1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand cabinet news 17 proposals approved these things are included including bell based teacher srn

झारखंड कैबिनेट में 17 प्रस्तावों को मंजूरी मिली, घंटी आधारित शिक्षक समेत ये चीजें हैं शामिल

झारखंड कैबिनेट ने राज्य के कॉलेजों में संविदा पर नियुक्त घंटी आधारित शिक्षकों को 31 मार्च 2022 तक अवधि विस्तार देने का फैसला किया है. इसके अलावा 17 अन्य प्रस्तावों को भी मंजूरी मिली है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
झारखंड कैबिनेट में 17 प्रस्तावों को मंजूरी मिली
झारखंड कैबिनेट में 17 प्रस्तावों को मंजूरी मिली
फाइल फोटो.

रांची : कैबिनेट ने राज्य के कॉलेजों में संविदा पर नियुक्त घंटी आधारित शिक्षकों को 31 मार्च 2022 तक अवधि विस्तार देने का फैसला किया है. विश्वविद्यालयों के स्नातकोत्तर विभागों व अंगीभूत महाविद्यालयों में स्वीकृत पदों के विरुद्ध रिक्त पदों पर नियुक्त कार्यरत शिक्षकों के पैनल को अवधि विस्तार प्रदान किया गया है. घंटी आधारित उक्त शिक्षकों को नियमित शिक्षकों की नियुक्ति में हो रहे विलंब के कारण अवधि विस्तार दिया गया है.

कैबिनेट सचिव वंदना डाडेल ने बताया कि कैबिनेट ने कुल 17 प्रस्तावों को मंजूरी प्रदान की. रांची के लिए पूर्व से स्वीकृत कांटा टोली फ्लाइओवर निर्माण की संशोधित योजना को स्वीकृति दी गयी है. अब कांटा टोली फ्लाइओवर का निर्माण बहुबाजार स्थित योगदा सत्संग आश्रम से शांति नगर, कोकर तक किया जायेगा. इसकी कुल लंबाई 2,240 मीटर होगी. इसके निर्माण के लिए 224.945 करोड़ लागत की परियोजना को मंजूरी प्रदान की गयी.

निर्माण कार्य की अवधि 24 माह निर्धारित की गयी है. वहीं कांके स्थित सुकुरहुटू मौजा में 49.81 एकड़ भूमि पर ट्रांसपोर्ट नगर निर्माण की योजना को मंजूर किया गया. योजना के फेज वन के लिए 113.24 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की गयी है. कैबिनेट ने झारखंड औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति 2016 में वाणिज्य कर विभाग से संबंधित बिंदुओं में संशोधन के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की.

इसके तहत राज्य में कैप्टिव ऊर्जा संयंत्र की स्थापना करनेवाली नयी व मौजूदा औद्योगिक इकाइयों को इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी पर पांच वर्षों के लिए 100 फीसदी भुगतान की छूट दी गयी है. वहीं, मेगा आइटी इकाइयों को भी पांच वर्षों के लिए विद्युत शुल्क में छूट प्रदान की गयी है. इससे राज्य सरकार को प्रतिवर्ष 5.5 करोड़ रुपये के राजस्व की क्षति होने का अनुमान है.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें