1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. ranchi coronavirus update despite the reserved order of 50 percent beds for corona patients these 4 hospitals in ranchi were not adhering ddc sent notice srn

कोरोना मरीजों को 50 प्रतिशत बेड आरक्षित वाले आदेश के बावजूद रांची के ये 4 अस्पताल नहीं कर रहे थे पालन, डीडीसी ने भेजा नोटिस

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
डीडीसी ने भेजा नोटिस रांची के 4 अस्पातालों को नोटिस
डीडीसी ने भेजा नोटिस रांची के 4 अस्पातालों को नोटिस
File Photo

Ranchi Corona Update News Today, 50 percent bed reserve for corona patient in ranchi रांची : कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए तथा राज्य सरकार द्वारा सभी अस्पतालों में 50 प्रतिशत बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित रखने का निर्देश दिया गया है. राज्य सरकार के आदेश पर मंगलवार को डीसी छवि रंजन व डीडीसी विशाल सागर ने सभी निजी अस्पताल प्रबंधकों के साथ वर्चुअल मीटिंग की. वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा दिये गये निर्देश के आलोक में 50% बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने संबंधी रिपोर्ट की समीक्षा की गयी.

समीक्षा में यह बात सामने आयी कि चार अस्पतालों के द्वारा अबतक 50 प्रतिशत बेड आरक्षित करने संबंधी रिपोर्ट समर्पित नहीं की गयी है. इस पर डीडीसी ने सभी अस्पताल प्रबंधकों को तत्काल नोटिस जारी किया. जारी आदेश में अस्पताल प्रबंधक को कहा गया है कि वे जल्द से जल्द 50% बेड आरक्षित करने का रिपोर्ट जिला प्रशासन को उपलब्ध करायें. अन्यथा आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जायेगी. जिन अस्पतालों को नोटिस जारी किया गया है उसमें मेडिका, मेदांता, सीसीएल गांधीनगर व सेवा सदन शामिल हैं.

जिनकी स्थिति बेहतर, उन्हें न दें बेड :

मीटिंग में सभी प्रबंधकों से आग्रह किया गया कि मरीजों के हालत को देखकर उन्हें बेड उपलब्ध कराया जायेगा. जिनको होम आइसोलेशन में रखा जा सकता है. वैसे मरीजों को अस्पताल बेड न दें.

मंगलवार को डीसी और डीडीसी ने सभी निजी अस्पताल प्रबंधकों के साथ वर्चुअल मीटिंग की

समीक्षा में यह बात सामने आयी कि चार अस्पतालों द्वारा अबतक 50 प्रतिशत बेड आरक्षित करने संबंधी रिपोर्ट समर्पित नहीं की गयी है

सेवा सदन का जवाब - 50 प्रतिशत से अधिक बेड किया आरक्षित

डीडीसी रांची द्वारा नोटिस किये जाने का जवाब नागरमल मोदी सेवा सदन ने दिया है. अपने जवाब में अस्पताल प्रबंधन ने लिखा है कि हमारा अस्पताल 180 बेड का है, साथ ही यह चेरिटेबल अस्पताल है. इसमें 40 बेड मातृ सेवा के लिए है. मां व शिशु की सुरक्षा को देखते हुए इसे कोरोना मुक्त रखना आवश्यक है. इस प्रकार से इस अस्पताल में 140 बेड ही उपलब्ध है. इन 140 बेडों में से 75 बेड को हमने कोविड मरीजों के लिए सुरक्षित रखा हुआ है. इस प्रकार से हमने 50 प्रतिशत से ज्यादा बेड कोविड मरीजों के लिए आरक्षित रखा है. अत: हमारे ऊपर आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत किसी तरह की कार्रवाई न की जाये.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें