1. home Hindi News
  2. state
  3. maharashtra
  4. maharashtra corona virus news updates maharashtra recorded 17864 new corona cases the lowest after two month smb

महाराष्ट्र में लॉकडाउन का असर, दो महीने में सबसे कम केस, पिछले 24 घंटे में 402 मौतें

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
महाराष्ट्र में दो महीने में कोरोना के सबसे कम केस
महाराष्ट्र में दो महीने में कोरोना के सबसे कम केस
फाइल फोटो

Maharashtra Coronavirus New Cases देश भर में बीते कुछ दिनों से कोरोना वायरस के मामलों में लगातार गिरावट दर्ज हो रही है. इसी कड़ी में महाराष्ट्र से भी राहत देने वाली खबर सामने आ रही है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी किए गए ताजा आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में 18,600 नए कोरोना के नए मामले सामने आने के साथ ही इस अवधि में 402 मरीजों की मौत हुई है. महाराष्ट्र में 16 मार्च के बाद रविवार को सबसे कम कोरोना के मामले दर्ज किए गए हैं. 16 मार्च को कोरोना के 17,864 मामले सामन आए थे. वहीं, राज्य में कोरोना से हुई मौतों की संख्या में भी गिरावट दर्ज की जा रही है.

हालांकि, महाराष्ट्र में अभी भी पॉजिटिविटी रेट 16.44 प्रतिशत (कुल जांच में से 16 फीसदी से ज्यादा पॉजिटिव) बना हुआ है. वहीं, राज्य में मृत्यु दर 1.65 प्रतिशत है. महाराष्ट्र में सक्रिय मरीजों की अभी भी ऊंचे स्तर पर है. राज्य में दो लाख 71 हजार 801 एक्टिव केस हैं. महाराष्ट्र सरकार से मिली जानकारी के अनुसार, पिछले 24 घंटे में 22, 532 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई. जबकि, रिकवरी रेट महाराष्ट्र में 93.55 प्रतिशत है. बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र में लॉकडाउन के कारण ही कोरोना के ग्राफ पर असर दिखने को मिल रहा है.

वहीं, महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कोरोना के 695 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 5,15,091 हो गई है. साथ ही 52 मरीजों की मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक, जिले में कोरोना से मृत्यु दर 1.77 प्रतिशत है. इन सबके बीच, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि कोरोना संक्रमण के रोजाना आने वाले मामलों में कमी आने के बावजूद राज्य में उतने मामले आ रहे हैं, जितने पहली लहर के चरम पर आ रहे थे.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र के कुछ जिलों में कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं. सीएम ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता 12,500 मीट्रिक टन थी, जिसे बढ़ाकर 13,000 मीट्रिक टन किया गया. लेकिन, दैनिक जरूरत 17,000 मीट्रिक टन तक पहुंच गयी है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें