1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. aligarh
  5. members of the gang who financed electronic equipment on fake documents arrested in aligarh rkt

Aligarh News: फर्जी डाक्यूमेंट्स से इलेक्ट्रॉनिक आइटम फाइनेंस कराने वाले गिरोह का भांडाफोड़, 5 गिरफ्तार

अलीगढ़ में फर्जी डाक्यूमेंट्स से इलेक्ट्रॉनिक आइटम फाइनेंस करा कर हड़पने का काम करने वाले गिरोह का भांडाफोड़ हुआ है. अलीगढ़ पुलिस ने ऑपरेशन 420 के तहत फर्जी प्रपत्र लगाकर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Aligarh
Updated Date
गिरोह का भांडाफोड़
गिरोह का भांडाफोड़
प्रभात खबर

Aligarh News:अलीगढ़ में फर्जी डाक्यूमेंट्स से इलेक्ट्रॉनिक आइटम फाइनेंस करा कर हड़पने का काम करने वाले गिरोह का भांडाफोड़ हुआ है. अलीगढ़ पुलिस ने ऑपरेशन 420 के तहत फर्जी प्रपत्र लगाकर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है. गिरोह के 5 शातिर गिरफ्तार किए गए हैं.

फर्जी प्रपत्र से धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने धोखाधड़ी व जालसाजी करने वालों के विरूद्ध कार्यवाही करने हेतु चलाए जा रहे ऑपरेशन 420 के तहत थाना सिविल लाइन्स व साइबर सेल पुलिस टीम ने अनूपशहर से 5 शातिर गिरफ्तार किए. जिसमें शहवाजपुर माल थाना खुर्जा देहात जिला बुलन्दशहर निवासी नरेन्द्र पुत्र चन्द्रपाल, मुबारकपुर थाना जहांगीराबाद जिला बुलन्दशहर निवासी करन राघव पुत्र चिरंजीव सिंह, रंजीत गढ़ी थाना खैर जिला अलीगढ़ निवासी विकास पुत्र अशोक कुमार, अजय कुमार पुत्र रामवीर सिंह, हरिओम पुत्र रामप्रसाद गिरफ्तार किए गए हैं.

ये किया बरामद... पुलिस को फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह से एक एसी स्प्लिट एलजी कंपनी, 2 प्रिंटर, डाटा केबिल, की बोर्ड, माउस, बायोमैट्रिक मशीन, 97 आधार कार्ड, 66 पैन कार्ड, 17 एटीएम कार्ड, 3 पहचान पत्र, 3 ड्राइविंग लाइसेंस, 7 बैंक पासबुक, 6 कीपैड मोबाइल, 19 सिम कार्ड, 14 मुहर ,एक इंकपैड, एक वैगनआर गाडी नं0 UP 15 CL 0573 बरामद की.

ऐसे करते थे धोखाधड़ी...नई दिल्ली निवासी राज मौहम्मद पुत्र यासीन खां बजाज फाइनेन्स कंपनी में काम करता है. यासीन खां ने थाना सिविल लाइन्स पर फर्जी प्रपत्र प्रयोग कर धोखाधड़ी से कीमती इलेक्ट्रॉनिक सामान हड़प लेने के सम्बंध में करन राघव आदि 5 के विरूद्ध मामला पंजीकृत कराया था. एक गिरोह फर्जी डॉक्यूमेंट बनाकर बजाज फाइनेंस से बड़े-बड़े इलेक्ट्रॉनिक आइटम खरीदा था. उसके बाद उनकी किस्त जब नहीं चुकायी गयी तो खरीदने वाले के बारे में पता किया गया. फाइनेंस कंपनी को उसमें लगे कागज फर्जी मिले तब फर्जी डॉक्यूमेंट बनाकर इलेक्ट्रॉनिक आइटम हड़पने का मामला सामने आया.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें