप्रैल को चैत्र माह की पूर्णिमा है. साथ ही हनुमान जयंती भी है. इस दिन भगवान शिव के 11वें रुद्रावतार, यानि श्री हनुमान जी का जन्म हुआ था. इस दिन रामभक्त हनुमान की जयंती पर बाबा भोले की नगरी काशी केसरिया रंग में रंगी नजर आई.

काशी में हनुमान जंयती
काशी में हनुमान जंयती
प्रभात खबर

अंजनी पुत्र भगवान हनुमान की जयंती पुरे शहर में धूमधाम से मनाई जा रही है. काशी का कोने-कोने में जय श्रीराम-जय श्रीराम और जय हनुमान के उद्घोष से सुनायी दे रहा है. काशी में हनुमान जयंती के अवसर पर श्री हनुमान ध्वजा प्रभात फेरी समिति की ओर से शनिवार को सुबह हनुमान पताका प्रभातफेरी निकली गई.

काशी में हनुमान जंयती
काशी में हनुमान जंयती
प्रभात खबर

प्रभात फेरी में महिलाएं आरती की थाली ली हुईं थीं, वहीं पुरुष लाल पताका लिए भजन कीर्तन करते चल रहे थे. दुर्गाकुंड स्थित धर्मसंघ से श्री संकटमोचन मंदिर के लिए निकली प्रभातफेरी में भक्त झूमते हुए चल रहे थें. हनुमानजी की चित्र की आरती उतारने के लिए होड़ रही.

काशी में हनुमान जंयती
काशी में हनुमान जंयती
प्रभात खबर

मारवाड़ी युवा मंच गंगा शाखा की महिलाओं ने भी आरती उतारी. प्रभातफेरी रवींद्रपुरी कॉलोनी, दुर्गाकुंड, मानस मंदिर, त्रिदेव मंदिर होते हुए श्रीसंकटमोचन मंदिर पहुंची, जहां भक्तों ने हनुमान चालीसा पाठ किया गया. श्री हनुमान ध्वजा प्रभात फेरी के संस्थापक व अध्यक्ष कौशल शर्मा ने बताया कि यह परंपरा कोई नहीं है यह 22 वर्ष पुरानी परंपरा है.

काशी में हनुमान जंयती
काशी में हनुमान जंयती
प्रभात खबर

हनुमान जी को ध्वजा चढ़ाना हिन्दू धर्म की परंपरा है. यह ध्वजा यात्रा 2001 में शुरू की गई थी. यह यात्रा धर्मसंघ दुर्गाकुंड से शुरू करते हुए रविन्दपुरी, गुरुधाम, मानस मन्दिर होते हुए संकटमोचन जाएगी. वहाँ पहुचने के पश्चात सभी महिलाएं भगवान की आरती करेंगी और सभी पुरुष जिन्होंने भी अपने हाथों में ध्वजा ली है ये सब हनुमान जी को अर्पण किये जायेंगे.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें