40.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

भारतीय हॉकी के धुरंधर दिलीप तिर्की को है यकीन- सुंदरगढ़ में बीजद के लिए दागेंगे विजयी ‘गोल’

भारतीय हॉकी के धुरंधर दिलीप तिर्की एक बार फिर लोकसभा चुनाव के मैदान में उतर गए हैं. बीजद के टिकट पर लड़ रहे हॉकी इंडिया के अध्यक्ष को यकीन है कि इस बार जीतेंगे.

Table of Contents

भुवनेश्वर/राउरकेला. ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले में हॉकी महज खेल नहीं, बल्कि जीवनशैली का हिस्सा है और इस आदिवासी बहुल जिले को खेल के मानचित्र पर उभारने वाले दिलीप तिर्की को यकीन है कि दुनिया के सबसे बड़े हॉकी स्टेडियम का तोहफा पाने वाले मतदाता हॉकी में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के योगदान को नहीं भूलेंगे.

भारतीय हॉकी की दीवार कहे जाते थे दिलीप तिर्की

भारत को विलियम खाल्को, लाजरूस बारला, प्रबोध तिर्की, अमित रोहिदास, सुभद्रा प्रधान जैसे धुरंधरों के साथ सीनियर और जूनियर स्तर पर 100 से अधिक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी देने वाली ‘हॉकी की नर्सरी’ सुंदरगढ़ में बीजू जनता दल ने भारतीय हॉकी की दीवार कहे जाने वाले महान दिलीप तिर्की पर फिर भरोसा जताया है.

भाजपा के जुएल ओराम से 2014 में हार गए थे लोकसभा चुनाव

हॉकी इंडिया के अध्यक्ष और भारत के पूर्व कप्तान तिर्की आदिवासी बहुल इस सीट पर 2014 में भारतीय जनता पार्टी के जुएल ओराम से हार गये थे, जो 2019 में भी सीट बरकरार रखने में कामयाब रहे. पिछली बार लोकसभा चुनाव से दूर रहे तिर्की को एक बार फिर ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने सुंदरगढ़ से मैदान में उतारा है.

इस बार जीत का है पूरा यकीन

भारत के लिए 400 से अधिक अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके दिलीप तिर्की ने एक साक्षात्कार में कहा कि मुझे इस बार जीत का पूरा यकीन है. पिछले 10 साल में काफी कुछ बदल गया है. ओडिशा में विकास का काफी काम हुआ है, चाहे वह शिक्षा हो, स्वास्थ्य या फिर खेल.

एक दशक में खेल मानचित्र पर ओडिशा ने दर्ज कराई उपस्थिति

उन्होंने कहा कि पिछले एक दशक में विश्व खेल मानचित्र में ओडिशा ने पुरजोर उपस्थिति दर्ज करायी है. राउरकेला में दुनिया का सबसे बड़ा हॉकी स्टेडियम ‘बिरसा मुंडा स्टेडियम’ बनाया गया है और पिछले साल पुरुष हॉकी विश्व कप के मैचों का सफल आयोजन भी यहां हुआ है.

3 ओलिंपिक और 3 विश्व कप में किया भारत का प्रतिनिधित्व

सुंदरगढ़ के सौनामारा में जन्मे दिलीप तिर्की के भरोसे की वजह भारतीय हॉकी में ओडिशा का योगदान भी है. ओडिशा सरकार 2018 में 100 करोड़ के करार पर पांच साल के लिए भारतीय हॉकी की मुख्य प्रायोजक बनी थी. तोक्यो ओलिंपिक में पुरुष टीम के कांस्य पदक जीतने के बाद अज्ञात राशि पर यह करार 10 साल के लिए बढ़ाया गया.

ओडिशा के हॉकी खिलाड़ियों में भी दिख रहा उत्साह

तीन ओलिंपिक और तीन विश्व कप खेल चुके तिर्की ने कहा, हॉकी खिलाड़ियों में भी उत्साह है और यहां दूर-दराज में हॉकी को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न जिलों के 17 ब्लॉक में 17 एस्ट्रो टर्फ लग चुके हैं. इसके अलावा इंडोर खेलों के लिए भी काफी केंद्र बनाये गये हैं. ओडिशा सरकार ने खेल और खिलाड़ियों के विकास, अत्याधुनिक प्रशिक्षण और बड़े टूर्नामेंटों की मेजबानी करके प्रदेश की छवि बदल दी है और खेलप्रेमी मतदाता इसे भूलेंगे नहीं.

खिलाड़ी के तौर पर मेहनत की, राजनीति में भी मेहनत करूंगा

सुंदरगढ़ के राउरकेला में पिछले साल विश्व कप से पहले दुनिया का सबसे बड़ा ‘बिरसा मुंडा हॉकी स्टेडियम’ बनाया गया. हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ने कहा, मैंने एक खिलाड़ी के तौर पर बहुत मेहनत की है और राजनीति में भी करूंगा. खिलाड़ी सफल राजनीतिज्ञ हो सकते हैं. खेल का मतलब ही कड़ी मेहनत और अनुशासन है, जो राजनीति में भी जरूरी है. इसके साथ ही संयम की जरूरत है, जो मेरे पूरे करियर में मैंने बनाये रखा.

भाजपा से गठबंधन नहीं होने का असर चुनाव में नहीं पड़ेगा

तिर्की ने कहा कि राज्यसभा सांसद के रूप में उनका अनुभव भी अब उनके काफी काम आयेगा. वर्ष 2012 से 2018 तक राज्यसभा सदस्य रहे तिर्की ने कहा कि राज्यसभा में धुरंधरों के बीच बैठना मेरे लिए बहुत बड़ा अनुभव है. पहली बार किसी खिलाड़ी को बीजद से राज्यसभा में भेजा गया, जो मेरे लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है. यह अनुभव भविष्य की राजनीति में बहुत काम आयेगा.

ओडिशा में बीजद को गठबंधन की जरूरत नहीं : दिलीप तिर्की

दिलीप तिर्की ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी से गठबंधन नहीं होने का असर ओडिशा में विधानसभा और लोकसभा चुनाव पर नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा, ओडिशा में बीजद को गठबंधन की जरूरत नहीं है क्योंकि लोगों का बीजद और नवीन पटनायक के नेतृत्व में अटूट विश्वास है. उन्होंने ओडिशा की छवि पूरी तरह से बदल दी है. इसी तरह केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बीजद से गठबंधन की जरूरत नहीं है.

हॉकी मेरा जुनून, इसने मुझे बहुत कुछ दिया

यह पूछने पर कि सुंदरगढ़ में वोट उनके लिए पड़ेंगे या नवीन पटनायक के लिये, तिर्की ने कहा, मैं राजनीति में नवीन पटनायक की वजह से हूं और निश्चित तौर पर उनकी सकारात्मक छवि से मुझे वोट मिलेंगे.

हॉकी इंडिया अध्यक्ष का पद छोड़ेंगे दिलीप तिर्की? दिया ये जवाब

क्या चुनावी राजनीति में सक्रिय होने से वह हॉकी इंडिया अध्यक्ष का पद छोड़ेंगे? इस सवाल पर उन्होंने कहा, हॉकी मेरा जुनून है और इसने मुझे बहुत कुछ दिया है. अब हॉकी इंडिया का अध्यक्ष होने के नाते भी मैं इससे जुड़ा हुआ हूं. उम्मीद है कि आगे भी यह जिम्मेदारी संभाल सकूंगा. कुश्ती महासंघ के पूर्व अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह गोंडा से सांसद भी थे, तो ऐसा कुछ नहीं है कि सांसद खेल महासंघ में नहीं रह सकते.

विधानसभा में नवीन पटनायक ने जीती थी 147 में 113 सीटें

ओडिशा में 2019 के विधानसभा चुनाव में नवीन पटनायक ने 147 में से 113 सीटें जीती थी, लेकिन इसके साथ ही हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिमी ओडिशा में सेंध मारते हुए कालाहांडी, बलांगीर, बरगढ़, संबलपुर और सुंदरगढ़ सीटों पर कब्जा किया था.

Also Read : ओडिशा : भाजपा नेता खारबेल स्वांई ने बालेश्वर से निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा की

Also Read : ओडिशा : केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने 15-18 लोकसभा सीटें जीतने का किया दावा

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें